भोपाल कमिश्नर ने कहा-कोटवार एवं पटेल जैसी इकाइयों को बनाएं सशक्त

भोपाल कमिश्नर ने कहा-कोटवार एवं पटेल जैसी इकाइयों को बनाएं सशक्त
bhopal-commissioner-said--make-units-like-kotwar-and-patel-empowered

भोपाल, 24 मार्च (हि.स.)। भोपाल संभागायुक्त कवीन्द्र कियावत ने बुधवार को संभाग स्तरीय राजस्व प्रकरणों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने वीसी के माध्यम से संभाग के सभी जिलों के एडीएम एवं संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये कि राजस्व विभाग की पुरानी संस्थाओं जैसे कोटवार एवं पटेल को सशक्त बनाकर जन हित में बेहतर उपयोग में लाएं। ये दोनों ही संस्थाएं सशक्त होकर चमत्कारिक परिणाम देगी। इस संदर्भ में उन्होंने जिक्र किया कि बेगमगंज में मेरिज गार्डन के बहुत बड़े अतिक्रमण को 150 कोटवारों ने बड़े ही शांति पूर्ण ढंग से हटाया। बैठक में भोपाल, रायसेन, राजगढ़, सीहोर एवं विदिशा के एडीएम से लेकर पटवारी तक उपस्थित थे। कियावत ने तहसीलदार, एसडीएम एवं पटवारियों से विस्तृत चर्चा की। "पुरानी जल संरचनाओं को पुनर्जीवित करें" उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि गांव में अभी भी पुरानी जल संरचनाएं हैं जिनका पुनर्रुद्धार कर पेयजल की समस्या का कारगर समाधान किया जा सकता है। इसके लिए पटवारी एवं नायब तहसीलदार इन संरचनाओं के नक्शे सीईओ जनपद पंचायत को उपलब्ध कराकर मनरेगा के तहत पुर्नरूद्धार कार्य शीघ्र अतिशीघ्र प्रारंभ कर बारिश के पूर्व पूर्ण कराएं। "असूचित डायवर्जन प्रकरणों का चिन्हांकन कर सख्त कार्यवाही करें" सभी संबंधितों को सीएलआर विभाग के विषय-विशेषज्ञ द्वारा असूचित भूमि उपयोग परिवर्तन (डायवर्जन) को गिरदावरी, गूगल अर्थ, जीआईएस एवं छवि उपग्रह के माध्यम से पता लगाने की जानकारी दी गई। इनके माध्यम से संबंधित भूमि में कृषि कार्यों से भिन्न गतिविधियों की जानकारी के माध्यम से भूमि उपयोग परिवर्तन का पता लगाया जा सकता है। संभागायुक्त ने निर्देश दिए कि इस संबंध में संबंधित अधिकारियों को शीघ्र ही विस्तृत प्रशिक्षण दिया जाए। सभी संबंधित अमला असूचित डायवर्जन प्रकरणों का चिन्हांकन कर सख्ती से कार्यवाही करें। "राजस्व कोर्ट के प्रकरणों का समय पर निराकरण करें" कियावत ने निर्देश दिए कि सभी राजस्व अधिकारी अपने कोर्ट के प्रकरणों का समय पर निराकरण करें। साथ ही अपने अधीनस्थ अधिकारियों के कोर्ट के प्रकरणों के निराकरण की समीक्षा कर लंबित प्रकरणों को त्वरित गति से निराकृत कराएं। न्यायालयीन प्रक्रिया को समय-सीमा में नियमाधीन संपन्न किया जाए। राजस्व न्यायालय सुव्यवस्थित हों तथा सभी राजस्व अधिकारी न्यायालयीन गरिमा के अनुसार पूर्ण अनुशासनबद्ध होकर कार्य करें। कोर्ट की तिथि पीठासीन अधिकारी स्वयं दें। सभी राजस्व अधिकारी, राजस्व कोर्ट में नियमित रूप से कार्य करें। सभी राजस्व अधिकारी अपने अधीनस्थों की नियमित समीक्षा बैठक लेकर कार्यों की सतत मॉनीटरिंग करें। अच्छे वातावरण से अच्छा काम करने का माहौल बनता है। "सभी राजस्व कार्यालय एवं कोर्ट साफ-सुथरे और सुविधायुक्त हों" संभागायुक्त कियावत ने निर्देश दिये कि सभी राजस्व कार्यालय साफ-सुथरे और सुव्यवस्थित होना चाहिए। कार्यालय में कार्य के लिये आए आमजन के लिये बैठक, पेजयल और वाहनों की पार्किंग के लिये उपयुक्त व्यवस्था होना चाहिए। आम जनता बहुत दूर-दूर से बड़ी आशा के साथ सरकारी कार्यालयों में आती है। उन्होंने कहा कि सभी राजस्व अधिकारी अपने क्षेत्रों के कार्यालयों में एकरूपता के साथ-साथ साफ-सफाई, सुसज्जित एवं आम जनता के लिये सर्वसुविधायुक्त व्यवस्थाएं बनाएं। जहाँ तक हो सके कार्यालय परिसर में सरकारी केंटीन हो। सभी कार्यालयों में स्पष्ट साफ-सुथरे बोर्ड हों। पब्लिक इन्फार्मेशन को एकरूपता से आकर्षक ढंग से प्रदर्शित किया जाए। गलियारों की खाली दीवारों को स्थानीय कला, संस्कृति अथवा पर्यटन स्थलों की आकर्षक फोटो से सुसज्जित कराया जाए। "फौती, नामांतरण, बंटवारा प्रकरणों को बेवजह लंबित न करें" संभागायुक्त ने कहा कि फौती, नामांतरण और बंटवारा के प्रकरणों में यथा संभव शीघ्र निर्णय दें। पटवारी बी-1 का वाचन सुनिश्चित करें। बी-1 के वाचन से ही कई प्रकरणों में आसानी से निराकरण होगा। बंटवारे के प्रकरणों को फील्ड पर जाकर मौके पर देखने के बाद ही निर्णय दें। "अवैध कॉलोनी के चिन्हित प्रकरणों में त्वरित कार्यवाही करें" उन्होंने कहा कि अवैध कॉलोनी चिन्हित प्रकरणों में त्वरित कार्यवाही करें जिन प्रकरणों में छोटी-मोटी कमियां है उन कमियों को पूरा कर तथा नियम विरूद्ध विकसित अवैध कॉलोनियां पर एसआईआर दर्ज कराकर उचित कार्यवाही कर प्रकरणों का त्वरित निराकरण करें। "लोक सेवा केन्द्रों की करें सतत् मॉनीटरिंग" संभागायुक्त ने कहा कि सभी राजस्व अधिकारी लोक सेवा केन्द्रों की सतत मॉनीटरिंग करें। आमजन को तय समय-सीमा में सेवा प्रदाय की जाए। लोक सेवा केन्द्रों में सी.सी.टीवी कैमरा लगाकर मॉनीटरिंग की जाए ताकि आमजन को मिलने वाली सेवा बिना किसी बिचौलिये के सीधे ही सुलभ रूप से प्राप्त हो सके। श्री कियावत ने कहा कि हम सब अधिकारी जनता के लिये कार्य कर रहे हैं अत: जनहित में कार्य करें। "राजस्व मामलों के त्वरित निराकरण के लिए पटवारियों की साप्ताहिक बैठक लें" कियावत द्वारा निर्देश दिये गये कि राजस्व मामलों का निराकरण करने में कार्यालयीन कार्यों के साथ साथ पटवारियों की साप्ताहिक बैठक को भी राजस्व प्रकरणों के त्वरित निराकरण का माध्यम बनायें। रिकॉर्ड प्रबंधन के बारे में उन्होंने कहा कि तहसील स्तर पर न्यायालय/ कार्यालय के रिकॉर्ड को रिकॉर्ड रूम/जिला अभिलेखागार भिजवायें। जमा अभिलेखों को व्यवस्थित स्वरूप में करवाकर रिकॉर्ड रूम में रखें। सभी तहसील कार्यालयों में सायकिल एवं अन्य वाहनों की पार्किंग व्यवस्था एवं केन्टीन की व्यवस्था महिला स्व-सहायता समूहों को दी जाए। इस व्यवस्था से महिलाओं को रोजगार के साथ-साथ् कार्यालय में आने वाले लोगों को सुविधा भी मिलेगी। पार्किंग शुल्क न्यूनतम रखा जाए। कियावत ने कहा कि कोटवारों को सशक्त बनाने के अभियान के अच्छे परिणाम आए हैं। पटेल व्यवस्था को भी सक्रिय करने और उनकी खोज-खबर लेने से उनमें भी उत्साह बढ़ा है। अनेक पटेलों ने 15-20 साल बाद उन्हें महत्व दिए जाने पर सराहना भी की है। उन्होंने कहा है कि दोनों इकाइयों को और भी मजबूत बनाएं। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश

अन्य खबरें

No stories found.