भोपाल: चिकित्सा शिक्षा मंत्री बोले- जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजेंगे सभी 52 जिलों से सैंपल

भोपाल: चिकित्सा शिक्षा मंत्री बोले- जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजेंगे सभी 52 जिलों से सैंपल
bhopal-medical-education-minister-said---will-send-samples-from-all-52-districts-for-genome-sequencing

भोपाल, 27 जून (हि.स.)। मध्यप्रदेश में कोरोना के डेल्टा प्लस वैरिएंट को लेकर सरकार की चिंता बढ़ रही है। प्रदेश सरकार ने डेल्टा प्लस की समय पर पहचान कर संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सभी जिलों से सैंपल भेजकर जीनोम सिक्वेंसिंग कराने का निर्णय लिया है। यह जानकारी रविवार को चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने दी। मध्यप्रदेश में अब तक डेल्टा प्लस वैरिएंट के 8 मामले सामने आ चुके हैं। इसमें तीन मरीज भोपाल, दो उज्जैन, दो रायसेन और एक अशोकनगर का है। उज्जैन और अशोकनगर में दो मरीजों की मौत हो चुकी है। अभी तक प्रदेश में सिर्फ 25 जिलों से ही सैंपल भेजकर जीनोम सिक्वेंसिंग की जा रही थी। अब सरकार ने तय किया है कि जिले में कोरोना के गंभीर मरीज, दोबारा संक्रमित होने वाले, वैक्सीन लगाने के बाद कोरोना की चपेट में आने वाले, लंबे समय तक अस्पताल में भर्ती और दूसरी गंभीर बीमारियों से पीड़ितों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर उनके सैंपल जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए भेजेगी। स्वास्थ्य विभाग ने तय किया है कि प्रदेश के सभी 52 जिलों से 15 दिनों में 300 सैंपल लैब को भेजे जाएंगे। इसमें से 50 सैंपल का रेंडम चयन कर जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए एनएसडीसी दिल्ली को भेजा जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/केशव दुबे

अन्य खबरें

No stories found.