गुना : टीकाकरण : गांवों में भी बढऩे लगा रुझान

गुना : टीकाकरण : गांवों में भी बढऩे लगा रुझान
guna-vaccination-trend-started-increasing-in-villages-too

गुना, 22 मई (हि.स.) । शहर के बाद ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण से बचाव हेतु टीकाकरण को लेकर रुझान बढऩे लग गया है। हालांकि अभी यह शुरुआती दौर में है और स्थिति ज्यादा बेहतर नहीं हुई है, लेकिन इसे उम्मीद की किरण के रुप में देखा जा रहा है। यह संभव हुआ है लगातार समझाईश से। जिसमें प्रशासनिक अधिकारियों, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं एवं अन्य आंगनबाडी़, आशा कार्यकर्ताओं सहित अन्य विभागीय कर्मचारियों ने ग्रामीणों के बीच पहुंचकर जहां टीका लगवाने के फायदे बताए तो भ्रांतियों को भी दूर किया जा रहा है। इसके लिए गांव के ही प्रतिष्ठित माने जाने वाले सामाजिक लोगों की मदद भी ली जा रही है। माना जा रहा है कि संयुक्त प्रयासों से गांवों में भी टीकाकरण का फीसद सुधरेगा। जो संक्रमण की रोकथाम में सहायक साबित होगा। शहर में काबू, गांव में बढ़ा संक्रमण पिछले एक सप्ताह से शहर में कोरोना वायरस संक्रमण बहुत हद तक काबू में आ गया है, आंकड़े इसकी गवाही दे रहे है, किन्तू इसी बीच ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमण की गति बढ़ी है। प्रशासन के मुताबिक जिले के पांचों ब्लॉक में वर्तमान में 221 कोरोना संक्रमित हैं। इनमें 146 होम आइसोलेशन में हैं। सबसे ज्यादा संक्रमित बमोरी ब्लॉक में 63, तो सबसे कम चांचौड़ा विकासखंड में 31 संक्रमित हैं। बमौरी में 28 तो चांचौड़ा में 20 पंचायतें है, वहीं गुना ब्लॉक के 25 गांवों में 59 संक्रमित मरीज हैं, जिनमें से 38 को होम आइसोलेट किया गया है। राघौगढ़ के 15 गांवों में 33 संक्रमित मरीज होकर 18 होम आइसोलेट हैं। 14 पॉजिटिव मधुसूदनगढ़ में हैं। आरोन की 18 पंचायत में 35 संक्रमित हैं। टीकाकरण में आ रही हैं दिक्कतें एक तरफ गांवों में संक्रमण बढ़ रहा है तो दूसरी तरफ टीकाकरण में भी दिक्कतें आ रही हैं। टीका लगाने पहुंचने वाले दल से लोगों का सीधा सवाल रहता है कि जब उन्हे कोई बीमारी ही नहीं है तो वह टीका क्यों लगवाएं? इसके साथ ही उनके मन में कई तरह की भ्रांतियां भी टीका लगवाने को लेकर हैं। जिन्हे लगातार समझाईश देकर दूर किया जा रहा है। जिससे सुखद परिणाम भी सामने आ रहे है। कुंभराज क्षेत्र में टीकाकरण को लेकर गंभीर स्थिति सामने आने के बाद यहां दी-तीन दिन लगातार मेहनत की गई तो अब लोग टीका लगवाने तैयार होने लगे हैं। महिलाओं के साथ चर्चा करने के साथ ही चौपाल पर पुरुषों को जागरुक किया गया। इसी के मद्देनजर यहां बीते रोज 60 लोगों का टीकाकरण किया गया। राघौगढ़ और बमौरी क्षेत्र में भी लोग टीकाकरण से परहेज कर रहे है। बमौरी में सहरिया और आदिवासी टीका लगवाने तैयार नहीं हो रहे हैं। जिन्हे भी समझाईश दी जा रही है। इन क्षेत्रों में 45+ के नागरिकों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्रशासन को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। महिलाओं में तो सबसे ज्यादा डर बैठा हुआ है। उनका कहना है कि टीकाकरण के बाद अगर बीमार पड़े तो इलाज कराने कौन लेकर जाएगा। 38 साल आयु वाली डेढ़ फीट की मोना अग्रवाल ने लगवाया टीका टीकाकरण को लेकर उत्साह बढ़ता जा रहा है। इस दौरान प्रेरणादायक प्रसंग भी सामने आ रहा है। गत दिवस एक वयोवृद्ध महिला ने टीका लगवाया था। महिला को उनका पोता गोद में लेकर आया था, वहीं शनिवार को मोना अग्रवाल ने टीका लगवाया। उल्लेखनीय यह है कि 38 वर्षीय मोना का कद सिर्फ डेढ़ फिट है । वह अपनी माताजी की गोद मे मानस भवन टीकाकरण केन्द्र पहुँचीं। यहां नर्स निखिल श्री ने उन्हे टीका लगाया। इस दौरान मोना और निखिल श्री दोनों में खासा उत्साह देखने को मिला। इस दौरान मोना ने बताया कि कई दिनों के प्रयास के बाद वह ऑनलाइन पंंजीयन करने में सफल रही और शुक्रवार को कोरोना से बचाव हेतु टीकाकरण करवाया है। उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि वह कोविड-19 के संक्रमण से बचाव हेतु अपनी बारी आने पर टीका अवश्य लगाएं और अन्य लोगों को भी टीका लगवाने के लिए प्रोत्साहित करें। शनिवार को मानस भवन में 18 प्लस के 257 एवं सरस्वती शिशु मंदिर में 59 लोगों को टीका की पहली खुराक दी गई। हिन्दुस्थान समाचार / अभिषेक