जबलपुर : सौ-फीसदी टीकाकरण वाली जिले की पहली ग्राम पंचायत बनी महगवाँ परियट

जबलपुर : सौ-फीसदी टीकाकरण वाली जिले की पहली ग्राम पंचायत बनी महगवाँ परियट
jabalpur-mahgwan-pariyat-became-the-first-gram-panchayat-of-the-district-with-100-vaccination

जबलपुर, 16 जून (हि.स.) । पनागर विकासखंड की ग्राम पंचायत महगवाँ परियट शत-प्रतिशत कोरोना टीकाकरण वाली जबलपुर जिले की पहली ग्राम पंचायत बन गई है। यहां मतदाता सूची में दर्ज 1002 व्यक्तियों में से 956 व्यक्तियों को विशेष अभियान चलाकर कोरोना का टीका लगाया गया। शेष 46 व्यक्तियों में कोरोना से तत्काल ठीक हुए लोग, गर्भवती महिलायें, मृत व्यक्ति और बाहर निवासरत वैक्सीनेटेड व्यक्ति शामिल हैं। ग्राम पंचायत महगवाँ में टीकाकरण को लेकर ग्रामीणों में भारी उत्साह देखा गया। जिला प्रशासन द्वारा जन-सहभागिता से सभी पात्र ग्रामीणों को कोरोना का टीका लगाने के लिए दो-तीन दिन पहले से ही कार्ययोजना तैयार कर ली गई थी। जिसे राजस्व, स्वास्थ्य, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग सहित ग्राम आपदा प्रबंधन समिति के सदस्यों की सक्रिय सहभागिता से मूर्तरूप दिया जा सका। यहाँ मतदाता सूची के आधार पर वैक्सीन लगाने के लिए सभी पात्र व्यक्तियों को चिन्हित किया गया। विधायक ने दिया 5 लाख का चेक पनागर विधायक सुशील तिवारी इंदु ने महगवाँ परियट को शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन कराने वाली जिले की पहली ग्राम पंचायत बनने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए ग्रामवासियों और वैक्सीनेशन के कार्य में लगी पूरी टीम को बधाई दी। उन्होंने कहा कि महगवाँ परियट ग्राम पंचायत ने शत-प्रतिशत टीकाकरण कर कोरोना वैक्सीनेशन के प्रति जागरूकता का जो संदेश दिया है वो पूरे प्रदेश में फैलेगा और इससे प्रेरित होकर कई ग्राम पंचायतें आगे आयेंगी। विधायक तिवारी ने अपनी घोषणा के मुताबिक जिले की पहली शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन वाली ग्राम पंचायत बनने पर विधायक निधि से विकास कार्यों के लिए महगवां परियट ग्राम पंचायत को पांच लाख रुपये की प्रोत्साहन राशि का चेक प्रदान किया। छह टीमों ने किया टीकाकरण महगवाँ परियट को सौ फीसदी वैक्सीनेट करने स्वास्थ्य विभाग की छह अलग-अलग टीमें बनाई गई थीं। टीकाकरण करने वाली एक टीम बीमार, बुजुर्ग और दिव्यांगों के घर-घर जाकर टीका लगा रही थी। ग्रामीणों का रहा सराहनीय सहयोग एसडीएम अरजरिया ने शत-प्रतिशत टीकाकरण कार्य में ग्रामीणों के सहयोग की सराहना की। उन्होंने बताया कि ग्रामीणों में टीकाकरण के प्रति सुबह से ही जर्बदस्त उत्साह देखने को मिला था। लोग खुद टीका लगवाने टीकाकरण केन्द्र आ रहे थे और बीमार, बुजुर्ग व दिव्यांगों की जानकारी भी दे रहे थे। ताकि उन्हें घर जाकर टीका लगाया जा सके। 102 वर्षीय तिज्जो बाई और 100 वर्षीय त्रिवेणी बाई ने लगवाया टीका कोरोना के टीके के प्रति फैली तमाम भ्रांतियों को दर-किनार करते हुए 102 वर्षीय महिला तिज्जो बाई कोल और सौ वर्षीय त्रिवेणी बाई ने खुद रूचि लेकर टीका लगवाया। तिज्जो बाई और त्रिवेणी बाई ने स्वयं टीकाकरण कराकर मिसाल कायम की तथा भ्रम और अफवाह फैलाने वाले लोगों को मुंह तोड़ जवाब दिया है। शतायु महिलाओं को मिले 5-5 हजार रुपये विधायक तिवारी ने टीकाकरण कराने वाली 102 वर्षीय तिज्जोबाई और सौ वर्षीय त्रिवेणी बाई को टीकाकरण के प्रति अभूतपूर्व उत्साह के लिए 5-5 हजार रुपये की पुरस्कार राशि का चेक प्रदान किया। बुजुर्गों को मिला छाता टीकाकरण कराने वाले सभी बुजुर्गों को विधायक तिवारी ने अपनी ओर से प्रत्येक को उपहार स्वरूप छाता भेंट किया। हिन्दुस्थान समाचार / उमेद

अन्य खबरें

No stories found.