अधिकारियों की प्रताडऩा से दुखी होकर जहर खाने वाले सीएसी ने तोड़ा दम

अधिकारियों की प्रताडऩा से दुखी होकर जहर खाने वाले सीएसी ने तोड़ा दम
saddened-by-the-harassment-of-the-officers-the-cac-who-consumed-poison-died

गुना, 11 जून (हि.स.)। बीआरसीसी गुना और एमएलबी स्कूल के सीएसी की कथित प्रताडऩा से परेशान होकर जहर खाने वाले शिक्षा विभाग के कर्मचारी ने आखिरकार बी देर रात भोपाल में उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। सीएसी चंद्रमोलेश्वर श्रीवास्तव की मौत के बाद शिक्षाकर्मियों में शोक के साथ आक्रोश की लहर फैल गई। घटना को लेकर मप्र अधिकारी-कर्मचारी संयुक्त मोर्चा द्वारा कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंपा। जिसमें घटना की उच्च स्तरीय जांच कर दोषी अधिकारी-कर्मचारियों पर सख्त कार्रवाई की मांग की। दरअसल एमएलबी स्कूल में पदस्थ सीएसी चंद्रमोलेश्वर श्रीवास्तव ने बीआरसी द्वारा स्कूल के पूर्व सीएसी की कथित प्रताडऩा से परेशान होकर गुरुवार को शिक्षा विभाग में ही जहरीला पदार्थ खा लिया था। घटना के बाद मौके पर पहुंची डायल-100 के कर्मचारियों ने उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया। जहां उनकी हालत लगातार बिगडऩे पर परिजन उन्हें भोपाल ले गए, जहां देर रात उनक मौत हो गई। घटना के बाद शिक्षाकर्मियों में जबर्दस्त आक्रोश फैल गया। मृतक द्वारा बीआरसी और सीएसी द्वारा किए जा रहे भ्रष्टाचार और अनियमितताओं की शिकायत आला अधिकारियों से की थी। जिसके बाद उक्त लोगों द्वारा उन्हें लगातार प्रताडि़त किया जाता रहा। गुना के बीआरसी से परेशान दर्जनों शिक्षकों ने गत दिवस सामूहिक इस्तीफे की भी चेतावनी देते हुए ज्ञापन सौंपा था। इधर घटना के बाद मप्र अधिकारी-कर्मचारी संयुक्त मोर्चा ने शुक्रवार को कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। जिसमें कहा गया कि चंद्रमोलेश्वर श्रीवास्तव चयनित जनशिक्षक द्वारा अपने संकुल पर जनशिक्षक का प्रभार दिलवाने का आवेदन दिया था। जिसमें उनके द्वारा अनेक बार आग्रह करने के बाद भी प्रभार नहीं दिया गया। विभाग के ही कुछ कर्मचारियों के द्वारा उन्हें लगातार प्रताडि़त किया जाता रहा। इसी से परेशान होकर उन्होंने गत दिवस बीईओ कार्यालय में जहर खा लिया। जहां उनका पहले गुना फिर भोपाल में उपचार के दौरान मौत हो गई। संयुक्त मोर्चा ने घटना की उच्च स्तरीय जांच कराकर दोषी अधिकारी-कर्मचारियों पर एफआईआर कर कार्रवाई की मांग की। ज्ञापन देने वालों में मोर्चा अध्यक्ष आलोक नायक, अनिल भार्गव, मनोहर सिलावट, आरके व्यास, नरेन्द्र भार्गव आदि सहित अन्य शामिल हैं। वहीं मप्र कर्मचारी कांगे्रस द्वारा भी अध्यापक साथी की मौत पर कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर दोषियों पर सख्त कार्रवाई की मांग की। इसके अलावा कर्मचारी कांग्रेस द्वारा पुराने कलेक्टोरेट स्थित संगठन के कार्यालय पर बैठक आयोजित कर स्व. श्रीवास्तव को श्रद्धांजलि दी। अधिकारियों से मिला समाज का प्रतिनिधि मंडल घटना के खिलाफ चित्रगुप्त मंदिर ट्रस्ट गुना का प्रतिनिधि मंडल जिले के प्रशासनिक अधिकारियों से मिला और मामले में सख्त कार्रवाई की मांग की। समाज के प्रतिनिधि मंडल ने प्रभारी कलेक्टर विवेक रघुवंशी, डीपीसी सोनम जैन, एसडीएम अंकिता जैन एवं एएस टीएस बघेल से मुलाकात की। इस मौके पर अधिकारियों ने उचित कार्रवाई का आश्वासन देते हुए बताया कि बीआरसी सोलंकी, सीएसी छारी एवं लिपिक रामस्वरूप शर्मा को निलम्बित कर दिया गया है। एक और कर्मचारी का निलंबन जल्द किया जाएंगा। वहीं प्रशासन खुद एफआईआर दर्ज कराएगा। भोपाल से पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर आरोपियों पर आगे की सख्त कार्यवाही की जाएगी। प्रशासन ने यह भी कहा किसी प्रकार के धरने आंदोलन की जरूरत नहीं है। इस मामले में निष्पक्ष कार्यवाही निश्चित तौर पर होगी। धारा 144 का सभी पालन करें। वहीं मामले में स्व. चंद्रमोलेश्वर के भाई विशम्भर श्रीवास्तव एफआईआर दर्ज कराने पहुंचे। हिन्दुस्थान समाचार / अभिषेक