प्रदेश भाजपा कार्यसमिति में रतलाम को भी मिला स्थान

प्रदेश भाजपा कार्यसमिति में रतलाम को भी मिला स्थान
ratlam-also-got-a-place-in-the-state-bjp-working-committee

रतलाम, 09 जून (हि.स.)। लम्बे अरसे बाद भारतीय जनता पार्टी की प्रदेश कार्यसमिति की घोषणा मंगलवार रात को की गई। पहले सूची में नाम के आगे जाति का उल्लेख भी किए जाने से विवाद की स्थिति निर्मित होने की जानकारी मिली तब ताबड़तोड़ संशोधित सूची जारी कर सदस्यों के आगेे जाति हटाकर नई सूची जारी की गई। नई सूची में रतलाम के कई पुराने वरिष्ठ नेताओं के नाम नदारद पाए गए। समिति में ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थकों को भी शामिल किया गया है। कुछ नाम ऐसे भी समिति में देखे गए जिन पर लोगों को आश्चर्य हुआ है, लेकिन संगठन की रीतिनीति के कारण लोग विरोध करने की बजाए लोग खामोश है। समिति में रतलाम के विधायक चेतन्य काश्यप के साथ ही भाजयुमों के पूर्व जिलाध्यक्ष एवं निगम अध्यक्ष रहे अशोक पोरवाल का नाम भी शामिल है, जबकि राजेन्द्र पाण्डेय के सामने सिंधिया गु्रप के जावरा में विधायक का चुनाव लड़ चुके के के.के.सिंह कालुखेड़ा को भी कार्यसमिति में स्थान दिया गया है, वे वर्तमान में उज्जैन दुग्ध संघ के संचालक है। जावरा के विधायक डा. राजेन्द्र पाण्डेय, पूर्व जिलाध्यक्ष कानसिंह चौहान जावरा, रतलाम की पूर्व महापौर आशा मौर्य को पुन: कार्यसमिति में विशेष आमंत्रित के रुप में शामिल किया गया है। इनके साथ ही समिति में सिंधिया समर्थक निमिष व्यास रतलाम को भी लिया गया है। यह पूर्व निगम पार्षद है। इस बार कार्य समिति में कई वरिष्ठ लोगों की विदाई हो गई है, जो आश्चर्य से देखा जा रहा है। कई वर्षों तक मंत्री रहे हिम्मत कोठारी, पूर्व जिलाध्यक्ष बजरंग पुरोहित, कृषक आयोग के अध्यक्ष रहे ईश्वरलाल पाटीदार इस बार कार्यसमिति सूची में नजर नहीं आए। अब लोगों को उम्मीद बन रही है कि प्रदेश कार्यसमिति की घोषणा के बाद अब जिला इकाई कार्यसमिति की घोषणा भी शीघ्र होगी। एक लम्बे अरसे से कार्यसमिति का इंतजार है,लेकिन पता नहीं क्यों कार्यसमिति घोषित नहीं हो पा रही है, जबकि सूत्रों के अनुसार कभी सेे जिले से सूची भेजी जा चुकी है। सूची में विलम्ब का कारण यह बताया जा रहा है कि नेताओं की पसंद-नापसंद के कारण ही प्रदेश हाईकमान सूची को अंतिम रुप नहीं दे पा रहा है। हिन्दुस्थान समाचार / शरद जोशी