पेड़ की छांव में दो राज्यों की सीमा की निगरानी, चेकपोस्ट पर नहीं लगे तम्बू

पेड़ की छांव में दो राज्यों की सीमा की निगरानी, चेकपोस्ट पर नहीं लगे तम्बू
monitoring-of-border-of-two-states-in-tree-shade-tent-not-installed-on-check-post

-बिना सुविधाओं के संचालित हो रहा जांच नाका अनूपपुर, 26 अप्रैल (हि.स.)। कोरोना संक्रमण में छत्तीसगढ़ की सीमा से मध्यप्रदेश की सीमावर्ती जिले अनूपपुर में लोगों की आवाजाही और उनके स्वास्थ्य जांच पर निगरानी के लिए तैनात अमले के लिए स्थानीय प्रशासनिक अधिकारियों की उदासीनता सामने आई है। जिसमें अनूपपुर जनपद पंचायत के ग्राम बरतराई में सीमा में आने जाने वाले व्यक्तियों की थर्मल स्कैनिंग तथा जांच के लिए प्रारंभ किए गए जांच चौकी में मूलभूत सुविधाओं का अभाव है। यहां तैनात हुए पुलिस, राजस्व, और स्वास्थ्य सेवा कर्मचारियों के लिए छांव तक की व्यवस्था नहीं हैं, यहीं नहीं उनके लिए पानी की सुविधा का भी ख्याल नहीं रखा गया। इसके कारण आज भी वहां तैनात कर्मचारी खुले आसमान के नीचे गर्मियों में ड्यूटी करने को मजबूर हैं। प्रतिदिन यहां पुलिस तथा स्वास्थ्य विभाग एवं राजस्व विभाग के कर्मचारी 24 घंटे तीन शिफ्ट में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। जिसके लिए अब तक ना तो टेंट और पानी जैसे सुविधा मुहैया कराई गई है। तैनाती के बीते 14 दिन के बाद भी अधिकारी बेसुध- बताया जाता है कि 10 अप्रैल से यहां पर कलेक्टर के निर्देश में जांच चौकी प्रारंभ की गई है। आज निगरानी टीम की सेवा के 15 दिन बीत गए हैं। बताया जाता है कि रामनगर थाना द्वारा नायब तहसीलदार से बार बार टेंट की अपील की गई थी। लेकिन आजतक अधिकारियों ने बेसुधगी नहीं छोड़ी। जानकारी के अनुसार सोमवार को संभागायुक्त के निरीक्षण में यह बात सामने आई थी, जिसमें संभागायुक्त ने तम्बू सहित अन्य सुविधाओं के लिए निर्देश दिए थे। आरोप है कि विभागीय अधिकारियों द्वारा एक ही कार्य में लगे कर्मचारियों को सुविधा देने में दोहरा बर्ताव किया जा रहा है। जहां एक ओर मनेंद्रगढ़ मुख्य मार्ग पर स्थित राजनगर चेक पोस्ट में टेंट लगाया गया है, वहीं दूसरी ओर ग्रामीण क्षेत्र में स्थित बरतराई चेक पोस्ट पर कर्मचारी पेड़ की छांव में ड्यूटी निभा रहे हैं। हिन्दुस्थान समाचार/ राजेश शुक्ला