corona-incharge-denied-deaths-due-to-negligence
corona-incharge-denied-deaths-due-to-negligence
मध्य-प्रदेश

लापरवाही से हुई मौतों को कोरोना प्रभारी मंत्री ने नकारा

news

अशोकनगर,29 अप्रैल(हि.स.)। जिले में बढ़ते कारोना संक्रमण के चलते दो माह के बीच दो दर्जन से अधिक मौतें हो चुकी हैं, बीते दिन ही जिला अस्पताल में अलग-अलग भर्ती तीन लोगों की मौत हो जाने पर परिजनों के द्वारा ऑक्सीजन होते हुए समय पर आक्सीजन न मिलने पर सिविल सर्जन पर लापरवाही से मौत होने के आरोप लगाये गए थे। इस मामले को लेकर गुरुवार को जिले के कोरोना प्रभारी मंत्री बृजेन्द्र सिंह यादव ने कहा है कि अस्पताल में संसाधनों और उपचार के अभाव में कोई जनहानि नहीं हुई है और न होने दी जाएगी। दरअसल जिला अस्पताल में प्रतिदिन अस्पताल प्रबंधन पर मरीजों को उचित व्यवस्थायें न मिलने के आरोप लग रहे हैं। इस अव्यवस्था और लापरवाह हालातों के बीच दो दर्जन से अधिक दुखद मौतें हो चुकी हैं । वहीं अस्पताल प्रबंधन द्वारा अस्पताल में ऑक्सीजन होते हुए समय पर मरीजों को ऑक्सीजन के प्रबंध न करने आदि लापरवाही सामने आ रही है। उल्लेखनीय है कि गत दिवस ही अस्पताल में संजय त्रिपाठी नामक युवक व दो अन्य की मौत अस्पताल में ऑक्सीजन होते हुए समय पर उपलब्ध न कराने के आरोप सिविल सर्जन डॉ.जेआर त्रिवेदिया पर लगाए गए थे। इस बीच कोरोना प्रभारी मंत्री लापरवाही से हुई मौतों के गंभीर आरोपों के बावजूद जनहानि न होने जैसे बयान जारी करना उनके द्वारा अप्रत्यक्ष रूप से सिविल सर्जन डॉ.त्रिवेदिया का बचाव किया जा रहा है। लोग यहां यह भी सवाल उठा रहे हैं कि कोरोना मंत्री द्वारा कोरोना संक्रमण की समीक्षा तो की जाती है, पर जिला अस्पताल में हो रही मौतों पर अभी तक कोई समीक्षा नहीं की गई कि गई है, अस्पताल प्रबंधन द्वारा बीते दो माह में कुल चार मौतें होना दर्शा रहा है जबकि यह आंकड़ा कई गुना अधिक है। डॉ.त्रिवेदिया पहले भी रहे हैं चर्चाओं में: जिला अस्पताल के प्रभारी सिविल सर्जन डॉ.त्रिवेदिया पूर्व में सीएमएचओ पद पर रहे कर चर्चा में रहे हैं, बीते वर्ष कोरोना संक्रमण काल में डॉ.त्रिवेदिया का समोसा कांड सुर्खियों में रहा था, जिनके द्वारा कोरोना वार्ड में कोरोना संक्रमित मरीजों को समोसे का नाश्ता दिया गया था, जो मुख्य चर्चा में रहा था। हिन्दुस्थान समाचार/ देवेन्द्र ताम्रकार