भैरवगढ़ जेल के आईसोलेट कैदी अब शा.कालिदास गर्ल्स कॉलेज में होंगे शिफ्ट
भैरवगढ़ जेल के आईसोलेट कैदी अब शा.कालिदास गर्ल्स कॉलेज में होंगे शिफ्ट
मध्य-प्रदेश

भैरवगढ़ जेल के आईसोलेट कैदी अब शा.कालिदास गर्ल्स कॉलेज में होंगे शिफ्ट

news

उज्जैन,01 अगस्त (हि.स.)। केंद्रीय जेल भैरवगढ़ में कोरोना का प्रवेश होने के बाद अभी तक 11 कैदी संक्रमण का शिकार हो चुके हैं, वहीं करीब 230 कैदियों को कलेक्टर के निर्देश पर जेल से निकालकर राम जनार्दन मंदिर क्षेत्र में नए बने शा.कालिदास गर्ल्स कॉलेज में भेजा जा रहा है। इसकी प्रक्रिया प्रारंभ हो गई है। यह निर्णय क्यों लिया गया, इसके बारे में कोई कुछ नहीं बता रहा। इतना कहा जा रहा है कि दो दिन के भीतर कैदियों को नए भवन में शिफ्ट कर दिया जाएगा। इसे लेकर शिक्षा जगत में हलचल है। जो युवतियां गल्र्स कॉलेज में पढ़ रही है और जिन्हे अभिभावक नए सत्र से प्रवेश दिलवाना चाहते हैं, उनके मन में तरह तरह के प्रश्न कौंध रहे हैं। कॉलेज भवन की सुरक्षा और गोपनीयता को लेकर भी प्रश्नचिंह लग रहे हैं,क्योंकि कैदियों के अपने आपराधिक रिकार्ड हैं। इनका कहना है... सीएमएचओ डॉ.महावीर खण्डेलवाल ने बताया कि कलेक्टर के निर्देश पर यह तय किया गया है कि उक्त कैदियों को आयसोलेट करने के लिए शा.कालिदास गल्र्स कॉलेज में भेजा जाए। जेल में इतने अधिक कैदियों को आयसोलेट नहीं कर सकते। वहां कोरोना संक्रमण का खतरा बना रहेगा। जेल अधीक्षक अलका सोनकर ने बताया कि दो दिन में कैदियों को शिफ्ट कर दिया जाएगा। चूंकि वह गल्र्स कॉलेज भवन है,ऐसे में वहां पर पुरूष कैदियों को शिफ्ट करने के पहले कुछ परिवर्तन/सुविधाएं पुरूषों के हिसाब से की जा रही है। पूर्व में पीटीएस भेजा जाना था,अब नए कॉलेज भवन में भेजेंगे। पीटीएस में व्यवस्था देख रहे अधिकारियों का कहना है कि हमने तो यहां पर तैयारी पूरी कर ली थी। यहां जगह भी बहुत है और पुलिस ट्रेनिंग सेंटर होने से सुरक्षा भी सख्त है। अब कालिदास गल्र्स कॉलेज में क्यों भेजा जा रहा है,पता नहीं। एक अभिभावक विपिन त्रिवेदी ने कहाकि कल किसी ने बताया कि उक्त कॉलेज भवन में कैदियों को रखा जाएगा। कोरोना कब तक चलेगा,पता नहीं। लड़कियों के भवन में गोपनीयता भंग होगी। टायलेट आदि भी लड़कियों के हिसाब से बने है। अन्य बातें भी ध्यान में रखना चाहिए। वहां भेजने की अनुमति कलेक्टर को निरस्त करना चाहिए। पीटीएस में क्यों नहीं भेजते,या फिर किसी धर्मशाला आदि में रख लें कैदियों को। हमारी लड़कियों में सुनकर ही भय व्याप्त है। मैं बात करूंगा प्रशासन से प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने कहाकि 5 अगस्त से कॉलेजों में प्रवेश प्रक्रिया प्रारंभ होने जा रही है। कैदियों को आयसोलेट करने के लिए यदि शा.कालिदास गल्र्स कॉलेज लिया गया तो प्रवेश प्रक्रिया और बाद में पढ़ाई आदि प्रभावित होगी। यह निर्णय कैसे लिया गया, कलेक्टर से चर्चा करूंगा। हिन्दुस्थान समाचार / ललित-hindusthansamachar.in