बदलते मौसम, आंधी के साथ झमाझम बारिश, सब्जी की फसलों को नुकसान

बदलते मौसम, आंधी के साथ झमाझम बारिश, सब्जी की फसलों को नुकसान
changing-weather-thunderstorms-with-thunderstorms-damage-to-vegetable-crops

अनूपपुर, 04 मई (हि.स.)। मौसम विभाग द्वारा प्रदेश के अधिकांश हिस्सों में आगामी पांच दिनों तक होने वाले जोरदार बारिश के पूर्वानुमान में मंगलवार को जिले के अधिकांश हिस्सों में तेज हवाओं के साथ रिमझिम बारिश हुई। अमरकंटक एवं पुष्पराजगढ़ में तेज बारिश के साथ छोटे आकार के ओलें गिरनें से सब्जी की फसल को नुकसान हुआ हैं। जबकि कोतमा के बिजुरी सहित आसपास के हिस्सों में सुबह जोरदार बारिश हुई। बारिश के कारण वातावरण में नमी बना रहा। जिससे दिनभर ठंडी हवाओं से दिन का अधिकतम तापमान 34 डिग्री तथा न्यूनतम 19 डिग्री सेल्सियस बना रहा। अधीक्षक भू-अभिलेख विभाग एसएस मिश्रा ने बताया कि पश्चिमी विक्षोप के कारण मौसम में बदलाव आए हैं। वैसे तो मई और जून धूप का महीना माना जाता है। जितनी तीखी धूप धरती पर पड़ती है उससे आगामी मानसून के दौरान अच्छी बारिश की सम्भावना बनी रहती है। लेकिन इस प्रकार की बारिश से मानसून प्रभावित होगा। खेतों में धूप नहीं लगने से खरीफ की तैयारी भी प्रभावित होगी और पैदावार भी। आसमान में छाए बादलो ंसे एकाध दिन तो बारिश की आशंका बनी हुई है। फिलहाल आसमान में काले बादलों के साथ बिजली कडक रही है। गेहूं और टमाटर की फसलें हो सकती है प्रभावित कृषि उपसंचालक एनडी गुप्ता बताते हैं कि अप्रैल माह के अंत तक रबी की फसलें तैयार होकर कट जाती है। लेकिन जो किसान विलम्ब से खेतों में बुवाई करते हैं, उनकी फसलें थोड़ी विलम्ब से कटती है। इसलिए अभी भी 10-15 प्रतिशत किसानों के खेतों में गेहूं की तैयार फसल लगी है। लगातार बारिश से गेहूं की बालियां काली पड़ जाएगी और दाने बदरंग हो जाएंगे। जबकि सब्जी के लिए टमाटर, लौकी की फसलों के फूल और पौधे में लगे फल को नुकसान होगा। खेतों में अधिक नमी से पौधों के गलने की आशंका बनी रहती है। हिन्दुस्थान समाचार/ राजेश शुक्ला