kovid-hospital-should-be-made-a-heritage-mission-hospital-in-the-medical-field
kovid-hospital-should-be-made-a-heritage-mission-hospital-in-the-medical-field
मध्य-प्रदेश

चिकित्सा क्षेत्र की धरोहर मिशन हास्पिटल को बनाया जाए कोविड हास्पिटल

news

रतलाम, 26 अप्रैल (हि.स.)। रतलाम शहर में एक समय चिकित्सा के लिए मशहूर रहा मिशन (क्रिश्चियन) हास्पिटल आज खण्डर में तब्दील हो गया है। ईसाई मशनरी द्वारा यह हास्पिटल वर्षों तक संचालित किया गया। बताते हैं कि राजशाही के जमाने में अस्पताल के लिए यह भूमि उपलब्ध करवाई गई थी। इस अस्पताल के साथ ही नर्सेस होस्टल, स्कूल तथा अन्य गतिविधियां भी यहां संचालित होती थी, लेकिन समय के साथ और आर्थिक अभाव में यह अस्पताल आज खण्डर के रूप में तब्दील हो गया है। आज जबकि रतलाम में कोरोना महामारी का प्रकोप है, मेडिकल कालेज व अन्य कोविड हास्पिटल में मरीजों के लिए स्थान नहीं है, ऐसे में इस मीशन हास्पिटल को अधिपत्य में लेकर इस धरोहर को सुरक्षित करना चाहिए और कोविड हास्पिटल के रूप में इसका उपयोग करना चाहिए। एक सज्जन ने बताया कि 1965 में हास्पिटल में नामी डाक्टर हुआ करते थे, जिनमें एशिया के श्रेष्ठ हृदयरोग चिकित्सक भी शामिल थे। यहां एक्सरे मशीन, आधुनिक आपरेशन थियेटर भी था, जिसका संचालन ईसाई मशनरी द्वारा किया जाता था। धीरे-धीरे सबकुछ खत्म होता गया, कई डाक्टरों के निधन के बाद हास्पिटल बंद हो गया। यदि नष्ट होती इस धरोहर को ठीक-ठाक किया जाए तो शहर के बीच लोगों को चिकित्सा सुविधा पुन: मिलना शुरू हो जाएगी। लगभग 150 से अधिक लोगों ने फेसबुक पर इस विषय को उठाने पर समर्थन किया है और सुझाव को भी पसंद किया है तथा कहा कि एक समय अस्पताल में कई कमरे हैं, पलंग भी है और अन्य सुविधाएं भी। जनसहयोग से या कुछ सामाजिक संस्थाओं की मदद से इस अस्पताल को ठीक किया ऐसा था कि इस अस्पताल की सेवाओं को देखते हुए कोई मरीज दूसरी जगह जाता ही नहीं था। आसपास के जिलों से भी मरीज इस अस्पताल में उपचार करवाना पसंद करते थे। हिंदुस्थान समाचार / शरद जोशी