prisoner-of-life-imprisonment-dies-during-treatment
prisoner-of-life-imprisonment-dies-during-treatment
मध्य-प्रदेश

आजीवन कारावास के कैदी की इलाज के दौरान मौत

news

कोर्ट में सजा सुनाए जाने के बाद खाया था जहरीला पदार्थ रीवा, 24 फरवरी (हि.स.)। आजीवन कारावास के सजायाफ्ता यूपी निवासी की इलाज के दौरान मौत हो गई है। यूपी के नरैनी जिला बांदा निवासी आरोपित को गत दिसव जैसे ही आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई, उसने जहरीला पदार्थ खाकर खुदकुशी करने की कोशिश की थी। गंभीर अवस्था में उसे संजय गांधी अस्पताल में भर्ती किया गया था, जहां उसने बुधवार को दम तोड़ दिया। धारा 302 के अभियुक्त अनिल शिवहरे की मौत की सूचना पाकर मौके पर पहुंचे परिजनों ने बताया कि 2017 में पन्ना जिले के भदैया में हुई हत्या के मामले में पुलिस ने 6 लोगों को आरोपित बनाया था। उस मामले में एक व्यक्ति अभी भी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। पन्ना के जिला एवं सत्र न्यायालय के प्रथम श्रेणी न्यायाधीश अनुराग द्विवेदी ने 22 फरवरी की शाम 5 बजे उसे आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। आजीवन कारावास की सजा सुनाए जाने के बाद अनिल शिवहरे ने न्यायालय परिसर में ही जहर खाकर आत्महत्या करने की कोशिश की थी। मौके पर मौजूद परिजन व पुलिस कर्मियों ने उसे इलाज के लिए जिला अस्पताल पन्ना ले गए, जहां हालत गंभीर होने की सूरत में उसे इलाज के लिए संजय गांधी अस्पताल रेफर किया गया था। संजय गांधी अस्पताल में तैनात सीएमओ डॉ अतुल सिंह के मुताबिक अनिल शिवहरे को आजीवन कारावास की सजा हुई थी लिहाजा उसका पीएम संजय गांधी अस्पताल के बजाय श्याम शाह चिकित्सा महाविद्यालय रीवा में तैनात पांच चिकित्सक दल ने किया। साथ ही पोस्टमार्टम की वीडियो रिकॉर्डिंग भी कराई गई है। हिन्दुस्थान समाचार / विनोद शुक्ल