देवास: अक्टूबर में शंकरगढ़ पहाड़ी पर होंगे तीन दिवसीय एडवेंचर स्पोर्टस
देवास: अक्टूबर में शंकरगढ़ पहाड़ी पर होंगे तीन दिवसीय एडवेंचर स्पोर्टस
मध्य-प्रदेश

देवास: अक्टूबर में शंकरगढ़ पहाड़ी पर होंगे तीन दिवसीय एडवेंचर स्पोर्टस

news

देवास, 31 जुलाई (हि.स.)। कलेक्टर चन्द्रमौली शुक्ला की अध्यक्षता में शुक्रवार को जिला पर्यटन संवर्धन परिषद की कार्यकारिणी समिति की बैठक हुई। इस दौरान कलेक्टर शुक्ला ने बताया कि शंकरगढ़ पहाड़ी पर तीन दिवसीय एडवेंचर स्पोर्टस का आयोजन अक्टूबर माह में किया जायेगा। इसके लिए उन्होंने संबंधित विभागों को पहाड़ी पर जाने का रास्ता, सीढ़ी, बिजली और पानी की व्यवस्था करने के निर्देश दिये। साथ ही क्षेत्र में मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करानेऔर शंकरगढ़ पहाड़ी पर स्थित छोटे तालाब को विकसित करने के निर्देश भी दिये गये। पहाड़ी के मैदान पर पौधारोपण किया जायेगा। कलेक्टर शुक्ला ने बताया कि शंकरगढ़ पहाड़ी को भविष्य में एडवेंचर पार्क के रूप में विकसित करने की योजना है। शंकरगढ़ पहाड़ी पर 65 एकड़ मैदानी क्षेत्र है। शंकरगढ़ पहाड़ी को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने पर देवास और आस-पास के शहरों के पर्यटक यहां आ सकेंगे। एडवेंचर ग्रुप के लिए आने वाले समय में सबसे अच्छा स्थान होगा। देवास के मीठा तालाब को भी विकसित कर एडवेंचर गतिविधियों के लिए तैयार किया जायेगा। इन स्थानों को विकसित करने से पर्यटन और रोजगार की सम्भावना बढ़ेगी। कलेक्टर शुक्ला ने बताया कि खिवनी अभ्यारण कन्नौद को इस तरह विकसित किया जायेगा कि लोग इसे मालवा के बांधवगढ अभ्यारण के रूप में जानेगे। इसकी भौगोलिक स्थिति ऐसी है कि यह भोपाल और इन्दौर से लगभग 100 किलोमीटर दूरी पर है। खिवनी अभ्यारण लगभग 135 वर्ग किलोमीटर में फैला है। उन्होंने पर्यटन विभाग को निर्देश दिये कि टेंट रूम और रिसोर्ट तथा डे-नाइट प्रायवेट सफारी जिप्सी की सुविधा पर्यटकों के लिए उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने बताया कि वर्तमान में जुलाई से सितम्बर तक अभ्यारण बंद रहता है। आगामी 01 अक्टूबर से पर्यटकों के लिए अभ्यारण खोला जायेगा। डीएफओ पीएन मिश्रा ने बताया कि खिवनी अभ्यारण में अभी 08 बाघ है। बाघ के अलावा यहां पर मुख्य रूप से तेंदुआ, चिंकारा, चीतल, सॉभर, नीलगाय, लंगूर और बंदर के अलावा विभिन्न प्रकार के पक्षी देखे जा सकते हैं। खिवनी अभ्यारण के उत्तर में अनेक पहाडियां एवं घाटिया हैं। उंची-नीची पहाडियों एवं घाटियों युक्त भोगोलिक स्थिति के कारण इसकी प्राकृतिक छटा अनुपम है। जामनेर नदी एवं अनेक छोटे-बडे नदी नाले नर्मदा बेसिन का भाग बनाते हैं। कलेक्टर शुक्ला ने पर्यटन विकास विभाग को निर्देश दिये कि अधिकारी देवास जिले में स्थित सभी पर्यटन स्थलों की ब्रोशर एवं बुक-लेट तैयार करे। ब्रोसर में देवास जिले की महत्वपूर्ण जानकारी का समावेश करे। देवास में फोटोग्राफी प्रतियोगिता का आयोजन करें। जिसमें फोटो कैमरा, ड्रोन और मोबाईल से खिचें गये अच्छे फोटोग्राफ का चयन कर उनको परस्कृत किया जायेगा। बैठक में जिला पंचायत सीईओ शीतला पटले, नगर निगम आयुक्त विशाल सिंह चौहान, डीएफओ पीएन मिश्रा, एडीएम प्रकाश सिंह चौहान, एएसपी जगदीश डावर के अलावा पर्यटन विभाग इन्दौर से अजय शर्मा सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश/केशव-hindusthansamachar.in