बजरंगगढ़ स्थित जिले के एकमात्र गंगा मंदिर में मनाया गया गंगा दशहरा

 बजरंगगढ़ स्थित जिले के एकमात्र गंगा मंदिर में मनाया गया गंगा दशहरा
ganga-dussehra-celebrated-in-the-only-ganga-temple-of-the-district-located-in-bajranggarh

गुना, 20 जून (हि.स.)। बजरंगगढ़ में स्थित जिले के एकमात्र मां गंगाजी के मंदिर में रविवार को गंगा दशहरा का पर्व मनाया गया। दरअसल, ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष दशमी तिथि गंगा दशहरा दशहरे के दिन जगत की तारणहार, जगत की रखवाली माता गंगा का प्राकट्य दिवस है। आज ही के दिन माता धरती पर प्रकट हुई थीं। इसीलिए आज गंगा दशहरा मनाया जाता है और माता गंगा का अभिषेक कर यह प्रार्थना की जाती है कि हमारे सारे कष्ट दूर हों और यह धरती धन्य धान्य से भरी रहे। सभी सुखी हों सभी निरोगी हों। इस अवसर पर मंदिर में विशेष पूजा अर्चना की गई। गंगा जल के साथ विधिवत मां गंगा का अभिषेक किया गया, मंदिर की सजावट की गई। मंदिर की पुजारी साधना गलगले ने माता गंगा का अभिषेक करने के बाद विधि विधान से पूजा अर्चना की श्रृंगार किया और विभिन्न प्रकार के प्रसाद के साथ आमरस का भोग लगाया गया। गंगा आरती के उपरांत कोविड नियमों का पालन करते हुए सीमित संख्या में श्रद्धालुओं ने दर्शन किए, प्रसाद वितरण किया। मां गंगा से सभी के स्वास्थ्य की और कोरोना महामारी के समाप्त होने की कामना सभी ने की। गंगा मंदिर की पुजारी साधना गलगले ने बताया कि यह गंगा मंदिर लगभग ढाई सौ वर्ष पुराना है और जब बजरंगगढ़ जिला था। यहां कचहरी लगती थी तब कचहरी में अपराधियों को गवाहों को मां गंगा की कसम दिलाकर ही कार्यवाही की जाती थी, गवाही ली जाती थी। यह मंदिर अति प्राचीन है जो ऐतिहासिक, पुरातात्विक एवं धार्मिक महत्व का मंदिर है। हिन्दुस्थान समाचार / अभिषेक

अन्य खबरें

No stories found.