number-of-corona-beds-to-be-increased-in-emergent-situation-principal-secretary-shukla
number-of-corona-beds-to-be-increased-in-emergent-situation-principal-secretary-shukla
मध्य-प्रदेश

आकस्मिक स्थिति में बढ़ाई जाए कोरोना बेड की संख्या: प्रमुख सचिव शुक्ल

news

उज्जैन, 05 अप्रैल (हि.स.)। प्रदेश के औद्योगिक नीति एवं निवेश संवर्धन प्रोत्साहन विभाग के प्रमुख सचिव एवं उज्जैन जिले के कोविड प्रभारी संजय शुक्ल ने सोमवार को जिले में कोविड नियंत्रण के लिये किये जा रहे कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने उज्जैन में की जा रही व्यवस्थाओं पर संतोष व्यक्त किया तथा निर्देश दिये कि आकस्मिक स्थिति में कोरोना बेड की संख्या बढ़ाई जाए। समीक्षा बैठक के बाद उन्होंने सरस्वती शिशु मन्दिर स्थित वैक्सीनेशन सेन्टर एवं महानन्दा नगर में होम क्वारेंटाईन किये गये कोरोना पॉजिटिव मरीज के परिजनों से बातचीत कर शासन द्वारा दी जा रही सुविधाओं की जानकारी ली। बैठक में संभागायुक्त संदीप यादव, कलेक्टर आशीष सिंह, पुलिस अधीक्षक सत्येन्द्र कुमार शुक्ल, जिला पंचायत सीईओ अंकित अस्थाना, अपर कलेक्टर अवि प्रसाद, सुजानसिंह रावत, जितेन्द्रसिंह चौहान, सीएमएचओ डॉ. महावीर खंडेलवाल मौजूद थे। बैठक में पीपीटी के माध्यम से कलेक्टर आशीष सिंह ने उज्जैन जिले में कोरोना महामारी नियंत्रण के लिये किये जा रहे कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जिले में शासकीय एवं निजी अस्पतालों में मिलाकर कुल 842 बेड की व्यवस्था उपलब्ध है। बताया गया कि जिले में कोरोना से बचाव के लिये मास्क पहनकर घरों के बाहर निकलने का अभियान चलाया जा रहा है। मास्क नहीं पहनने वाले व्यक्तियों पर स्पॉट फाइन एवं अस्थाई जेल में बन्द करने जैसी कड़ी कार्यवाही भी की जा रही है। बैठक में प्रमुख सचिव ने कहा कि इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के सहयोग से निजी चिकित्सालयों में मरीजों से ली जाने वाली फीस तथा सिटी स्केन की फीस का युक्तियुक्तकरण करवाया जाये, जिससे कोरोना मरीजों को राहत मिले। वैक्सीनेशन सेन्टर का दौरा किया प्रमुख सचिव संजय शुक्ल ने सरस्वती शिशु मन्दिर स्थित वैक्सीनेशन सेन्टर का दौरा किया तथा वहां पर वेक्सीन लगवाने आये व्यक्तियों से चर्चा की। उन्होंने वैक्सीनेशन सेन्टर पर की गई व्यवस्थाओं पर संतोष जताया। इसी तरह प्रमुख सचिव महानन्दा नगर स्थित कोरोना पॉजिटिव मरीज के घर गये। यहां पर उन्होंने कोरोना मरीज के परिजन से चर्चा की। चर्चा में बताया गया कि कंट्रोल रूम से बराबर मरीज की स्थिति के जांच के लिये फोन आते रहते हैं। होम क्वारेंटाईन मरीज घर पर ही रहकर अपना उपचार करवा रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश