स्वाधीनता संग्राम सेनानी सागर सिंह सिसौदिया की स्मृति में उपवन की रखी आधारशिला

स्वाधीनता संग्राम सेनानी सागर सिंह सिसौदिया की स्मृति में उपवन की रखी आधारशिला
in-the-memory-of-freedom-fighter-sagar-singh-sisodia-the-foundation-stone-of-the-garden-was-laid

गुना, 19 जून (हि.स.)। स्मृति वन में शनिवार को गुना के इंकलाबी स्वाधीनता संग्राम सेनानी सागर सिंह सिसोदिया स्मृति उपवन की आधारशिला रखी गई। इस दौरान गुना में कोरोना से दिवंगत हुए नागरिकों को श्रद्धांजलि एवं उनकी स्मृति को स्थाई बनाने पौधरोपण किया। इस अवसर पर सागर सिंह के पौत्र एवं मप्र शासन में पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने अपनी कोरोना से दिवंगत माताजी, अन्य परिजन व गुना के अन्य कोरोना दिवंगत नागरिकों की स्मृति में कंजिया का पौधा रोपा। इसके अलावा बड़ी संख्या में नगर नागरिकों ने अपने अपने कोरोना दिवंगत परिजनों की स्मृति में कंजी, इमली, सीताफल आदि के पौधों का रोपण किया। इस अवसर पर प्रो. एके दहीभाते ने उन्हें सच्चे अर्थों में इंकलाबी सेनानी निरूपित किया। वहीं डॉ. रामवीर सिंह रघुवंशी ने कहा कि कोरोना काल में शरीर में ऑक्सीजन की कमी से निधन होने के कारण मृतकों को पेड़ लगा कर ही सच्ची श्रद्धांजलि दी जा सकती है। पूर्व कुलपति प्रो. ओपी अग्रवाल ने स्मृति वन को जैव विविधता का नया आयाम निरूपित किया। केपीएस सोमवंशी ने स्मृति वन में पौधों के विकास मे वर्मीकंपोस्ट के योगदान पर प्रकाश डाला। डॉ. दिनेश श्रीवास्तव ने स्मृति वन के विकास में बीज फेंको अभियान का महत्व बताया। अमित तिवारी ने जंगलों के काटे जाने को समाज की मूल चिंता निरूपित किया। इंजी. एसके राजोरिया ने पेड़ों का पानी से अंतरसंबंध बताया। वहीं भाजपा जिलाध्यक्ष गजेंद्र सिकरवार ने कहा कि वर्षा ऋतु वृक्षारोपण के लिए सबसे उपयुक्त होती है। इस ऋतु में ही वृक्षों की सबसे अधिक वृद्धि और विकास होता है। अधिक से अधिक पेड़ लगाएं और उनकी देखभाल करें। प्रो. सतीश चतुर्वेदी ने कविताओं से पेड़ों का महत्व समझाया। कार्यक्रम में मंत्री सिसोदिया ने अपने दादाजी को याद करते हुए उनके संस्मरण सुनाते हुए कहा कि सागर सिंहजी मेरे दादाजी बाद में थे पहले वे देश की आजादी के योद्धा थे। कार्यक्रम का संचालन करते हुए डॉ. पुष्पराग शर्मा ने कहा की आज हम जो पौधे रोप रहे हैं वे पेड़ नहीं ऑक्सीजन प्लांट बनेंगे। इस दौरान राकेश मिश्रा, नरेंद्र भदोरिया, जितेंद्र रघुवंशी, उधम सिंह लोधी, राकेश शर्मा, रोहित भार्गव, घनश्याम राठौर, नूर उल्ला यूसुफ जयी, हाजी इसरार, पृथ्वी शर्मा, हनी हिमांशु, महेश रघुवंशी, नीरज निगम, अंकुर श्रीवास्तव, वीर बहादुर सिंह यादव सहित अनेकों पर्यावरण प्रेमी उपस्थित थे। हिन्दुस्थान समाचार / अभिषेक