आचार्य महाश्रमणजी 17 जून को रतलाम जिले की सीमा में प्रवेश करेंगे

आचार्य महाश्रमणजी 17 जून को रतलाम जिले की सीमा में प्रवेश करेंगे
acharya-mahashramanji-will-enter-the-limits-of-ratlam-district-on-june-17

रतलाम,16 जून (हि.स.)। राजकीय अतिथि तेरापंथ के 11 वें आचार्य महाश्रमणजी तीन देश व 51 हजार कि.मी. की अहिंसा यात्रा लेकर अभी म.प्र. प्रवास पर है, इसी के साथ झाबुआ जिले की यात्रा पूर्ण कर 17 जून गुरूवार को रतलाम सीमा में प्रवेश करेंगे। मालवा सभा के मंत्री कमलेश बम ने यह जानकारी देते हुए बताया कि रतलाम जिले के ग्राम रानीसिंग में प्रात: 9 बजे आचार्य श्री धवल सेना के साथ रतलाम की सीमा में प्रवेश करेंगे। वे रानीसिंग,मुंदड़ी, छतरी, बिरमावल, रेनमऊ, धराड़ होते हुए 22 जून को रतलाम में प्रवेश करेंगे। आप 22,23 एवं 24 जून को रतलाम में ही प्रवास करेंगे तत्पश्चात 25 को नामली, 26 को हसनपालिया, 27 को जावरा, 28 को रिछांचांदा, 29 को कचनारा, 30 को दलोदा तथा 1 जुलाई को मंदसौर, 2 जुलाई सकोड़ा, 3 को मल्हारगढ़, 4 को भाटखेड़़ा, 5 को नीमच, 7 को जावद, 8 को नयागांव, 9 को निम्बाहेड़ा, 10 को मांगरोल, 11 को अरनियापंथ तथा 12 जुलाई को चित्तौडग़ढ़ पहुंचेंगे, जहां से भीलवाड़ा राजस्थान की ओर प्रस्थित होंगे। श्री बम ने बताया कि रतलाम जिले के प्रवेश के समय सांसद गुमानसिंह डामोर, विधायक दिलीप मकवाना, विधायक हर्षविजय गेहलोत सहित प्रतिनिधिगण आचार्यश्री की अगवानी करेंगे। उल्लेखनीय है आचार्य महाश्रमणजी 17 वर्षों के पश्चात आचार्य के रुप में इस क्षेत्र में पधारे है। इसके पूर्व युवाचार्य के रुप में आचार्य महाप्रज्ञजी के साथ यहां पधार चुके है। वर्तमान में यात्रा में 27 संत व 11 सतियों का विहार चल रहा है। कुछ संत रतलाम में पूर्व में ही पधार चुके है। अहिंसा यात्रा का उद्देश्य नेतिकता,सद्भावना, नशामुक्ति का प्रचार-प्रसार करना है। हिन्दुस्थान समाचार/शरद जोशी

अन्य खबरें

No stories found.