Ayush Minister Kavre and MLA Bisen inaugurated 4.83 crore buildings
Ayush Minister Kavre and MLA Bisen inaugurated 4.83 crore buildings
मध्य-प्रदेश

आयुष मंत्री कावरे और विधायक बिसेन ने 4.83 करोड़ के भवनों का किया लोकार्पण

news

बालाघाट, 09 जनवरी (हि.स.)। राज्य मंत्री आयुष एवं जल संसाधन मंत्री राम किशोर “नानो’’ कावरे की अध्यक्षता एवं पूर्व कृषि मंत्री एवं वर्तमान विधायक गौरीशंकर बिसेन के मुख्य आतिथ्य में शनिवार को ग्राम कंजई, नेवरगांव-ला, बल्हारपुर एवं खमरिया में 04 करोड़ 83 लाख्र 48 हजार रुपये की लागत से बने यूनानी औषधालय भवन एवं हायर सेकेंडरी स्कूल भवनों का लोकार्पण किया गया। विधायक बिसेन ने इस अवसर पर ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि आज कंजई को 33 लाख 48 हजार रुपये के नवीन यूनानी औषधालय भवन, नेवरगांव-ला को एक करोड़ 75 लाख रुपये के हायर सेकेंडरी स्कूल भवन, बल्हारपुर को एक करोड़ रुपये के हायर सेकेंडरी स्कूल भवन एवं खमरिया को एक करोड़ 75 लाख रुपये के हायर सेकेंडरी स्कूल भवन की सौगात मिली है। कंजई में बालाघाट जिले का पहला यूनानी औषधालय प्रारंभ किया गया है। लालबर्रा क्षेत्र में तीन नये हायर सेकेंडरी स्कूल भवन बनने ने इस क्षेत्र के छात्र-छात्राओं को अध्ययन के लिए बेहतर सुविधा मिलेगी। बिसेन ने कहा कि वर्ष 2020 कोरोना संकट में बीत गया है। कोरोना संकट के दौर में शासकीय अमले के साथ ही समाज के हर वर्ग ने बाहर से आने वाले लोगों की सेवा के लिए अच्छा काम किया है। कोराना अभी खत्म नहीं हुआ है। हमें कोरोना संक्रमण से बचने के लिए सावधानी एवं सर्तकता बरतने की जरूरत है। मंत्री कावरे ने कहा कि कोरोना संकट ने हमें परिवार एवं प्राचीन संस्कृति के महत्व को समझाया है। वर्ष 2020 जरूर कोरोना संकट में चला गया है, लेकिन वर्ष 2021 नई आशायें लेकर आया है। देश के वैज्ञानिकों ने कोरोना की वैक्सीन तैयार कर ली है। कोरोना काल में मानव की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में हमारी प्राचीन चिकित्सा पद्धतियों आयुर्वेद, होम्योपैथी एवं यूनानी ने बहुत मदद की और हम कोरोना संकट से निपटने में कामयाब रहे। आयुष विभाग देश की प्राचीन चिकित्सा पद्धतियों को फिर से स्थापित करने एवं आम जन में इन पद्धतियों के प्रति विश्वास पैदा करने के लिए नये सिरे से काम कर रहा है। जिले में बनेगा नेचुरोपैथी का रिसर्च सेंटर और 50 बिस्तर का आयुर्वेद अस्पताल मंत्री कावरे ने कहा कि कंजई में बालाघाट जिले के पहले यूनानी औषधालय का नया भवन तैयार हो गया है। हमारा प्रयास होगा कि इस औषधालय में दवाओं एवं स्टाफ की कमी न रहे। बालाघाट जिले में नेचुरोपैथी का रिसर्च सेंटर लाने का प्रयास किया जा रहा है। इसके लिए परसवाड़ा में 40 हजार वर्गफीट की जमीन तलाशी जा रही है। बालाघाट जिले में वन क्षेत्र अधिक है और जिले के जंगलों में जड़ी-बुटियां बहुतायत में उपलब्ध है। नेचुरोपैथी का रिसर्च सेंटर बनने से जिले के युवाओं को रोजगार के अवसर भी मिलेंगें। बालाघाट जिले में 50 बिस्तर के आयुर्वेद औषधालय के लिए भी प्रयास किया जा रहा है। आयुष विभाग द्वारा 100 बेड का विश्व स्तरीय योग सेंटर खजुराहों में प्रारंभ किया जा रहा है। मंत्री कावरे ने कहा कि उनके पास जल संसाधन विभाग भी है। उनका प्रयास होगा कि बालाघाट जिले को सिंचाई क्षमता बढ़ाने के लिए जल संसाधन विभाग से अधिक से अधिक काम मिले। हिन्दुस्थान समाचार / उमेद-hindusthansamachar.in