lockout-in-ratlam-district-on-april-9-from-6-in-the-morning-to-april-19-in-the-morning-at-6-o39clock
lockout-in-ratlam-district-on-april-9-from-6-in-the-morning-to-april-19-in-the-morning-at-6-o39clock
मध्य-प्रदेश

रतलाम जिले में 9 अप्रैल शाम 6 बजेे से 19 अप्रैल प्रात: 6 बजे तक तालाबंदी

news

रतलाम, 08 अप्रैल (हि.स.)। जिले में कोरोना संक्रमण के तेजी से बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए जिला प्रशासन ने शुक्रवार 9 अप्रैल को शाम 6 बजे से 19 अप्रैल को प्रात: 6 बजे तक तालाबंदी प्रभावशील कर दी है। इस आदेश का कड़ाई से पालन किया जाएगा। कलेक्टर गोपालचंद डाड ने गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत करतेे हुए यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि तालाबंदी के दौरान राशन तथा सब्जी की होम डिलेवरी प्रारंभ रहेगी। दूध की प्रात: 6 से 10 तथा शाम को 5 से 8 बजे तक घर वितरण सेवा जारी रहेगी। सब्जी बिक्री के लिए भी इसी प्रकार व्यवस्था रहेेगी, इसके लिए थेले वालों को अधिकृत किया जाएगा। बैंकें व सरकारी कार्यालय चालू रहेंगे। गांव से शहर में आने पर प्रतिबंध रहेेगा। औद्योगिक श्रमिकों, मीडियाकर्मियों के लिए यह प्रतिबंध नहीं रहेगा, उन्हें आई कार्ड साथ रखना होगा। पेट्रोलपम्प बंद ही रहेंगे, केवल कुछ पेट्रोल पम्पों को अधिकृत किया जाएगा, ताकि जरूरतमंद सेवाओं के लिए पेट्रोल की व्यवस्था हो सके। गैस सिलेंडर की घर पहुंच सेवा जारी रहेगी। कलेक्टर ने बताया कि अभी भी लोग मास्क का अनिवार्य रुप से उपयोग नहीं कर रहे है और ना ही सामाजिक दूरी का पालन हो रहा है, जबकि प्रशासन ने इसके लिए भरसक प्रयास किए है। वे स्वयं तथा अधिकारी का अमला भी सड़कों पर उतरकर लोगों को समझाईश दे रहा है, उसके बाद भी लोग पालन नहीं कर रहे है,यह चिंता का विषय है। लगातार कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। यदि सतर्कता नहीं बरती गई तो दिक्कतें और बढ़ेगी। उन्होंने बताया कि संक्रमित मरीजों के एक हजार प्रकरणों की जांच अहमदाबाद भेजी गई है, जिसकी जांच रिपोर्ट आज आने की संभावना है, जांच में 144 से अधिक प्रकरण पाजेटीव आने की आशंका है। कलेक्टर का ध्यान आकर्षित करने पर उन्होंने कहा कि तालाबंदी के दौरान कही भी कालाबाजारी और मुनाफाखोरी की शिकायतेें पाई गई तो व्यापारियों के विरूद्ध सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। प्रशासन इस बात का पूरा ध्यान रखेगा कि खाने-पीने की वस्तुओं में किसी प्रकार की लोगों में परेशानी न हो और ना ही मुनाफाखोरी हो। अस्पताल में भर्ती मरीज के परिजनों के भोजन के संबंध में भी उन्होंने कहा की इस संबंध में भी निर्णय लिया जाएगा कि उनके भोजन का प्रबंध कैसे हो? इसी प्रकार निर्धन और गरीबों को खाना कैसे मिले इसके बारे में भी विचार किया जाएगा। उल्लेखनीय है बुधवार की रात को जारी मेडीकल बुलेटिन में अभी तक का सबसे बड़ा संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 109 आने से लोगों में दहशत का माहौल बन गया है। संक्रमित मरीजों को लगने वाला रेमडेेसिविर इंजेक्शन भी उपचार के लिए उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। इधर-उधर से मंगा कर आपात प्रबंध किया जा रहा है। इस खतरनाक लहर में 763 एक्टिव मरीज, 2295 सेम्पलों की रिपोर्ट आना बाकी है। समाज प्रमुखों, धर्मगुरूओं, आम नागरिकों से भी अपील की गई है कि वेे तालाबंदी की गाईडलाईन का पालन करें और करवाए। हिन्दुस्थान समाचार/ शरद जोशी