अंतर्राष्ट्रीय समपार फाटक जागरुकता सप्ताह के तहत सड़क उपयोगकर्ताओं को किया गया जागरुक

 अंतर्राष्ट्रीय समपार फाटक जागरुकता सप्ताह के तहत सड़क उपयोगकर्ताओं को किया गया जागरुक
road-users-made-aware-under-international-level-crossing-gate-awareness-week

रतलाम, 11 जून (हि.स.)। पश्चिम रेलवे रतलाम मंडल पर अंतर्राष्ट्रीय समपार फाटक जागरुकता सप्ताह के अवसर पर संरक्षा विभाग के अधिकारियों द्वारा समपार फाटक पार करने के बारे में सड़क उपयोगकर्ताओं को जागरुक किया गया। मंडल रेल प्रवक्ता जितेन्द्र कुमार जयंत ने शुक्रवार को बताया कि अंतर्राष्ट्रीय समपार फाटक जागरूकता दिवस के उपलक्ष्य में मंडल रेल प्रबंधक रतलाम मंडल के मार्गदर्शन में संरक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ ही साथ संरक्षा से जुड़े सभी विभागों के अधिकारियों, पर्यवेक्षकों एवं कर्मचारियों द्वारा विभिन्न समपार फाटकों पर अभियान चलाकर लोगों को जागरूक किया गया। इसके तहत अलग-अलग टीम का गठन कर रतलाम मंडल में रतलाम-चित्तौडग़ढ़, रतलाम-नागदा-उज्जैन-भोपाल, उज्जैन-इंदौर-डॉ अम्बेडकर नगर, रतलाम-गोधरा सहित सभी रेल खंडों में समपार फाटकों पर सड़क उपयोगकर्ताओं को समपार फाटक पार करने हेतु जागरुक किया गया । इसके तहत ऑडिया क्लीप एवं पोस्टर/बैनर के माध्यम से सड़क उपयोगकर्ताओं को रेलवे समपार फाटक पार करने हेतु रेलवे नियमों की जानकारी दी गई तथा लोगों को यह भी बताया गया कि गैरकानूनी रूप से समपार फाटक पर करना एक दंडनीय अपराध है और उल्लंघन करने पर रेल अधिनियम 1989 की धारा 146, 147 एवं 160 के अंतर्गत कानूनी कार्यवाही की जा सकती है। अंतर्राष्ट्रीय समपार फाटक जागरुकता दिवस के अवसर पर रतलाम मंडल पर लगभग 2000 से अधिक सड़क उपयोगकर्ताओं को नियमों की जानकारी दी गई। रेलवे स्टेशनों पर समपार फाटक पार करने संबंधित ऑडियो एवं वीडिया क्लीप प्रसारित कर यात्रियों को भी जागरुक किया गया। इस प्रकार के जागरुकता अभियान का मुख्य उद्देश्य लोगों को समपार फाटक पार करने के नियमों की जानकारी देना है ताकि किसी प्रकार की दुर्घटना घटित नहीं हो। हिन्दुस्थान समाचार / शरद जोशी