चक्रतीर्थ में दाह संस्कार के लिए बनाए गए चबूतरे

चक्रतीर्थ में दाह संस्कार के लिए बनाए गए चबूतरे
cremated-platforms-for-cremation-at-chakratirtha

04/05/2021 उज्जैन, 04 मई (हि.स.)। धार्मिक नगरी में पहली बार तीन स्थानों पर बने चक्रतीर्थों पर दिन रात दाह संस्कार हो रहे हैं। हालात यह है कि लोगों को जमीन पर लकड़ियां जमा कर चिंताएं जलानी पड़ रही है जिसके चलते अब शिप्रा नदी किनारे चक्रतीर्थ पर नए चबूतरों का निर्माण कार्य किया जा रहा है। शहर में पिछले 20-25 दिनों से लगातार मरने वालों का आंकड़ा बढ़ता नजर आ रहा है। कुछ महीनों तक अंतिम संस्कार की विधियों को शिप्रा नदी स्थित चक्रतीर्थ पर ही किया जाता था। लेकिन अब शहर के त्रिवेणी स्थित मोक्ष धाम और ओखलेश्वर घाट स्थित श्मशान में भी अंतिम संस्कार की विधियां होती दिखाई दे रही हैं। हालात यह है कि पहले महीने 2 महीनों में जितने दाह संस्कार चक्र तीर्थ पर होते थे वह अब 24 घंटे में होते दिखाई दे रहे हैं। अपने परिजनों को मुखाग्नि देने के लिए चक्रतीर्थ पहुंचने वालों को जहां जगह मिल रही है वहीं चिता जमा कर अंतिम संस्कार किया जा रहा है। चक्रतीर्थ पर कम पड़ती जगह को देखते हुए अब नए चबूतरों का निर्माण किया जा रहा है, जहां दो-तीन दिनों बाद अंतिम संस्कार की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। शहर के तीनों चक्र तीर्थ पर शहर ही नहीं आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों के साथ ही अन्य जिलों से उपचार के लिए पहुंच रहे लोगों की मौत होने के बाद उनका अंतिम संस्कार भी यही किया जा रहा है। हिंदुस्थान समाचार/गजेंद्र सिंह तोमर