रोड शो में हार की जिम्मेदारी से बचते नजर आए कांग्रेस के नेता, कमलनाथ के रथ पर नहीं चढेः जयंत मलैया

रोड शो में हार की जिम्मेदारी से बचते नजर आए कांग्रेस के नेता, कमलनाथ के रथ पर नहीं चढेः जयंत मलैया
congress-leaders-seen-in-road-show-escaping-responsibility-for-defeat-did-not-climb-kamal-nath39s-chariot-jayant-malaiya

दमोह, 14 अप्रैल (हि.स.)। दमोह उपचुनाव में कांग्रेस की हार तय है और इस हार की जिम्मेदारी लेने से पार्टी का हर नेता बचना चाह रहा है। यही वजह रही कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के रोड शो में उनके साथ रथ पर पार्टी का कोई और नेता दिखाई नहीं दिया, जबकि कई नेता उस समय वहां मौजूद थे। आखिरकार कांग्रेस का वो रोड शो जिसे चार घंटे चलना था, महज 40 मिनट में सिमट गया। यह बात भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व मंत्री जयंत मलैया ने कमलनाथ के रोड शो को फ्लाप शो बताते हुए कही। जयंत मलैया ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के दमोह में होने वाले रोड शो को लेकर कांग्रेस द्वारा बड़ा ढिंढोरा पीटा जा रहा था, लेकिन यह रोड शो महज औपचारिकता बनकर रह गया और सिर्फ 40 मिनट में ही खत्म हो गया। मलैया ने कहा कि दमोह विधानसभा क्षेत्र में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा, मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान समेत अन्य नेता पिछले 20-22 दिनों से लगातार सक्रिय हैं और संपर्क कर रहे हैं। पार्टी को मिल रहे अपार जनसमर्थन को देखकर कांग्रेस के नेताओं को यह अहसास हो गया है कि उनकी हार सुनिश्चित है और इसीलिए वो हताश हो चुके हैं। इसलिए पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने रोड शो के बाद जनता को संबोधित नहीं किया और चुपचाप लौट गए। मलैया ने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के रोड शो के लिए बुधवार को जयवर्धनसिंह, लाखनसिंह और राकेश चौधरी जैसे नेता दमोह आए थे, लेकिन इनमें से कोई भी नेता कमलनाथ के साथ रथ पर सवार होकर जनता के सामने नहीं आया। इससे स्पष्ट है कि कोई भी नेता चुनावी हार की जिम्मेदारी बांटने के लिए तैयार नहीं है। जयंत मलैया ने कहा कि दमोह विधानसभा उपचुनाव के दौरान लगातार कांग्रेस की टूट जनता के सामने आती रही है और पार्टी की अंदरूनी खींचतान के चलते ही स्टार प्रचारकों की सूची से उन नेताओं के नाम चुन-चुनकर हटा दिये गए हैं, जो प्रदेश अध्यक्ष या नेता प्रतिपक्ष पद के लिए अपना दावा प्रस्तुत कर सकते थे। मलैया ने कहा कि कांग्रेस की स्थिति को देखकर जनता को भलीभांति इस बात का अहसास हो चुका है कि जो पार्टी अपना घर नहीं संभाल सकती, उससे विकास की अपेक्षा रखना ही बेमानी है। हिन्दुस्थान समाचार/केशव दुबे/jराजू