पंचायत सचिवों ने मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन

पंचायत सचिवों ने मांगों को लेकर सौंपा ज्ञापन
panchayat-secretaries-submitted-memorandum-regarding-demands

मांग पूरी नही होने पर दी आंदोलन की चेतावनी शाजापुर (हि.स.) 07 मई। मध्यप्रदेश सचिव/सहायक सचिव संगठन ने अपनी विभिन्न मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा। शुक्रवार को सचिव जनपद कार्यालय शाजापुर पहुंचे और मुख्य कार्यपालन अधिकारी बाबूलाल पंवार को कलेक्टर के नाम ज्ञापन दिया। दिए गए ज्ञापन में कहा गया है कि सचिव और सहायक सचिव पंचायतों में कोरोना महामारी के बीच अपनी जान और परिवार की परवाह किए बिना कार्य कर रहे हैं। शासन द्वारा 5 अप्रैल 2021 को जिला कलेक्टर को पंचायत सचिव, सहायक सचिव सहित ग्रामीण विकास के अमले को जिलावार कोरोना योद्धा के अन्तर्गत पात्रकर्मी घोषित करने के आदेश जारी करने के निर्देश जारी किए हैं, लेकिन इसके बाद भी जिम्मेदारों द्वारा कोरोना योद्धा के नाम पर सचिवों के साथ आंख मिचौली की जा रही है। जबकि महामारी के बीच ड्यूटी करते हुए मध्य प्रदेश में करीब 50 से अधिक सचिव, सहायक सचिवों की मृत्यु हो चुकी है। यही कारण है कि लिखित ड्यूटी आदेश जारी किए बिना वाट्सअप मैसेज के माध्यम से सचिवों से काम कराया जा रहा है। ज्ञापन में मांग की गई है कि शासन स्तर से कोरोना योद्धा के आदेश के नाम पर आंख मिचौली ना करते हुए स्पष्ट आदेश जारी किए जाएं, प्रदेशभर में सचिवों एवं सहायक सचिवों से वाट्सअप मैसेज से कोरोना संक्रमण के दौरान ड्यूटी कराई जा रही है, सक्षम अधिकारी से ड्यूटी आदेश जारी कराए जाएं। आज दिनांक तक दिवंगत हुए सचिव एवं सहायक सचिवो के परिजनों को तत्काल 50-50 लाख रुपए की क्षतिपूर्ति राशि का भुगतान किया जाए। साथ ही ज्ञापन में चेतावनी दी गई है कि यदि 09 मई 2021 तक समस्या का निराकरण नहीं किया गया तो प्रदेश भर के सचिव, सहायक सचिव 10 मई 2021 से काम, कलम एवं कार्यालय बंद करके अपने परिवार की चिंता करते हुए अपने घर पर रहेंगे। ज्ञापन देते समय मध्यप्रदेश सचिव संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष तोलाराम खींची, नाथूसिंह, ओमप्रकाश विश्वकर्मा, मनोहर प्रजापति, मांगीलाल, कैलाश परमार, ओमप्रकाश सोन्ती तथा सीताराम मालवीय आदि उपस्थित थे। हिन्दुस्थान समाचार/मंगल नाहर