ayushman-scheme-becomes-a-boon-for-weaker-section-ambaram-will-get-benefit-for-the-third-time
ayushman-scheme-becomes-a-boon-for-weaker-section-ambaram-will-get-benefit-for-the-third-time
मध्य-प्रदेश

आयुष्मान योजना बनी कमजोर वर्ग के लिए वरदान, अम्बाराम को तीसरी बार मिलेगा लाभ

news

उज्जैन, 23 फरवरी (हि.स.)। आयुष्मान निरामय योजना कमजोर वर्ग के लोगों के लिये वरदान साबित हो रही है। तराना तहसील के ग्राम बरंडवा निवासी अंबाराम पुत्र चेनाजी का इस योजना योजना के अंतर्गत निशुल्क उपचार का लाभ मिलेगा। दरअसल, अम्बाराम ने मंगलवार को जनसुनवाई में आवेदन देकर कलेक्टर के समक्ष निवेदन किया कि उन्हें काफी दिनों से पेट में तकलीफ है। डॉक्टर ने जांच के दौरान बताया कि पेट का ऑपरेशन करना होगा। अंबाराम ने कहा कि वे अत्यन्त गरीब हैं तथा ऑपरेशन करवाने में सक्षम नहीं हैं। कलेक्टर आशीष सिंह ने इस पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को आवेदक के प्रकरण में मानवीय दृष्टिकोण रखते हुए आवश्यक सहायता उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। जानकारी लेने पर ज्ञात हुआ कि अंबाराम आयुष्मान कार्ड होल्डर हैं तथा पूर्व में दो बार वह अपनी बीमारी के लिये ऑपरेशन करवा चुका है। कलेक्टर ने फिर से उक्त व्यक्ति का समुचित उपचार कराने के लिये मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को टी.चोईथराम अस्पताल भेजने के निर्देश दिये। आयुष्मान कार्ड से अब अंबाराम का एक बड़े निजी अस्पताल में उपचार हो सकेगा। उल्लेखनीय है कि आयुष्मान निरामय योजना के तहत कार्डधारक एक वर्ष में अपना एवं अपने परिवार का पांच लाख रुपये तक का इलाज किसी भी निजी चिकित्सालय में जाकर करवा सकता है। एक वर्ष पूरा होने के बाद पुन: पांच लाख रुपये तक के इलाज की पात्रता उक्त परिवार को आ जाती है। जिले में अब तक पांच लाख 67 हजार आयुष्मान कार्ड बनाये जा चुके हैं। जिले में वर्तमान में 10 लाख लोग इस योजना के पात्र हैं। जो लोग पात्र हैं और उनके कार्ड नहीं बन पाये हैं वे किसी भी एमपी ऑनलाइन कियोस्क पर जाकर अपने आधार कार्ड व समग्र आईडी से पात्रता की जांच कर कार्ड बनवा सकते हैं। कलेक्टर आशीष एवं अन्य अधिकारियों द्वारा मंगलवार को जनसुनवाई में ग्रामीण अंचलों से आए लोगों की समस्याएं सुनी और उनके निराकरण के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिये। बडऩगर के ग्राम इंगोरिया निवासी धर्मेन्द्रसिंह पुत्र नागूसिंह, भारतसिंह पुत्र रूपसिंह, सायबबाई पुत्र रूपसिंह और राजेन्द्रसिंह पुत्र शंभूसिंह ने आवेदन दिया कि इंगोरिया में स्थित उनकी कृषि भूमि पर आने-जाने के लिये बनाये गये रास्ते को पड़ौस के किसान द्वारा खुदवाकर रोक दिया गया है तथा उस पर अतिक्रमण कर लिया गया है। इस वजह से उन्हें कृषि कार्य करने में बहुत परेशानी हो रही है। अत: उनका रास्ता शीघ्र खुलवाया जाये। कलेक्टर ने इस पर तहसीलदार को मामले की जांच कर आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। घट्टिया तहसील के ग्राम रूदाहेड़ा निवासी दिनेश पुत्र भेरूलाल ने आवेदन दिया कि उन्हें गांव में कृषि भूमि का पट्टा दिलवाया जाये, ताकि वे अपने परिवार का भरण-पोषण कर सकें। इस पर तहसीलदार को उचित कार्यवाही करने के निर्देश दिये गये। शहर के नीलगंगा श्रीराम कॉलोनी में रहने वाली कलावती पत्नी शंकरलाल ने आवेदन दिया कि वे बीपीएल हैं और मेहनत मजदूरी कर परिवार का भरण-पोषण करती हैं। उन्होंने नगर निगम में कई बार आवास हेतु आवेदन दिया है, परन्तु आज दिनांक तक उन्हें आवास योजना का लाभ नहीं मिल सका है। उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ दिलवाया जाये। इस पर प्रधानमंत्री आवास शाखा नगर निगम को नियमानुसार कार्यवाही करने के लिये कहा गया। इसी तरह कलेक्टर ने अन्य ग्रामीणों की समस्याओं का निराकरण के निर्देश भी दिये। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश

AD
AD