गुना में 30 फीसद हेल्थ वर्कर्स और 26 फीसद फ्रंट लाइन वर्कर्स को अभी तक नहीं लगे टीके

गुना में 30 फीसद हेल्थ वर्कर्स और 26 फीसद फ्रंट लाइन वर्कर्स को अभी तक नहीं लगे टीके
in-guna-30-percent-health-workers-and-26-percent-front-line-workers-are-not-yet-vaccinated

गुना, 20 जून (हि.स.) । डॉक्टर आगाह कर रहे हैं कि अगस्त-सितंबर में कोरोना की संभावित तीसरी लहर आ सकती है, लेकिन जिले में फ्रंट लाइन और हेल्थ वर्कर्स का टीकाकरण अभी तक पूरा नहीं हो पाया है। टीकाकरण शुरू हुए 6 माह हो गए हैं, लेकिन अभी भी बड़ी संख्या में फ्रंट पर काम करने वाले वर्कर्स ने टीका नहीं लगवाया है। कोरोना महामारी के दौरान सबसे बड़ी भूमिका हेल्थ और फ्रंट लाइन वर्कर्स की ही होती है। इन्हें ही सभी मोर्चों पर काम करना पड़ता है। कोरोना मरीजों के इलाज से लेकर सैंपलिंग, टीकाकरण सहित व्यवस्थाएं हेल्थ वर्कर्स को ही देखनी पड़ती है। वहीं जिले में कानून व्यवस्था, आवश्यक वस्तुओं की पूर्ति सहित तमाम काम फ्रंट लाइन वर्कर्स के खाते में आते हैं। ऐसी स्थिति में भी अभी तक 30 प्रतिशत हेल्थ वर्कर्स और 26 प्रतिशत फ्रंट लाइन वर्कर्स ने टीका नहीं लगवाया है। ये है टीकाकरण की स्थिति हेल्थ वर्कर्स पहला टीका- 5759 दूसरा टीका- 3906 फ्रंट लाइन वर्कर्स पहला टीका- 8157 दूसरा टीका- 4187 30 प्रतिशत हेल्थ वर्कर्स ने नहीं लगवाया टीका एक तरफ जिले में टीकाकरण महाअभियान की शुरुआत होने जा रही है। एक ही दिन में 20 हजार से ज्यादा नागरिकों को ठीक लगवाने के लक्ष्य है, वहीं दूसरी तरफ स्वास्थ्य महकमे के लोग ही टीका लगवाने में रुचि नहीं दिखा रहे हैं। 6 महीने बाद भी 30 प्रतिशत हेल्थ वर्कर्स ऐसे हैं, जिन्होंने एक भी डोज नहीं लगवाया है। इसी तरह 26 प्रतिशत फ्रंट लाइन वर्कर्स भी टीके लगवाने नहीं पहुंचे हैं। जिले में 12 हजार के लगभग फ्रंट लाइन वर्कर्स हैं। इनमें से 8 हजार से कुछ ज्यादा लोगों ने ही वैक्सीन का पहले डोज लिया है। दूसरा डोज लेने वालों की संख्या 4 हजार ही है। इसके पीछे कारण बताया जा रहा है कि अधिकतर वर्कर्स ने कोविशील्ड लगवाई है। इसका डोज 84 दिन बाद लगेगा। इसलिए दूसरा डोज लगवाने वालों की संख्या कम है। वहीं बड़ी संख्या में ऐसे लोग भी हैं जो दूसरी लहर में कोरोना पॉजिटिव हुए थे, इसलिए भी इनको टीका नहीं लगा है। इसके अलावा जिले में 9 हजार के आसपास हेल्थ वर्कर्स हैं। जिनका टीकाकरण का आंकड़ा अभी 70 प्रतिशत ही है। दूसरा डोज तो 50 प्रतिशत से अधिक हेल्थ वर्कर्स को नहीं लगा है। 3 हजार से ज्यादा ऐसे हेल्थ वर्कर्स हैं। जिन्होंने टीके का एक भी डोज नहीं लगवाया है। हिन्दुस्थान समाचार / अभिषेक

अन्य खबरें

No stories found.