कमिश्नर ने लिया कटनी जिला अस्पताल कोरोना की थर्ड वेब तैयारियों का जायजा

कमिश्नर ने लिया कटनी जिला अस्पताल कोरोना की थर्ड वेब तैयारियों का जायजा
commissioner-took-stock-of-third-web-preparations-of-katni-district-hospital-corona

कटनी, 11 जून (हि.स.)। कोरोना संक्रमण की सेकेण्ड वेब के बाद अब संभावित तीसरी वेब की तैयारियों को लेकर प्रशासन द्वारा कार्य प्रारंभ कर दिया गया है। शासन-प्रशासन इस दिशा में तेजी से काम कर रहा है। जिले में अधिक से अधिक चिकित्सीय संसाधन बढ़ाने की दिशा में कार्य हो रहे हैं। जिला अस्पताल के साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र और उप स्वास्थ्य केन्द्रों को भी अपग्रेड किया जा रहा है। इसी कड़ी में जिला प्रशासन द्वारा कोरोना की थर्ड वेब से निपटने की तैयारियों का जायजा लेने के लिए संभागायुक्त बी. चन्द्रशेखर शुक्रवार को कटनी पहुंचे। इस दौरान उन्होंने जिला अस्पताल का निरीक्षण किया। साथ ही आवश्यक दिशा-निर्देश अस्पताल प्रबंधन को दिये। कलेकटर प्रियंक मिश्रा और पुलिस अधीक्षक मयंक अवस्थी भी इस दौरान मौजूद रहे। जिला अस्पताल के निरीक्षण के दौरान सर्वप्रथम संभागायुक्त चन्द्रशेखर ने सिविल सर्जन से मौजूदा व्यवस्थाओं की जानकारी ली। कलेक्टर मिश्रा ने उन्हें थर्ड वेब से निपटने के लिये स्थापित किये गये बच्चों के काविड वॉर्ड और निर्माणाधीन आईसीयू की जानकारी ली। अपने विजिट की शुरुआत संभागायुक्त ने निर्माणाधीन आईसीयू से की। उन्होने कहा कि सुव्यवस्थित कार्ययोजना के साथ ही आईसीयू का निर्माण करायें। किसी भी तरह की कोई कमी ना रहे। इसके बाद संभागायुक्त ने बच्चों के लिये स्थापित किये गये कोविड वॉर्ड का निरीक्षण किया। जहां की व्यवस्थायें उन्होंने देखीं। साथ ही साफ-सफाई बेहतर रखने के निर्देश दिये। बच्चों के लिये स्थापित किये गये कोविड वॉर्ड के प्रसाधन कक्ष की साफ-सफाई दुरुस्त ना होने पर उन्होने नाराजगी जाहिर की और बेहतर साफ-सफाई रखने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि यह कार्य आप आउटसोर्स से करा रहे हैं, तो गुणवत्ता खराब क्यों है। यदि साफ-सफाई बेहतर ढंग से आउटसोर्स एजेन्सी नहीं करती है, तो उसका टेंण्डर निरस्त करें। संभागायुक्त बी. चन्द्रशेखर ने जिला अस्पताल में स्थापित हो रहे ऑक्सीजन प्लान्ट के कार्य की प्रगति का जायजा भी लिया। जहां कलेक्टर मिश्रा ने अस्पताल में स्थापित होने वाले विभिन्न क्षमताओं के प्लान्ट्स की जानकारी विस्तार से दी। संभागायुक्त ने सिविल सर्जन को प्लान्ट के साथ-साथ समानांतर रुप से ऑक्सीजन की सप्लाई के लिये लाईन का कार्य कराने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि आप अभी से टेण्डर की प्रक्रिया अपनाकर इस कार्य को सुनिश्चित करायें। ताकि प्लान्ट लगने के बाद उसका लाभ शीघ्र मिल पाये। जिला अस्पताल में विद्युत व्यवस्था दुरुस्त रहे, इसके लिये उपलब्ध डीजी सिस्टम की जानकारी भी संभागायुक्त ने ली। उन्होंने कहा कि अस्पताल प्रबंधन यह सुनिश्चित करे कि डीजी सिस्टम हमें चालू हालत में हों। ऑक्सीजन प्लान्ट के लिये भी पृथक से डीजी सिस्टम स्थापित करने की प्रक्रिया अभी से सुनिश्चित करने के निर्देश कमिश्नर ने दिये। विजिट के दौरान जिला अस्पताल में उपचाररत परिजनों से संवाद भी कमिश्नर ने किया। उन्होंने उनके आने का कारण और उपचाररत मरीजों के बारे में जानकारी ली। दोनों ही मरीजों द्वारा प्रसव के लिये आने की बात बताई गई। इस पर सीएचसी और पीएचसी में किये गये उपचार के विषय में भी उन्होंने जाना। साथ ही जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में सीएचसी और पीएचसी को मजबूत करने और अधिक से अधिक प्रसव वहां कराने के निर्देश संभागायुक्त ने दिये। जिला अस्पताल में उपचाररत मरीजों के परिजनों को बैठने की बेहतर व्यवस्था हो, यदि लंबा उपचार हो तो रुकने की व्यवस्था हो, इसके लिये व्यवस्थायें बनाने की बात संभागायुक्त ने कही। उन्होंने कहा कि जिला अस्पताल में मरीजों के परिजनों के लिये डॉरमेटरी की व्यवस्था के लिये भी कार्य करें। इसके साथ ही जिला अस्पताल की अन्य व्यवस्थाओं का जायजा भी संभागायुक्त ने लिया। व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने को लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश भी संबंधितों को दिये। विजिट के दौरान सीईओ जिला पंचायत जगदीश चन्द्र गोमे, अपर कलेक्टर रोहित सिसोनिया, सहायक कलेक्टर अंजली रमेश, सीएमएचओ डॉ. प्रदीप मुढि़या, सिविल सर्जन डॉ. यशवंत वर्मा, एएससी संदीप मिश्रा, एसडीएम बलबीर रमन सहित अन्य संबंधित अधिकारी भी मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश