indore-corona-positive-si-dies-during-treatment
indore-corona-positive-si-dies-during-treatment
मध्य-प्रदेश

इंदौर: कोरोना पॉजीटिव एसआई की उपचार के दौरान मौत

news

-सोशल मीडिया पर फूटा साथियों का गुस्सा इंदौर, 14 अप्रैल (हि.स.)। छत्रीपुरा थाना के एसआई राजेंद्र मरमट की बुधवार सुबह अरबिंदो अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई। एसआइ पिछले कुछ दिनों से अस्पताल में भर्ती थे और कोरोना से लड़ रहे थे। कोरोना की दूसरी लहर में पुलिस विभाग में यह तीसरी मौत है। एसआई की मौत से उनके सहकर्मियों में गुस्सा है और यह गुस्सा सोशल मीडिया पर फूट रहा है। इधर, एसआई राजेंद्र मरमट की पत्नी और बेटे भी संक्रमित हो चुके हैं और उनका भी इलाज चल रहा है। टीआइ पवन सिंघल ने बताया कि एसआई मरमट को इलाज के दौरान छह रेमडेसिविर इंजेक्शन लग चुके थे और उनकी हालत में सुधार भी होने लगा था। लेकिन अचानक उन्हें सांस लेने में दिक्कत हुई और बुधवार सुबह डाक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। घटना के बाद पुलिस विभाग में शोक की लहर दौड़ गई और इंटरनेट मीडिया पर प्रतिक्रियाएं आने लगीं। ज्यादातर सिपाही, एसआई और टीआई अफसरों को ही दोष दे रहे हैं। उनका आरोप है कि पुलिसकर्मियों का न तो ठीक से इलाज हो रहा है न अफसर ध्यान दे रहे हैं। लगातार अभियान और आंकड़ों का दबाव बनाया गया और स्टाफ संक्रमित होता गया। इस दौर में इंदौर में ही करीब 200 पुलिसकर्मी और उनके परिजन संक्रमित हैं। पश्चिम और पूर्वी क्षेत्र में तीन सीएसपी संक्रमित है। एएसपी और सीएसपी स्तर के अफसरों के परिजन अस्पताल में भर्ती है। दो दिन के भीतर तीन टीआई संक्रमित हो चुके हैं। नाराज पुलिसकर्मियों का आरोप है कि पिछले वर्ष तो खबर मिलते ही अस्पताल में भर्ती करने से लेकर इलाज तक की व्यवस्था हो जाती थी, लेकिन इस बार कोई ध्यान नहीं दे रहा है। इधर, एएसपी गुरुप्रसाद पाराशर ने इन आरोपों को गलत बताया है। उनका कहना है कि पुलिसकर्मियों के स्वास्थ्य की पूरी चिंता है। अफसर लगातार निगरानी कर रहे हैं। अभी तक ऐसा कोई केस नहीं आया है जिसमें किसी मुलजिम को पकड़ने के दौरान कोई पुलिसकर्मी संक्रमित हुआ हो। हिन्दुस्थान समाचार/केशव दुबे