28 मार्च को होली पूजन एवं दहन, 29 को धुलेंडी

 28 मार्च को होली पूजन एवं दहन, 29 को धुलेंडी
holi-worship-and-combustion-on-march-28-dhulendi-on-29th

28 मार्च को होली पूजन एवं दहन, 29 को धुलेंडी गुना 24 मार्च (हि.स.) । विराट हिन्दू उत्सव समिति के तहत 28 मार्च को होली पूजन एवं दहन, 29 मार्च को धुलेंडी एवं 2 अप्रैल को रंग पंचमी पर कार्यक्रम संपन्न होंगे। हिउस प्रमुख कैलाश मंथन ने होली, धुलेंडी एवं रंगपंचमी को कोविड-19 के तहत गाईडलाईन का पालन करते हुए मनाने की अपील की है। होली पर गुना एवं अशोकनगर करीला धाम में सुरक्षा व्यवस्था, पेयजल एवं निरंतर विद्युत आपूर्ति की मांग मप्र सरकार एवं प्रशासन से की है। 40 दिवसीय फाग महोत्सव के तहत मध्यभारत मालवा, बुंदेलखंड अंचल के पुष्टि भक्ति केंद्रों पर बसंत पंचमी से चल रहे फाग महोत्सव का समापन दोलोत्सव धुलेंडी के साथ संपन्न होगा। अंतर्राष्ट्रीय पुष्टिमार्गीय वैष्णव परिषद के प्रांतीय प्रचार प्रमुख कैलाश मंथन ने बताया कि पुष्टिभक्ति मार्ग में डेढ़ माह तक फाग महोत्सव के तहत श्री ठाकुरजी के साथ रंग गुलाल से होली खेली जाती है। बसंत फाग पर्व उल्लास, उमंग एवं जीवन में रंग भरने का महोत्सव है। फाग महोत्सव के तहत सत्संग मंडलों एवं श्रीनाथ जी के मंदिरों में श्रद्धा भक्ति के साथ नित्य नए रंगों से श्रीनाथ जी को दुलार किया जा रहा है। जिले के ग्रामीण अंचलों में धुलेंडी तक भक्तगण कृष्ण भक्ति के रंग में डूबे रहेंगे। करीला राई नृत्य पर प्रतिबंध लगाना स्वागतपूर्ण कदम-मंथन हिउस ने रंग पंचमी जैसे पवित्र त्यौहारों पर फूहड़ता भरे नृत्यों एवं शराबखोरी पर प्रतिबंध लगाने का स्वागत किया है। हिउस प्रमुख कैलाश मंथन ने कहा कि नशे के मद में मदहोश लोगों की भीड़ एवं अश्लील भौंडे नृत्य कभी भी हादसे का कारण बन जाते हैं। विराट हिन्दू उत्सव समिति के प्रमुख कैलाश मंथन के मुताबिक अंचल करीला धाम में रंगपंचमी के अवसर पर लाखों लोग पहुंचते हैं, उनकी सुरक्षा व्यवस्था के पर्याप्त इंतजाम होने के बावजूद हादसे घटित होते हैं। इनकी प्रमुख वजह है क्षेत्रों में खुले आम शराब का बिकना। देखा जाता है कि शराब के नशे में डूबकर अनेकों दबंग रंगपंचमी की रात जब करीला में मां जानकी एवं राम दरबार की प्रार्थना में राई नृत्य के दौरान अश्लील हरकतें करते हैं। वहीं अनेकों राइयों को भी शराब पिलाकर नृत्य कराया जाता है, जो कि झगड़े का कारण भी बन जाते हैं। कोरोना के चलते राई नृत्य पर लगाए गए प्रतिबंधों को स्थाई किया जाए, ताकि शराब एवं शबाब से भरपूर अश्लील नृत्यों पर अंकुश लगाया जा सके। हिन्दुस्थान समाचार / अभिषेक

अन्य खबरें

No stories found.