कोरोना वायरस की चेन तोड़ने मुहिम चलाएं

 कोरोना वायरस की चेन तोड़ने मुहिम चलाएं
run-a-campaign-to-break-the-corona-virus-chain

हरदा, 29 अप्रैल (हि.स.)। महामारी के इस संकटकाल में प्रदेश सरकारें युद्ध स्तर पर प्रयास कर रही हैं। मरीजों के इलाज की व्यवस्था के साथ स्वस्थ लोगों को इस बीमारी से बचाने की दोहरी जिम्मेदारी सरकार उठा रही हैं। इसके लिए अभी.अभी लगाए गए लॉकडाउन के अब सपरिणाम भी सामने आने लगे हैं। यदि कुछ दिन और इस पर सख्ती से अमल किया तो हम अपने देश को जल्द ही कोरोना मुक्त बना लेंगे। यही वजह है कि प्रशासन के अधिकारी कार्रवाई करने के साथ लोगों को जागरूक भी कर रहे हैं। ताकि वायरस की चेन तोड़ी जा सके। होमगार्ड कंपनी के कमांडर बीएस ठाकुर ने कहा कि हमें फिजीकल डिस्टेंस के नियमों का पालन करना चाहिए। हमने भीड़भाड़ वाले कार्यक्रमों में जाने से यदि परहेज कर लिया तो यह जंग जीतने में कामयाब हो जाएंगे। इससे हम आसपास यह वायरस को फैलने से रोक सकेंगे और कोरोना आगे नहीं फैल सकेगा। बीएस ठाकुर ने कहा कि आज घरों में रहना ही सबसे अधिक सुरक्षित उपाय है। कोरेंटाइन करने का मकसद भी यही है कि बीमारी फैलने न पाए। स्थानीय गवर्नमेंट कॉलेज में लायब्रेरी के इंचार्ज व्हीके बिछोतिया ने कहा कि कोरोना वायरस एक वैश्विक महामारी है। इससे बचने के लिए हमें स्वास्थ्य विभाग द्वारा दी गई गाइडलाइन का पालन करना जरूरी है। इससे बचने के लिए डबल लेयर का मास्क लगाएं। हमने यह लगाना शुरू कर दिया तो वायरस से बचे रहेंगे। शहरी हो या ग्रामीण क्षेत्र यह खूब फैल रहा क्योंकि लोग नियमों पर ध्यान नहीं दे रहे। व्हीके बिछोतिया ने कहा कि आज कुछ माह हमने गाइड लाइन पर ध्यान दे दिया तो काफी लाभ होगा। खिड़किया महिला एवं बाल विकास अधिकारी वंदन वाला सिंह ने कहा कि आज हमें स्वयं को इस बीमारी से बचाना है। यदि हम इसमें कामयाब हो जाते हैं तो अपने साथ हम परोक्ष रूप से दूसरों को भी बचा लेंगे। उन्होंने कहा कि हमें प्रयास करन है कि यह वायरस आसपास नहीं फैले। बीमारी के संक्रमण से बचने अपने घरों पर रहें। यदि कभी बाहर जाएं तो मास्क लगाकर सोशल डिस्टेंसिंग रखें। इस तरह जिले के अधिकारी और जनप्रतिनिधियों के साथ आम समाजसेवी नागरिक लोगों को समझाइश देकर कोरोना बीमारी के प्रति लोगों को जागरूक कर रहे हैं। माध्यमिक शिक्षा बोरी के ज्ञानसिंह परते ने कहा कि कोरोना का संक्रमण रोकना हमारे लिए अहम चुनौती है। इसको हराने हमें नियमों पर ध्यान देना होगा। यह बीमारी उन स्थानों पर कंट्रोल हुई जह लोगों ने नियमों पर ध्यान दिया है। लॉकडाउन के नियम का पालन से यह बीमारी खत्म होगी। इससे बचने के लिए हमें मिलकर सामूहिक प्रयास करना होगा। आज केवल लापरवाही बरतने से मरीज बढ़ रहे हैं। बड़ी संख्या में लोगों का एक साथ इलाज करने में समस्या आ रही है। इसल सावधानी में ही सुरक्षा है। हिन्दुस्थान समाचार/प्रमोद सोमानी