madhya-pradesh-gets-krishi-karman-award-credit-only-to-farmers-and-agricultural-scientists-mp-sharma
madhya-pradesh-gets-krishi-karman-award-credit-only-to-farmers-and-agricultural-scientists-mp-sharma
मध्य-प्रदेश

मप्र को मिले कृषि कर्मण अवॉर्ड का श्रेय सिर्फ किसानों और कृषि वैज्ञानिकों को : सांसद शर्मा

news

सांसद शर्मा ने दी जिले को कृषि विज्ञान केन्द्र के प्रशासनिक भवन की सौगात कटनी, 23 फरवरी (हि.स.) । जिले के किसानों को सुगमता से बेहतर उत्पादन के लिये वैज्ञानिकों का परामर्श मिले। कृषि वैज्ञानिकों के रिसर्च, किसानों के खेत में दिखे। जिले के किसान विज्ञान के साथ मित्रता कर आंगे बढ़ें। इस विजन को सार्थक करने के उद्देश्य से जिले को बड़ी सौगात मंगलवार को भाजपा प्रदेशाध्यक्ष एवं सांसद वी.डी. शर्मा ने दी। उन्होंने पिपरौंध पहुंचकर नवनिर्मित कृषि विज्ञान केन्द्र के प्रशासनिक भवन का लोकार्पण किया। कार्यक्रम की शुरुआत कन्या पूजन से हुई। इस अवसर पर प्रगतिशील कृषकों का सम्मान भी सांसद शर्मा ने किया। सांसद शर्मा ने कहा कि हमारा देश कृषि प्रधान देश है। हमारे प्रधानमंत्री और हमारी सरकार का उद्देश्य किसानों की आय बढ़ाना है। किसान अपनी फसल का अधिक से अधिक दाम प्राप्त कर सकें। इसके लिये कृषि कानूनों के माध्यम से किसानों को आजादी दी गई है। वे किसी भी मण्डी में जाकर अपना उत्पाद बेच सकते हैं और बेहतर दाम प्राप्त कर सकते हैं। जिले के किसानों को कृषि विज्ञान केन्द्र से होने वाले लाभ की जानकारी भी सांसद शर्मा ने दी। उन्होने कहा कि यदि मध्यप्रदेश आज कृषि के मामले में देश में सिरमौर है। कई कृषि कर्मण अवॉर्ड जीते हैं, तो उसका श्रेय सिर्फ कृषि वैज्ञानिकों और किसानों को जाता है। उन्होंने कहा कि एक जिला एक उत्पाद के तहत जिले में टमाटर का चयन किया गया है। हमारे कृषि वैज्ञानिक यह सुनिश्चित करें कि हम इस दिशा में काम करें और किसानों को तैयार करें कि टमाटर के उत्पादन में भी कटनी नंबर वन बने। फार्मस प्रॉड्येसर ऑर्गनाईजेशन एफपीओ का गठन करने का आव्हान भी सांसद वी.डी. शर्मा ने कार्यक्रम में किया। उन्होंने कहा कि इससे हमारे किसान भाई अपना 300 किसानों का एक समूह बनाकर स्वयं अपनी दिशा तय करके उत्पादन कर सकते हैं और मार्केट में अपना ब्राण्ड स्थापित कर बेहतर दाम प्राप्त कर सकते हैं। कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिकों से भी उन्होने अपील करते हुये कहा कि जिले की अनुकूलता को समझते हुये बेहतर कृषि उत्पादन की दिशा में उपयोग में आने वाली नवीन वैज्ञानिक तकनीकों की जानकारी कृषकों को उपलब्ध करायें। ताकि हमारा कटनी कृषि उत्पादन के क्षेत्र में भी नंबर वन बन सके। लोर्कापण कार्यक्रम को जवाहर लाल नेहरु कृषि विश्वविद्यालय जबलपुर के कुलपति प्रोफेसर प्रदीप कुमार बिसेन ने भी संबोधित किया। उन्होने कहा कि हमारे देश को सारा वैभव किसानों ने दिया है। किसानों की मेहनत का हम कितना भी सम्मान करें, उतना कम है। बदलते परिदृश्य में बेहतर कृषि उत्पादन की दिशा में आंगे बढ़ने के लिये विज्ञान के उपयोग पर जोर भी प्रो. बिसेन ने दिया। उन्होने कहा कि हम कम लागत में, कम जमीन में कैसे बेहतर उत्पादन प्राप्त करें, इसके लिये हमें आज विज्ञान से दोस्ती करनी होगी। तभी हमारा आय दुगुनी हो पायेगी। कृषि विज्ञान केन्द्र के प्रशासनिक भवन के लोर्कापण कार्यक्रम के अवसर पर नवीन उन्नत कृषि तकनीकों पर आधारित प्रदर्शनी का आयोजन भी किया गया। जिसमें उपस्थित किसानों ने जाकर कृषि तकनीकों के विषय में जानकारी प्राप्त की। कृषि संगोष्ठी भी इस अवसर पर आयोजित की गई। जिसमें कृषि वैज्ञानिकों के द्वारा जिले के किसानों का मार्गदर्शन किया गया। इस अवसर पर जिला पंचायत की प्रधान ममता पटेल, भाजपा जिला अध्यक्ष रामरतन पायल, पूर्व मंत्री एवं पूर्व विधायक मोती कश्यप, पूर्व महापौर शशांक श्रीवास्तव, सांसद प्रतिनिधि पद्मेश गौतम, कलेक्टर प्रियंक मिश्रा, पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण व उन्नतशील कृषक भी उपस्थित रहे। हिन्दुस्थान समाचार / उमेद

AD
AD