less-than-surajpur-650-ton-oxygen-tanker-found-from-bokaro
less-than-surajpur-650-ton-oxygen-tanker-found-from-bokaro
मध्य-प्रदेश

सूरजपुर से कम,बोकारो से मिला 6.50 टन ऑक्सीजन का टैंकर

news

जैतहरी ऑक्सीजन प्लांट में हुआ भंडारण, शाम तक 350 ऑक्सीजन सिलेंडर हो जाएंगे रिफिल अनूपपुर, 28 अप्रैल (हि.स.)। जैतहरी ऑक्सीजन प्लांट के बंद होने के बाद ऑक्सीजन की किल्लत से जूझ रहे अनूपपुर जिला अस्पताल के लिए 27 अप्रैल की रात राहत देने वाली रही। बोकारो स्टील प्लांट से शहडोल के लिए आए ऑक्सीजन कंटेनर से 6.50 टन ऑक्सीजन का जैतहरी ऑक्सीजन प्लांट में भंडारण किया गया है। जिसके बाद अनूपपुर को आगामी एक सप्ताह के लिए ऑक्सीजन की परेशानी से राहत मिल गई है। बताया जाता है कि जैतहरी ऑक्सीजन प्लांट में भंडारित ऑक्सीजन से लगभग 600 जंबो सिलेंडर की रिफिलिंग की जा सकेगी। ऑक्सीजन का टैंकर रात 1 बजे के आसपास शहडोल से अनूपपुर पहुंचा था, जहां सुबह 3 बजे तक जैतहरी ऑक्सीजन प्लांट में खाली किया गया। इसके लिए प्रशासनिक अधिकारियों और पुलिस की ड्यूटी लगाई गई थी। एसडीएम अनूपपुर कमलेश पुरी के साथ नायब तहसीलदार शेशांक शेंडे सहित जिला खाद्य आपूर्ति विभाग कनिष्ठ निरीक्षक प्रदीप द्विवेदी सहित स्थानीय पुलिस अमला मौजूद रहे। सूत्रों के अनुसार जिला प्रशासन द्वारा दो दिन पूर्व 250 सिलेंडर सूरजपुर और सिंगरौली ऑक्सीजन प्लांट भेजे गये थे । जिसमें सूरजपुर (छत्तीसगढ़) में रोजाना छत्तीसगढ़ सरकार की अपनी मांग के कारण अनूपपुर प्रशासन की मांग की पूर्ति कम होने लगी। बताया जाता है कि सूरजपुर ऑक्सीजन प्लांट से दो दिनों में मात्र 37 सिलेंडर ऑक्सीजन की आपूर्ति हुई थी। जिसके बाद ऑक्सीजन की कमी को लेकर प्रशासन की धडक़नें अधिक बढ़ गई थी। विदित हो कि जैतहरी ऑक्सीजन प्लांट के बंद होने के बाद शहडोल से आपूर्ति होने वाली ऑक्सीजन पर प्रबंधन ने हाथ खड़े कर दिए थे। 16 टन एलएमओ मिलने की जगी आशा जैतहरी के ग्राम खूटाटोला में स्थापित ऑक्सीजन प्लांट महर्षि एयर सॉल्यूशन 20केएल क्षमता का ऑक्सीजन प्लांट है। जहां प्रतिदिन 500 ऑक्सीजन सिलेंडर रिफिलिंग की जा सकती है। लेकिन यह प्लांट एक सप्ताह से ऑक्सीजन रिफिलिंग में उपयोग होने वाले एलएमओ (लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन) के अभाव में बंद पड़ा है। इससे पूर्व प्लांट संचालक भिलाई, नागपुर, उड़ीसा तथा गुजरात के केमिकल्स सप्लायर से इसकी आपूर्ति कर लेता था। लेकिन गुजरात से 6 माह पूर्व मांगी गई एलएमओ में अबतक डिमांड पूरी नहीं हो पाई है। जबकि लिक्विड टैंकर के लिए ऑक्सीजन कंपनी के द्वारा गुजरात की सुपर क्रायोनिक सिस्टम प्राइवेट लिमिटेड को अक्टूबर माह में निर्धारित राशि जमा करते हुए इसे प्रदान करने की मांग की गई थी। वहीं अब कंपनी ने 16 टन एलएमओ को उड़ीसा से मंगवाया है। बढ़ी ऑक्सीजन की खपत जिला चिकित्सालय के कोविड आइसोलेशन वार्ड, वन स्टॉप सेंटर और कोविड केयर सहित सीएचसी सेंटरों पर अब ऑक्सीजन की खपत अधिक बढ़ गई है। हालांकि वर्तमान में 45 गम्भीर मरीज हैं, जिनमें 15 अतिगम्भीर मरीज हैं। वहीं 925 होम आइसोलेट हैं। गम्भीर मरीजों पर रोजाना 70-80 जंबो सिलेंडर की खपत है। 25 अप्रैल को 90 सिलेंडर की खपत हुई थी। सीएमएचओ डॉ. एससी राय ने बताया कि पूर्व में प्रशासन द्वारा सिंगरौली और सूरजपुर भेजे गए 250 सिलेंडर विलम्ब से मिले लेकिन पूरे मिल गए हैं। सीएमएचओ डॉ. एससी राय का कहना हैं कि सिलेंडर की कम आवक से एक दिन पूर्व ऑक्सीजन की कमी बन गई थी, लेकिन रात में टैंकर से 6.50 टन ऑक्सीजन लेकर भंडारित कराया गया है। अब एकाध सप्ताह तक ऑक्सीजन की कमी नहीं होगी। हिन्दुस्थान समाचार/ राजेश शुक्ला