डॉ. मुखर्जी के सपने व संकल्प को प्रधानमंत्री मोदी ने किया साकार: सांसद शेजवलकर
डॉ. मुखर्जी के सपने व संकल्प को प्रधानमंत्री मोदी ने किया साकार: सांसद शेजवलकर
मध्य-प्रदेश

डॉ. मुखर्जी के सपने व संकल्प को प्रधानमंत्री मोदी ने किया साकार: सांसद शेजवलकर

news

ग्वालियर,06 जुलाई (हि.स.)। भारतीय जनसंघ के संस्थापक डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी की जयंती पर सोमवार को भाजपा नेताओं ने फूलबाग स्थित उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धासुमन अर्पित किए। इस दौरान सांसद विवेक नारायण शेजवलकर ने उन्हें स्मरण और नमन करते हुए कहा कि डॉ. मुखर्जी ने एक देश में दो विधान, दो प्रधान और दो निशान नहीं चलेंगे का नारा दिया और कश्मीर को भारत का अभिन्न अंग बनाने के लिए अपने प्राणों की आहूति दे दी। लोग कहते थे कि जम्मू-कश्मीर से धारा-370 को हटाना सिर्फ एक नारा है, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह ने आज डॉ. श्यामाप्रसाद मुखर्जी के सपने और संकल्प को साकार करके दिखाया। ऐसे महान राष्ट्रभक्त व अमर शहीद डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी जी की जयंती पर हम उनके चरणों में कोटि-कोटि वंदन करते हैं। पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया ने कहा कि डॉ. मुखर्जी का सम्पूर्ण जीवन त्याग व राष्ट्र समर्पण से परिपूर्ण रहा है, जो हम सभी के लिए प्रेरणास्त्रोत है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी की सरकार डॉ. मुखर्जी के सपनों को साकार कर भारत को विश्व गुरु बनाने का सफल प्रयास कर रही है। डॉ. मुखर्जी के जयंती के अवसर पर भारतीय जनता पार्टी का हर एक कार्यकर्ता संकल्पित है और हम अपने देश की एकता और अखंडता के लिए सर्वस्व न्यौछावर करेंगे। इस अवसर पर पूर्व मंत्री श्रीमती माया सिंह, जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी, पूर्व विधायक मुन्नालाल गोयल, पूर्व जीडीए अध्यक्ष अभय चौधरी, पूर्व साडा अध्यक्ष राकेश जादौन, राकेश माहौर, डॉ. सतीश सिकरवार, जयप्रकाश राजोरिया, राजेश दुबे, जितेंद्र गुर्जर, उदय अग्रवाल, अशोक बांदिल, अखिल शर्मा, पवन कुमार सेन आदि उपस्थित रहे। बाबू जगजीवनराम जी को अर्पित की श्रद्धांजलि: वहीं बाबू जगजीवनराम जी की पुण्यतिथि पर भाजपा नेताओं ने फूलबाग स्थित प्रतिमा पर माल्यार्पण कर श्रद्धांजलि अर्पित की। इस दौरान सांसद विवेक शेजवलकर ने कहा कि आजादी के आंदोलन के दौरान जिन नेताओं ने भारत के भविष्य को गढऩे में ऐतिहासिक योगदान दिया, उनमें बाबू जगजीवन राम का नाम अगली पंक्ति में शामिल है। आज भी जब हम बाबूजी का जिक्र करते हैं तो 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध की याद आना स्वाभाविक है। एक सफल रक्षा मंत्री के तौर पर बाबू जगजीवन राम ने पाकिस्तान को बुरी तरह परास्त करने में बड़ी भूमिका निभाई थी। इस दौरान पूर्व मंत्री जयभान सिंह पवैया, श्रीमती माया सिंह, जिलाध्यक्ष कमल माखीजानी सहित अन्य नेता उपस्थित रहे। हिन्दुस्थान समाचार/शरद-hindusthansamachar.in