कांग्रेस का बड़ा आरोप, मध्यप्रदेश में बढ़ते कोरोना में भी निरंतर चला ट्रांसफर उद्योग
कांग्रेस का बड़ा आरोप, मध्यप्रदेश में बढ़ते कोरोना में भी निरंतर चला ट्रांसफर उद्योग
मध्य-प्रदेश

कांग्रेस का बड़ा आरोप, मध्यप्रदेश में बढ़ते कोरोना में भी निरंतर चला ट्रांसफर उद्योग

news

भोपाल, 23 जुलाई (हि.स.)। मप्र की सत्ता में रहते हुए ट्रांसफर उद्योग चलाने का आरोप झेलने वाली कांग्रेस अब भाजपा पर ही उल्टा आरोप लगा रही है। मध्य प्रदेश कांग्रेस के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में निरंतर बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामलों के पीछे सरकार का निरंतर चला " ट्रांसफर उद्योग " असली कारण है। नरेन्द्र सलूजा ने गुरुवार को जारी अपने एक बयान में कहा कि एक तरफ प्रदेश में कोरोना संक्रमण दस्तक दे रहा था, वही नई नवेली भाजपा सरकार ने आते ही इस महामारी में भी प्रदेश में प्रतिदिन ट्रांसफऱ उद्योग चलाया। इसका नुक़सान यह रहा कि महीनों से जिन जिलों मे जो अधिकारी पदस्थ थे, ठीक ढंग से काम कर रहे थे। उन्हें हटाकर एकदम से नये अधिकारी पदस्थ कर दिये गये। जिन्हें उन जिलों का जऱा भी अनुभव नहीं था। इससे इन जिलों में तेज़ी से कोरोना फैल गया, उस पर ये नये-नवेले अधिकारी नियंत्रण नहीं कर पाये। प्रदेश में बढ़ते कोरोना संक्रमण के पीछे यही असली कारण है। उन्होंने कहा कि 21 मार्च को प्रदेश में मात्र 4 कोरोना संक्रमण के केस सामने आये थे और आज प्रदेश में कोरोना संक्रमण का आँकड़ा बढक़र 25 हजार के करीब पहुँच चुका है और अभी तक इससे 770 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। सलूजा ने राजधानी में बढ़ रहे मामलों पर कहा कि प्रदेश की राजधानी भोपाल में कोरोना संक्रमण का आँकड़ा 5 हज़ार तक पहुँच चुका है और कऱीब 150 लोगों की अभी तक मृत्यु हो चुकी है। वही इंदौर में यह आँकड़ा 6500 पर पहुँच चुका है और अभी तक 300 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। प्रदेश के लगभग सभी जिले कोरोना की चपेट में आ चुके है और बड़ी संख्या में ग्रामीण इलाका भी इसकी चपेट में आता जा रहा है, प्रदेश में वापस लॉकडाउन की स्थिति बन गयी है। सीएम पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि शिवराज सरकार ने प्रशासनिक सर्जरी के नाम पर राजनैतिक दुर्भावनावश, योग्य अधिकारियों को जिलों से अकारण हटाकर प्रदेश को कोरोना की आग में झोंक दिया। पुराने पदस्थ अधिकारियों को हटाकर एकदम नए अधिकारियों को बैठा दिया गया, इन अधिकारियों को इन जिलों की समझ नहीं थी। लेकिन सरकार के ट्रांसफर उद्योग ने इस महामारी में भी प्रदेश के कई जिलों में आईएएस और आईपीएस अधिकारियों को इधर से उधर कर दिया, जिसके कारण इन जिलों में कोरोना तेजी से फैल गया। उन्होंने कहा कि इसके लिये प्रमाण के तौर पर उन जिलों की स्थिति आज देखी जा सकती है, जिन जिलों में जिम्मेदारों को बदला गया और आज उन जिलों में कोरोना नियंत्रण से बाहर है और कोरोना के भयावह होते आँकड़ो को लेकर ये जिले आज प्रदेश के हॉट-स्पॉट बने हुए है। सलूजा ने कि जिन जिलों में कोरोना की स्थिति भयावह हो गई है, इसकी दोषी शिवराज सरकार है। जिसने आज प्रदेश को इस स्थिति में ला खड़ा कर दिया है। इसके लिये प्रदेश की जनता इन्हें कभी माफ़ नहीं करेगी। प्रदेश में वापस लॉक डाउन की दोषी शिवराज सरकार और उसका ट्रांसफऱ उद्योग है। हिन्दुस्थान समाचार/ नेहा पाण्डेय-hindusthansamachar.in