it-is-necessary-to-be-educated-and-organized-for-the-development-of-society-food-minister
it-is-necessary-to-be-educated-and-organized-for-the-development-of-society-food-minister
मध्य-प्रदेश

समाज के विकास के लिए शिक्षित और संगठित होना जरूरी : खाद्य मंत्री

news

भोपाल, 07 फरवरी (हि.स.)। समाज के लोग जितना जागरूक होंगे, उतनी तेजी से आगे बढ़ेंगे। स्वयं आगे आकर शासकीय योजनाओं का लाभ प्राप्त करेंगे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा आदिवासी वर्ग के विकास और कल्याण के लिए अनेक योजनाएँ चलाई जा रही हैं। यह बात रविवार को रायसेन जिले के बेगमगंज तहसील के सुल्तानगंज में आयोजित टंट्या मामा भील जयंती समारोह में खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने कही। कार्यक्रम में स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी और पूर्व मंत्री एवं सिलवानी विधायक रामपाल सिंह भी मौजूद रहे। खाद्य मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने कहा कि मामा टंट्या भील ने मात्र 15 वर्ष की आयु में देश के स्वतंत्रता संग्राम में अपना योगदान दिया। वे गरीबों, आदिवासियों की मदद करते थे और और उनकी बेटियों की शादी कराते थे। अगले महीने से समर्थन मूल्य पर गेहूँ खरीदी शुरू हो जाएगी। इसके साथ चना, मसूर और सरसों भी समर्थन मूल्य पर खरीदी जायेगी। आदिवासी वर्ग के विकास के लिये सरकार निरंतर काम कर रही - स्वास्थ्य मंत्री स्वास्थ्य मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा कि मामा टंट्या भील ने आजादी के लिए तीर कमान से अंग्रेजों से लड़ाई लड़ी। उन्होंने कहा कि अनुसूचित-जनजाति समुदाय के कल्याण के लिए राज्य सरकार मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में लगातार काम कर रही है। स्वास्थ्य मंत्री डॉ. चौधरी ने बताया कि टीकाकरण में मध्यप्रदेश देश में सबसे अव्वल रहा है। हमारे यहाँ टीकाकरण का काम बहुत बेहतर ढंग से किया जा रहा है। प्रदेश में दो करोड़ 40 लाख से अधिक आयुष्मान कार्ड बनाए गए हैं, जिससे गरीबों को पाँच लाख रुपये तक का इलाज नि:शुल्क मिल रहा है। उन्होंने बताया कि सिलवानी में 50 बिस्तर, गैरतगंज में 50 बिस्तर तथा सुल्तानगंज में 30 बिस्तर के सिविल अस्पताल बनाए जायेंगे। जिले में 9 स्वास्थ्य केंद्रों पर टेलीमेडिसिन की सेवाएँ प्रारंभ की गई हैं, जिससे ग्रामीण क्षेत्रों के मरीज एम्स के विशेषज्ञ डॉक्टरों से स्वास्थ्य परामर्श और उपचार का लाभ मिल रहा है। कार्यक्रम में क्षेत्रीय विधायक रामपाल सिंह ने कहा कि प्रदेश सरकार आदिवासियों के विकास और कल्याण के लिए समर्पित हैं। उन्होंने सुल्तानगंज में मांगलिक भवन बनाने के लिए पाँच लाख रुपये देने की घोषणा की। इस अवसर पर आयोजन समिति के अध्यक्ष नंदकिशोर उईके, एसएस पोर्ते, सचिव मोहन सिंह मरकाम और नन्हे लाल भी उपस्थित थे। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश-hindusthansamachar.in