फीवर क्लीनिक के सफल संचालन में डॉ. रिकेश्वरी ने निभाई अहम भूमिका

फीवर क्लीनिक के सफल संचालन में डॉ. रिकेश्वरी ने निभाई अहम भूमिका
dr-rickeshwari-played-an-important-role-in-the-successful-operation-of-fever-clinic

सिवनी, 11 जून(हि.स.)। जिले में कोविड-19 की शुरूआती लहर के साथ ही फीवर क्लीनिक की भी शुरूआत की गई। जिसमें सर्दी, खांसी, बुखार के लक्षण वाले मरीजों की जांच की जा रही है। कोविड के मरीजों की पहचान करने में फीवर क्लीनिक की अत्यंत महत्वपूर्ण भूमिका रही है। जिसमें आयुष चिकित्सा अधिकारी डॉ. रिकेश्वरी अमरोदिया द्वारा फीवर क्लीनिक ओपीडी में अपनी सेवाएं दी गई हैं। कोरोना संक्रमण में मरीजो की जांच एवं त्वरित उपचार में डॉ. रिकेश्वरी अमरोदिया की अहम भूमिका रही। डॉ. रिकेश्वरी अमरोदिया ने बताया कि फीवर क्लीनिक सुबह 8 बजे से रात्रि 8 बजे तक दो शिफ्ट में संचालित किया जाता है जिसमें सर्दी, खांसी, बुखार तथा कोविड-19 के संदिग्ध लक्षण वाले मरीजो की जाचं की जाती है। कोविड काल के दौरान फीवर क्लीनिक में प्रतिदिन लगभग 250 से 300 मरीजो की जांच की जाती थी तथा वर्तमान में भी यह प्रतिदिन संचालित किया जा रहा है। इस दौरान उन्होंने लगातार ड्यूटी की एवं किसी भी प्रकार का अवकाश नहीं लिया। ड्यूटी के दौरान मै कोविड पॉजिटिव हो गई थी, किंतु मैने आत्मविश्वास नहीं खोया एवं कोविड को मात देकर पुनरू कार्यस्थल पर उपस्थित हुई। घर वालों ने फिर से ड्यूटी ज्वाईन करने के लिए बहुत मना किया, पर फिर भी मैंने अपनी परवाह किए बिना ड्यूटी ज्वाईन की और अपना काम शुरू किया। फीवर क्लीनिक ओपीडी में मरीजों को उपचार के पश्चात दवाईया भी उपलब्ध कराई जाती थी तथा गंभीर मरीजों को जांच उपरांत वार्ड में भर्ती कराया जाता था। सभी स्टाफ के साथ आपसी सामंजस्य से कोरोना संक्रमण को रोकने में काफी हद तक सफलता मिली है। वह कहती हैं कि एक डॉक्टर का कर्तव्य होता है कि वह खुद से पहले अपने मरीजों की परवाह करे। भगवान से आशा है कि ये भयंकर कोरोना महामारी जल्द ही पूरी तहर से खत्म हो। हिन्दुस्थान समाचार/रवि सनोडिया