In Solapur, administration freed 52 workers of hostage harvest, CM congratulates the collector and his team
In Solapur, administration freed 52 workers of hostage harvest, CM congratulates the collector and his team
मध्य-प्रदेश

सोलापुर में बंधक कटनी के 52 श्रमिकों को प्रशासन ने कराया मुक्त, सीएम ने कटनी कलेक्टर और उनकी टीम को दी बधाई

news

भोपाल, 09 जनवरी (हि.स.)। महाराष्ट्र के सोलापुर में मजदूरी करने गए प्रदेश के कटनी जिले के 52 श्रमिकों को प्रशासन ने मुक्त करा लिया है। कटनी कलेक्टर प्रियंक मिश्रा ने शिकायत को गंभीरता से लिया और मामले में एक्शन लिया। शुक्रवार देर रात करीब 2 बजे श्रमिकों को सकुशल स्लीमनाबाद लाया गया। सोलापुर एसपी तेजस्वी सतपोटे, इन्सपेक्टर महाराष्ट्र पुलिस नितिन थेटे और एसडीएम टीकमगढ़ सौरभ सोनवाने का रहा सक्रिय सहयोग रहा। प्रशासन की त्वरित कार्यवाई पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कटनी कलेक्टर और उनकी टीम की सराहना की है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट कर पूरी टीम को इस त्वरित एक्शन के लिए बधाई देता हूँ भविष्य के लिए शुभकामनाएँ दी है। सीएम शिवराज ने कहा ‘मध्यप्रदेश की जनता को सुशासन देना हमारी सरकार का एकमात्र लक्ष्य है। इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए शासन और प्रशासन निरंतर कार्यरत है। महाराष्ट्र के सोलापुर में मध्यप्रदेश के कटनी के 52 श्रमिकों को बंधक बनाकर उन पर अत्याचार किया जा रहा था। जनसुनवाई में शिकायत प्राप्त कर कटनी कलेक्टर प्रियंक मिश्रा व बहोरीबंद एसडीएम रोहित सिसोनिया ने तत्काल एक्शन लिया व सोलापुर पुलिस के सहयोग से श्रमिकों को सकुशल वापस ले आए। मैं कटनी कलेक्टर प्रियंक मिश्रा, एसडीएम रोहित सिसोनिया, टीकमगढ़ एसडीएम सौरभ सोनवाने, सोलापुर पुलिस अधीक्षक तेजस्वी सातपुते और उनकी पूरी टीम को इस त्वरित एक्शन के लिए बधाई देता हूँ और भविष्य के लिए शुभकामनाएँ देता हूँ। आप जैसे अधिकारी हमारी शान हैं। बता दे कि दीपावली के बाद सोलापुर (महाराष्ट्र) मजदूरी करने गए 50 से अधिक मजदूरों को बंधक बनाकर प्रताडि़त किया जा रहा है। मजदूरों को दलाल गांव भी नहीं लौटने दे रहा था। फोन पर स्वजन से बात करने पर भी मारपीट की जा रही थी। जनसुनवाई में मामला आने के बाद मामले में कलेक्टर ने बहोरीबंद एसडीएम रोहित सिसोनिया (आईएएस) को प्रकरण की जांच करने और त्वरित रूप से जानकारी उपलब्ध कराने के निर्देश दिए थे। एसडीएम सिसोनिया ने बंधक बनाए गए श्रमिकों की जानकारी एकत्र की। जिसमें बंधक बनाए जाने की पुष्टि होने के बाद उन्हें मुक्त करवाने की कार्यवाई हुई। हिन्दुस्थान समाचार/ नेहा पाण्डेय-hindusthansamachar.in