अस्पतालों में भर्ती मरीजों से चर्चा करने पहुंचे एडीएम - एएसपी

अस्पतालों में भर्ती मरीजों से चर्चा करने पहुंचे एडीएम - एएसपी
adm---asp-reached-to-discuss-patients-admitted-in-hospitals

उज्जैन, 29 अप्रैल (हि.स.)। पिछले दिनों रेमडेसीविर इंजेक्शन की काला बाजारी उजागर होने के बाद पुलिस और प्रशासन द्वारा निजी अस्पतालों पर नजर रखी जा रही है और भर्ती मरीजों के परिजनों से उनकी समस्या के पूछताछ की जा रही है। गुरुवार सुबह से एडीएम और एएसपी निजी अस्पताल के निरीक्षण पर निकल गए थे और गोपनीय निगाहें भी जमाए थे। एडीएम नरेंद्र सूर्यवंशी और अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अमरेंद्र सिंह कोरोना संक्रमण काल में लगातार शहर में भ्रमण कर रहे हैं और व्यवस्थाओं का जायजा लेकर सुधार के दिशा निर्देश भी जारी कर रहे हैं। पिछले दिनों रेमडेसीविर इंजेक्शन की देशमुख अस्पताल और मेडिकल कॉलेज के नर्सिंग स्टाफ द्वारा काला बाजारी किए जाने का मामला उजागर होने के बाद पुलिस ने 8 लोगों को गिरफ्तार कर रासुका में जेल भेज दिया था। उसके बाद से एडीएम और एएसपी लगातार निजी अस्पतालों पर अपनी गोपनीय नजर भी बनाए हुए हैं। समय-समय पर अस्पतालों का निरीक्षण भी किया जा रहा है। इसी क्रम में आज सुबह दोनों अधिकारी देशमुख अस्पताल पहुंचे और वहां सबसे पहले मरीजों को लगाने के लिए जारी किए गए रेमडेसीविर इंजेक्शन की जानकारी अस्पताल प्रबंधन से ली। भर्ती मरीजों के परिजनों से चर्चा की और उनकी समस्याओं का समाधान अस्पताल प्रबंधन से कराया गया। दोनों ही अधिकारी उसके बाद गुरु नानक अस्पताल पहुंचे जहां से मरीजों के परिजनों की गोपनीय शिकायत उन तक पहुंच रही थी। शिकायतों को लेकर उन्होंने अस्पताल प्रबंधक को फटकार लगाई और कहा कि आगे से कोई शिकायत उन तक नहीं पहुंचना चाहिए। लोग परेशान हैं जिनकी मदद हर संभव करना हमारा कर्तव्य है। दोनों अधिकारी अस्पताल की व्यवस्थाओं का जायजा ले रहे थे तभी शिकायत मिली कि अस्पताल द्वारा रुपयों को लेकर परिजनों के सुपुर्द शव नहीं किया जा रहा है। दोनों अधिकारियों ने अस्पताल प्रबंधन से चर्चा कर परिजनों को डेड बॉडी दिलवाई। समाचार लिखे जाने तक दोनों ही अधिकारियोंं का निजी अस्पतालों में भ्रमण जारी था। दोनोंं अधिकारी भर्ती मरीजों के परिजनों से उनकी समस्याओं से अवगत हो रहे थे। कुुछ की समस्याओं का मौके पर ही निराकरण किया गया कुछ की समस्या को नोट किया गया है। इनका कहना है हमारे द्वारा समय-समय पर अस्पतालों का निरीक्षण किया जा रहा है। मरीजों की परेशानियों को सुनकर उनका निराकरण भी कराया जा रहा है। अस्पताल प्रबंधकों को अच्छा उपचार और उनके कर्तव्यों के निर्वहन के निर्देश दिए जा रहे हैं। नरेंद्र सूर्यवंशी, एडीएम हिंदुस्थान समाचार/गजेंद्र सिंह तोमर