जब कारवां लूट गया, तब नींद से जागी शिवराज सरकार : कमलनाथ

जब कारवां लूट गया, तब नींद से जागी शिवराज सरकार : कमलनाथ
shivraj-sarkar-awakened-from-sleep-when-caravan-was-robbed-kamal-nath

भोपाल, 07 मई (हि.स.)। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आज जारी अपने बयान में बताया कि उनकी सरकार द्वारा कोरोना की महामारी के संक्रमण की शुरुआत को ही देखते हुए मार्च- 2020 में ही यह निर्णय लिया था कि कोरोना से संक्रमित समस्त मरीज चाहे वह आयुष्मान योजना का हितग्राही हो अथवा ना हो, उनका उपचार "आयुष्मान भारत निरामयम " से संबंध चिकित्सालय में होगा। इसको लेकर आदेश भी जारी कर दिया गया था लेकिन बड़े शर्म की बात है कि शिवराज सरकार विगत 14 माह से हमारी सरकार द्वारा लिए गए इस महत्वपूर्ण जनहितैषी निर्णय को आज तक लागू नहीं कर पाई और आज मुख्यमंत्री शिवराज जी बढ़-चढक़र आयुष्मान भारत योजना से लोगों के इलाज की झूठी घोषणा कर रहे हैं, इसको लेकर 250 निजी अस्पतालों से करार की बात कर रहे हैं, श्रेय की झूठी राजनीति कर रहे हैं, जनता को गुमराह कर रहे हैं? कमलनाथ ने कहा कि शिवराज सरकार की देरी के कारण इन 14 माह में हजारों गरीब-जरूरतमंद, हितग्राही अस्पतालों में लूटते रहे? इसकी दोषी शिवराज सरकार है और इसके लिये शिवराज जी को प्रदेश की जनता से माफ़ी मांगना चाहिये। यह सब भी आज उस समय किया जा रहा है जब प्रदेश में 6 लाख से अधिक लोग कोरोना संक्रमित हो चुके हैं, एक लाख के करीब एक्टिव मरीज मौजूद हैं और हजारों लोग अभी तक कोरोना से अपनी जान गवां चुके हैं ? पूर्व सीएम ने कहा कि कोरोना महामारी की पहली लहर से लेकर अभी मार्च से जारी दूसरी लहर के दौरान भी हजारों लोगों ने अपनी जीवन भर की पूंजी इलाज में गंवा दी, अपना सब कुछ लुटा दिया, पैसे के अभाव में इलाज के लिए दर-दर भटकते रहे, कई लोगों की जानें भी चली गई और आज जब संक्रमण दर कम होने की बात की जा रही है। पॉजिटिव रेट और रिकवरी रेट बढऩे की बात की जा रही है, केसों के घटने की बात की जा रही है, तब शिवराज सरकार आज नींद से जाग कर इस योजना को लागू करने की व लोगों के निशुल्क इलाज की बात कर रही है ? कमलनाथ ने कहा कि शिवराज सरकार हमारे द्वारा लिए गए इस निर्णय को 14 माह पूर्व ही प्रदेश में लागू कर देती तो आज हजारों-लाखों लोगों को इस योजना का फायदा मिल चुका होता लेकिन यह सरकार इस महामारी में भी आंख मूंदकर सोई रही, जनता भटकती रही, परेशान होती रही और जब अब दूसरी लहर को भी करीब ढाई माह हो चुके हैं और अब उससे शीघ्र राहत मिलने की बात की जा रही है तो यह सरकार नींद से जाग कर आयुष्मान भारत योजना ,आयुष्मान कार्ड धारी ,विशेष पैकेज और एंबुलेंस की बात कर रही है ? जबकि प्रदेश में अस्पतालों में आयुष्मान कार्ड धारियों को इलाज नहीं मिल रहा है , उन्हें भटकना पड़ रहा है। कमलनाथ ने आरोप लगाते हुए कहा कि यह सरकार हर मामले में देर से जागती है, जब कारवां लूट गया, तब यह नींद से जागते हैं, जब आग की लपटो ने सब कुछ बर्बाद कर दिया, तबाह कर दिया तो इन्हें कुआं खोदने की याद आ रही है ? नाथ ने कहा कि हमारी सरकार द्वारा लिए गए इस निर्णय को जिन लोगों ने इतने माह तक दबाए रखा और प्रदेश में लागू नहीं किया, उसका दोषी कौन है, यह भी सामने आना चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार/ नेहा पाण्डेय