अतिवृष्टि और बाढ़ से निबटने हेतु अलर्ट मोड पर रहें अधिकारी : कलेक्टर

 अतिवृष्टि और बाढ़ से निबटने हेतु अलर्ट मोड पर रहें अधिकारी : कलेक्टर
officers-should-be-on-alert-mode-to-deal-with-heavy-rains-and-floods-collector

गुना, 16 जून (हि.स.) । अतिवृष्टि एवं बाढ़ की संभावना को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में कलेक्टर फ्रेंक नोबल ए की अध्यक्षता में जिला आपदा प्रबंधन समिति की बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में एसपी राजीव कुमार मिश्रा, जिपं सीईओ निलेश परीख, एडीएम विवेक रघुवंशी, संयुक्त कलेक्टर संजीव केशव पाण्डे, डिस्ट्रिक्ट कमांडेंट होमगार्ड, डिप्टी कलेक्टर सोनम जैन, एसडीएम अंकिता जैन, एएसपी टीएस बघेल, सीएमएचओ डॉ. पी.बुनकर सहित पुलिस एवं होमगार्ड विभाग के अधिकारी उपस्थित रहे। सभी एसडीएम, बीएमओ, सभी सीएमओ, समस्ती तहसीलदार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबंद्ध रहे। बैठक में सर्वप्रथम संयुक्त कलेक्टर पाण्डे ने सर्वाधिक संवेदनशील ग्रामों के बारे में जानकारी दी। कलेक्टर ने अतिवृष्टि एवं बाढ़ की संभावना को दृष्टिगत रखते हुए नगर पालिका को नाले की साफ-सफाई के निर्देश दिए। उन्होंंने राजस्व विभाग एवं जनपद पंचायत को निर्देशित किया कि ग्रामों में सुरक्षित भवनों तथा स्थलों का चयन किया जाये, ताकि अस्थाई कैंप लगाया जा सके। कलेक्टर ने वर्षा को ध्यान में रखते हुए खाद्य आपूर्ति विभाग को राशन की दुकानों में खाद्यान्न की उपधब्ता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। कलेक्टर ने स्वास्य विभाग एवं महिला एवं बाल विकास विभाग को निर्देशित करते हुए कहा कि गर्भवती महिलाओं के पोषण आहार, त्वरित उपचार तथा गंभीर रोगग्रस्त मरीजों की पहचान सुनिश्चित करते हुए उनका चिन्हांकन किया जाये। एसपी मिश्रा ने कहा कि पुलिस अधिकारी वास्तविक स्थिति के हिसाब से सतर्क रहें। चौकीदार से निरंतर संपर्क बनाये रखें। किसी भी स्थिति से निबटने के लिए तत्कारल एक्शन लें। आपके क्षेत्र अंतर्गत जो मशीनरी जेसीबी, ट्रेक्टर-ट्राली, पोकलेन आदि हैं, उनकी तथा उनके चालकों की सूची एवं मालिकों के मोबाइल नंबर पहले से ही लेकर रख लें। स्थानीय स्तर पर मछुआरे, केवट, समाजसेवी संस्थाओं आदि से संपर्क कर उनका सहयोग लें। बैठक में दिए गए प्रमुख निर्देश - नदियों के बीच में टापुओं पर बने मंदिरों के पुजारियों को बुलाकर समझाइश दें। नदी में पानी के बढऩे के पहले ही उन्हें बाहर निकलने के लिए राजी करें। - नगर पालिका क्षेत्रों में नाले, नालियों की सफाई वर्षा पूर्व सुनिश्चित करें। जलभराव के क्षेत्रों पर निगरानी रखें। - जल संसाधन विभाग गोपी सागर बांध तथा सिंध नदी के बांध पर पानी बढऩे तथा पानी छोडऩे के पूर्व सूचना प्रशासनिक अधिकारियों को दें। जिससे एहतियाती उपाय किये जा सकें। - बाढ़ संभावित गांवों के बीमार व्यक्तियों व गर्भवती महिलाओं की सूची रखें। - आपदा के समय लगने वाली सभी सामग्री कितनी है, कहां किसके पास है, इसकी सूची व संबंधित व्यक्ति का मोबाइल नंबर की जानकारी कमांडेंट होमगार्ड एकजाई कर रखें। -लोक निर्माण विभाग जर्जर भवनों की सूची तैयारी कर एसडीएम को दें। जिससे उनके डिस्मेंटल की कार्यवाही की जा सके। - अतिवृष्टि के समय रपटों व पुल-पुलियों के ऊपर चलने वाले पानी से दुर्घटना बचाव हेतु दोनों ओर चेतावनी बोर्ड लगाएं। - नदी में बाढ़ के पानी की स्थिति में ओव्हर फ्लो की स्थिति में पुल-पुलियों तथा रपटों से बसें न निकलें, आरटीओ इस संबंध में कार्यवाही कर बस मालिकों को पाबंद करें। - आरईएस विभाग के कार्यपालन यंत्री नवीन तालाबों के रख-रखाव के संबंध में निर्देश जारी करें। हिन्दुस्थान समाचार / अभिषेक

अन्य खबरें

No stories found.