आईसीयू में प्रतिदिन डी- डायमर टेस्ट अनिवार्य किया जाए: धैर्यवर्धन

आईसीयू में प्रतिदिन डी- डायमर टेस्ट अनिवार्य किया जाए:  धैर्यवर्धन
daily-d-dimer-test-should-be-made-mandatory-in-icu-patience

07/05/2021 - भाजपा नेता ने उठाई मांग शिवपुरी, 7 मई (हि.स.)। शिवपुरी के वरिष्ठ भाजपा नेता और प्रदेश कार्य समिति सदस्य धैर्यवर्धन ने कहा कि शिवपुरी में कोविड वार्ड मे भर्ती मरीजों का प्रतिदिन अनिवार्य रूप से डीडायमर टेस्ट किया जाना चाहिए। यह टेस्ट खून मे आ रहे गाढेपन और थक्कों की जानकारी प्रदान करता है । भाजपा नेता धैर्यवर्धन ने कहा कि कोरोना वायरस के ज्यादा संक्रमण हो जाने पर फेफडों मे चिपचिपाहट बढ़ जाती है और इस गाढेपन से फेफड़े और खून मे थक्के जमने लगते हैं । अनेक डॉक्टर्स का मत है कि वेंटिलेटर पर अति गंभीर अवस्था मे पहुँचने वाले रोगियों मे लगभग एक चौथाई मे पॉल्म्नरी ईबोलिज्म नामक बीमारी हो सकती है जिससे फेफडों की धमनियों में रक्त प्रवाह वाधित होने से ह्रदयाघात हो जाता है । धैर्यवर्धन ने कहा कि गंभीर अवस्था मे मरीजों को वायरल लोड कम करने के लिए वर्तमान मे रेमडेसिविर इंजेक्शन दिया जा रहा है। यह इंजेक्शन तात्कालिक तौर पर लाभदायक है पर बाद मे इसके साइड इफेक्ट्स के कारण हृदय की गति तेज और अनियमित हो जाती है।यह लिवर, किडनी को समस्या उत्पन्न भी कर सकता है। खून के गाढेपन के कारन डीडायमर प्रोटीन बढ़ने से थ्रोम्बोसिस की समस्या हो सकती है जिससे मरीज के पैर, हृदय, फेफड़े और मस्तिष्क मे थक्का जमने लगता है । भाजपा नेता धैर्य वर्धन ने कहा कि चूंकि शिवपुरी के ज़िला चिकित्सालय और मेडिकल कॉलेज मे विद्वान् चिकित्सक हैं अत: वे डिडायमर का स्तर जानकर खून पतला करने वाले इंजेक्शन को रेम्डेसिविर ट्रीटमेंट पीरियड मे लगातार दे सकेंगे। सामान्य तौर पर शिवपुरी मे इलाज कर रहे डॉक्टर्स द्वारा ईको एस्पिरिन नामक इंजेक्शन लगाया भी जाता है, लेकिन अब एनक्लेक्स 40, 60 आदि जैसे कई आधुनिक ड्रग के इंजेक्शन लगाए जाने लगे हैं। ये इंजेक्शन पेट की चमडी में सीधे लगाकर उसके उपयोग से खून मे थक्के बनने से रोका जाता है। ये इंजेक्शन एन्टीकोग्लेन्ट होने से ब्लड क्लॉटिंग प्रोटीन्स को इनएक्टिव करते हैं। इस प्रकार की नवीन और ज्यादा असरदार वाली दवा और इंजेक्शन तत्काल प्रभाव से रोगी कल्याण समिति एवं रेडक्रॉस के फंड से खरीदी जानी चाहिए। यदि बजट की कोई समस्या है तो क्रायसिस कण्ट्रोल कमेटी या शांति समिति की बैठक बुलाकर जन सहयोग का आव्हान किया जाना चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार/ रंजीत गुप्ता