शाजापुर में लालघाटी पर हुई कथित लूट का निकला उज्जैन कनेक्शन,  पुलिस ने किया पर्दाफाश
शाजापुर में लालघाटी पर हुई कथित लूट का निकला उज्जैन कनेक्शन, पुलिस ने किया पर्दाफाश
मध्य-प्रदेश

शाजापुर में लालघाटी पर हुई कथित लूट का निकला उज्जैन कनेक्शन, पुलिस ने किया पर्दाफाश

news

उज्जैन, 17 जुलाई (हि.स.)। शाजापुर में लालघाटी पर हुई 18 लाख की लूट की सनसनीखेज वारदात का पर्दाफाश हो गया है। पुलिस ने इस मामले में लूट की साज़िश रच पुलिस को गुमराह करने वाले फरियादी सहित उसके साथियों को गिरफ्तार कर लिया है। गौर करने की बात ये है कि लूट की इस कथित घटना का उज्जैन से भी कनेक्शन निकला है, जिसमें एक आरोपी उज्जैन के रविंद्र नगर का रहने वाला है। पुलिस अधीक्षक पंकज श्रीवास्तव ने शुक्रवार को इस लूट का खुलासा किया। पुलिस अधीक्षक शाजापुर पंकज श्रीवास्तव के मुताबिक 15 जुलाई को थाना प्रभारी लालघाटी मनीष दुबे को दूरभाष पर सूचना प्राप्त हुई थी कि लालघाटी बाईपास पर एक व्यक्ति के साथ 18 लाख की लूट हो गई है । सूचना पर तत्काल रवाना होकर घटना के संबंध में पता किया गया तो फरियादी के द्वारा बताया गया कि वह राजगढ़ से 18 लाख रुपए लेकर अपनी मारुति ब्रेजा कार में इंदौर जा रहा था कि बीच रास्ते में बाईपास पर एक काले रंग की बोलेरो ने उसको ओवरटेक कर गाड़ी रोक कर कनपटी पर पिस्तौल अड़ाकर ₹18लाख लूट लिए। घटनास्थल थाना कोतवाली का पाए जाने से तत्काल थाना प्रभारी कोतवाली अजीत तिवारी को घटना के संबंध में सूचना देकर फरियादी को हमराह लेकर घटना के संबंध में पतारसी की गई। फरियादी एवं उसके दोस्त राजपाल के द्वारा घटना के संबंध में अलग-अलग विवरण देने से घटना संदिग्ध पाई गई। घटना के संबंध में थाना शहर कोतवाली पर थाना प्रभारी अजीत तिवारी के द्वारा अपराध क्रमांक धारा 392 भादवि का दर्ज कर विवेचना प्रारंभ की गई। विवेचना के दौरान साइबर सेल की मदद से सूचनाकर्ता एवं साक्षी की सीडीआर बुलाई गई तो उससे यह स्पष्ट हुआ कि घटना वाले दिन एक नंबर से राजपाल द्वारा लगातार चर्चा की गई थी, जो नंबर हेमंत अग्निहोत्री निवासी नागदा हाल मुकाम रविंद्र नगर उज्जैन का पाया गया। घटना के संबंध में साइबर सेल के आरक्षक रामपाल , राजेश दांगी एवं थाना शहर कोतवाली के आर जसवंत, कपिल , थाना लालघाटी के आरक्षक विकास और राजेंद्र को बाईपास पर लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज चेक करने के निर्देश दिए गए। थाना प्रभारी अजीत तिवारी एवं थाना प्रभारी लालघाटी मनीष दुबे प्रभारी साइबर सेल ने हाईवे पर बने सभी टोल टैक्स को चेक करने का निर्णय लिया। संपूर्ण चेकिंग से यह पाया गया कि हाईवे पर बाईपास, ढाबे, टोल टैक्स पर पर पाए गए फुटेज में यह स्पष्ट हो गया कि फरियादी की कार के पीछे 1 घंटे तक कोई भी काले रंग की स्कार्पियो कार नहीं निकली है। इससे यह स्पष्ट हुआ कि फरियादी घटना के संबंध में कुछ छुपा रहा है । थाना प्रभारियों ने मिलकर फरियादी से बारीकी से पूछताछ करना प्रारंभ किया गया तो उसके द्वारा यह स्वीकार किया गया कि कर्जा होने से उसके द्वारा फर्जी लूट की घटना की रिपोर्ट की गई थी। तथा 18 लाख रुपए अपने परिचित उज्जैन के हेमंत अग्निहोत्री निवासी रविंद्र नगर को मक्सी बाईपास पर बुलवाकर देना बताया । पुलिस टीम द्वारा आरोपी रिजवान पिता अब्दुल रज्जाक निवासी इंदौर एवं उसके साथी राजपाल निवासी इंदौर को गिरफ्तार कर तत्काल उज्जैन दबिश देकर हेमंत अग्निहोत्री को गिरफ्तार किया तथा उसके कब्जे से 18 लाख रुपए नगद बरामद किए गए। एसडीओपी एके उपाध्याय थाना प्रभारी कोतवाली टीआई सिया अजीत तिवारी थाना प्रभारी लालघाटी मनीष दुबे आरक्षक नाम पाल राजेश दांगी अनिल सक्सेना राजेंद्र विकास तिवारी जसवंत एवं कपिल साइबर सेल का उल्लेखनीय योगदान रहा है। पुलिस अधीक्षक पंकज श्रीवास्तव द्वारा सभी पुलिसकर्मियों को प्रथक से पुरस्कृत करने की घोषणा की गई है। हिंदुस्थान समाचार / गजेंद्र सिंह तोमर/केशव-hindusthansamachar.in