memorandum-submitted-to-chief-minister-regarding-problems-of-shopkeepers-of-public-distribution-system
memorandum-submitted-to-chief-minister-regarding-problems-of-shopkeepers-of-public-distribution-system
मध्य-प्रदेश

सार्वजनिक वितरण प्रणाली की दुकानदारों की समस्याओं को लेकर मुख्यमंत्री केे नाम ज्ञापन सौंपा

news

-शहर की सभी उचित मुल्य की दुकानें 13 फरवरी से बंद रहेगी रतलाम, 12 फरवरी (हि.स.)। सार्वजनिक वितरण प्रणाली की दुकानों को संचालित करने मेें आ रही परेशानियों को देखते हुए सार्वजनिक वितरण प्रणाली संघ शहर रतलाम का प्रतिनिधि मंडल अध्यक्ष डीपी सिंह केे नेतृत्व में शुक्रवार को एसडीएम से मिला तथा उन्हें मुख्यमंत्री एवं कलेक्टर केे नाम ज्ञापन दिया। सिंह ने बताया कि शहर में विगत कई महिनों से शासकीय उचित मूल्य की दुकानें घाटे में चल रही है। दुकानें संचालन मेें जो परेशानी आ रही है उसके संबंध में शुक्रवार को यह ज्ञापन दिया गया, जिसमें दुकानदारों का कमीशन बहुत कम होने से संस्थाएं निरंतर नुकसान में चल रही है, अतेएव खाद्यान कमीशन बढ़ोत्तरी की जाए, हर माह खाद्यान्न वितरण पश्चात घटती-बैठती है, इस घटती की पूर्ति की जाए,केरोसीन समय पर दुकानों पर नहीं पहुंचता, अत: केरोसीन अग्रिम दिया जाए, जो दुकानें घाटे में चल रही है उसकी क्षतिपूर्ति राशि के रुप में हर माह अनुदान दिया जाए, जो दुकानदार इस्तीफा देेने चाहते हैं उनके इस्तीफे स्वीकार कर दुकानें अन्य दुकानों पर स्थानांतरित की जाए। सिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री योजना अंतर्गत नि:शुल्क वितरित होने वाले खाद्यान्न का कमीशन दिया जाए। गेेहूं,चावल जिन दुकानों में अत्यधिक मात्रा में स्टाक रखा है जो पीओएस मशीन में नहीं आ रहा है यह खाद्यान्न दुकानों से तुरंत उठवाया जाए। सहायक खाद्य अधिकारी दिवाकर द्वारा पंचनामा बनाकर कार्रवाई की थी उसका भी कोई निराकरण नहीं हुआ। पिछले पांच वर्षों से शक्कर स्टाक मे ंचल रही है जो खराब हो गई, जिसकी सूचना कई बार खाद्य विभाग को दी गई, परन्तु उसका निराकरण जांच के बाद भी अभी तक नहीं हुआ,इसकी क्षतिपूर्ति राशि दिलवाई जाए। उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश सहकारी समिति कर्मचारी महासंघ द्वारा चल रही हड़ताल का हम पूर्ण समर्थन करतेे है। यदि हमारी मांगों पर गोर नहीं किया गया तो उनके समर्थन में शहर की समस्त शासकीय उचित मूल्य की दुकानें भी 13 फरवरी से हड़ताल पर रहेगी। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 25 हजार 278 दुकानें है उनमें से मात्र 2 हजार 142 दुकानें खुली है, जबकि 23 हजार 136 दुकानें अनिश्चितकाल से बंद पड़ी है। इसका मुख्य कारण है शासन की दोषपूर्ण नीति। ज्ञापन देते समय उपाध्यक्ष गोपाल परमार, आबिद खान, कोषाध्यक्ष विजय अरोरा, सचिव भरत शर्मा, सह सचिव मोहन वर्मा, प्रचार मंत्री सुखचेन, कार्यसमिति के हनीफ भाई, राजमल पोपी, मुकेश जोशी, भूपेन्द्र व्यास, विकास व्यास, हरीश शर्मा सहित शहर के सार्वजनिक वितरण प्रणाली दुकानों के सेल्समेन भी उपस्थित थे। हिन्दुस्थान समाचार/ शरद जोशी-hindusthansamachar.in