seriously-and-cautiously-try-to-prevent-corona-infection-principal-secretary-pallavi-jain
seriously-and-cautiously-try-to-prevent-corona-infection-principal-secretary-pallavi-jain
मध्य-प्रदेश

गंभीरता और सतर्कता से करें कोरोना संक्रमण की रोकथाम के प्रयास : प्रमुख सचिव पल्लवी जैन

news

सतना, 05 अप्रैल (हि.स.)। सतना जिले में पहले भी कोरोना संक्रमण की रोकथाम और उपचार के बेहतर प्रयास किये गये हैं। कोरोना संक्रमण के प्रसार को देखते हुये भविष्य की चुनौतियों को स्वीकार कर हमें और भी गंभीरता और सतर्कता से कोरोना संक्रमण की रोकथाम के प्रयास करने होंगे। यह निर्देश सोमवार को प्रदेश के जनजातीय विभाग की प्रमुख सचिव और सतना जिले की कोविड-19 प्रभारी पल्लवी जैन गोविल ने जिले के अधिकारियों के साथ कोविड-19 की समीक्षा बैठक में दिये। इस मौके पर कलेक्टर अजय कटेसरिया, पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह, आयुक्त नगर निगम तन्वी हुड्डा, सीईओ जिला पंचायत हरेन्द्र नारायण, अपर कलेक्टर सुश्री विमलेश सिंह, एसडीएम दिव्यांक सिंह, राजेश शाही, संस्कृति शर्मा, सुरेश अग्रवाल, पीएस त्रिपाठी, केके पाण्डेय, धीरेन्द्र सिंह, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ अशोक अवधिया, सिविल सर्जन डॉ सुनील कारखुर, डीपीएम निर्मला पाण्डेय, नोडल अधिकारी डॉ पीके श्रीवास्तव, डीएचओ डॉ चरण सिंह, डॉ विजय आरख, इपिडियिमोलॉजिस्ट डॉ प्रदीप गौतम तथा सभी बीएमओ भी उपस्थित थे। प्रमुख सचिव पल्लवी जैन गोविल ने जिले में कोरोना संक्रमण की स्थिति, फीवर क्लीनिक, सैम्पल टेस्टिंग, कोविड संक्रमण के नियंत्रण की कार्यवाहियां एवं प्रयास, होम आइसोलेशन एवं डेडीकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर में मरीजों की उपचार सेवायें, कोरोना वैक्सीनेशन की उपलब्धता और वैक्सीनेशन कार्य की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि होम आइसालेशन में रह रहे कोविड पेशेन्ट सहित उसके परिवारजनों की भी कौंसलिंग करें, ताकि संक्रमण से बचाव के लिये परिवार के सदस्य एहतियात बरत सकें। यदि कोई व्यक्ति होम आइसोलशन में नहीं रहना चाहे, तो उसे कोविड केयर सेंटर में रखें। किसी पॉजीटिव व्यक्ति के घर में पृथक कक्ष और टॉयलेट की व्यवस्था नही हो तो होम आइसोलेशन संस्थागत किये जाने पर प्राथमिकता दें। जिला अस्पातल के डेडीकेटेड हेल्थ सेंटर में आवश्यक उपकरण, दवाओं एवं उपचार सेवाओं की जानकारी लेते हुये प्रमुख सचिव ने कहा कि वार्ड और बाथरूम, शौचालयों की साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें। ऑक्सीजन ले रहे बेडेड पेशेन्ट के लिये टॉयलेट इत्यादि की उचित व्यवस्था की जाये। उन्होने मेडीकल ऑफीसरों एवं ब्लॉक मेडीकल ऑफीसरों के अनुभव साझा करते हुये कोरोना नियंत्रण और उपचार के संबंध में उनके सुझाव भी लिये। कलेक्टर अजय कटेसरिया ने जिले में कोरोना संक्रमण की स्थिति, नियंत्रण के प्रयास और उपचार सेवाओं की जानकारी में बताया कि जिले में अब तक एक लाख 11 हजार 594 सैंपल जांच के लिये भेजे गये। जिनमें 1 लाख 10 हजार 118 की रिपोर्ट मिली है। अब तक जिले में पॉजीटिव केस 3816 मिले हैं। जिनमें वर्तमान में 109 एक्टिव केस हैं। पॉजीटिविटी रेट 3.42 प्रतिशत है और रिकवरी रेट 96.02 प्रतिशत है। जिले में अब तक कोरोना से 43 मौत दर्ज हुई हैं। कलेक्टर कटेसरिया ने बताया कि ब्लॉक वाईज देंखे तो सबसे ज्यादा केस 46.6 प्रतिशत सतना अर्बन और मैहर के 14.3 प्रतिशत हैं। शेष विकासखंड में प्रतिशत का आंकड़ा दहाई तक नहीं पहुंच पाया है। प्रभावित उम्र समूह में सबसे ज्यादा 929 केस 21 से 30 वर्ष आयु समूह के हैं। फिर 788 केस 31 से 40 वर्ष आयु समूह के हैं। इसकी खास वजह माइग्रेन्ट लेबर हो सकती है। उन्होंने बताया कि 23 मार्च को 20 पॉजीटिव केस मिले थे। तब से अब तक जिले में कुल 109 पॉजीटिव केस हैं। पुलिस अधीक्षक धर्मवीर सिंह ने बताया कि लोगों में कोरोना से बचाव के प्रोटोकाल अपनाने, सख्ती बरती जा रही है। पुलिस द्वारा नियमित गस्त और चालानी कार्यवाही से सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क धारण करने में तेजी आई है। कोविड वैक्सीनेशन की जानकारी में कलेक्टर ने बताया कि जिले में अब तक कोविशील्ड की एक लाख 19 हजार 650 डोज और को-वैक्सीन की 14 हजार 960 डोज प्राप्त हुई है। जिनमें एक लाख 7 हजार 933 कोविशील्ड और 3638 को-वैक्सीन की डोज खपत हुई। जिले में 76 टीकाकरण साईट पर नियमित टीकाकरण किया जा रहा है। अब तक 99 हजार 518 को प्रथम डोज, 12 हजार 759 को द्वितीय डोज मिलाकर 1 लाख 12 हजार 277 डोज दी जा चुकी है। कलेक्टर ने बताया कि सतना शहर और मैहर शहर सहित सभी शहरी इलाके को वैक्सीनेशन के लिये प्राथमिकता दी जा रही है। नागौद शहर का माइक्रो-प्लान तैयार कर टीकाकरण शुरू किया गया है। प्रमुख सचिव पल्लवी जैन गोविल ने कहा कि 45 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के सभी पात्र व्यक्तियों का अभियान स्वरूप टीकाकरण करायें। टीकाकरण केन्द्रों की जानकारी के लिये व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाये। इसी प्रकार उन्होने स्वास्थ्य विभाग के अन्य वर्कर, एमपी डब्ल्यू, मलेरिया वर्कर, कुष्ठ कार्यकर्ता, एनएम, आफ्थोल्मिक असिस्टेंट एवं स्वास्थ्य कर्मचारियों को भी वैक्सीनेशन के कार्य में लगाने का सुझाव दिया। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश