शारदीय नवरात्रि के प्रथम दिन पीतांबरा पीठ मन्दिर पर उमड़ा भक्तों का सैलाब
शारदीय नवरात्रि के प्रथम दिन पीतांबरा पीठ मन्दिर पर उमड़ा भक्तों का सैलाब
मध्य-प्रदेश

शारदीय नवरात्रि के प्रथम दिन पीतांबरा पीठ मन्दिर पर उमड़ा भक्तों का सैलाब

news

रतनगढ़ माता मंदिर पर किये भक्तगणों ने दर्शन दतिया, 17 अक्टूबर (हि.स.)। शारदेय नवरात्रि की शनिवार से शुरुआत हो चुकी है, देवी माता के मंदिरो में भक्तो का आना शुरू हो गया। वहीं शहर में जगह-जगह छह फुट की माता को विराजमान किया। कोरोना के चलते पण्डाल में सोशल डिस्टेंस का पूरा पालन किया गया। जिसमें 100 से अधिक लोग नहीं दिखे। वहीं नवरात्रि के प्रथम शनिवार पड़ने पर पीताम्बरा पीठ पर माँ धूम्रवती के दर्शनों हेतु सुबह 4 बजे से ही भक्तों का पहुंचना प्रारंभ हो गया, परन्तु अधिक भीड़ के चलते माँ धूमवती माई की आरती के बाद ही 8030 बजे मंदिर का मुख्यद्वार खोल गया। तब तक लोग सैंकड़ो की संख्या में खड़े रहे। यहाँ तक कि आधे किलो मीटर तक लोगों की लम्बी लाईन लगी रही। मुख्यद्वार खोलने के बाद भक्तों को बारी-बारी से सोशल डिस्टेंस के अनुसार प्रवेश मिला, और बिना साधना किये माई के दर्शन उपरांत बाहर निकाला। श्रद्धा के आगे कोरोना वायरस के भय का प्रभाव माता के भक्तों पर दिखाई नहीं पड़ता। पीतांबरा पीठ सहित शहर के अन्य देवी मंदिरों पर नवरात्रि के प्रथम दिन सुबह से ही भक्तों की भीड़ देखने को मिली। हालांकि जिला प्रशासन द्वारा सभी माता मंदिरों को खोलने के निर्देश दिए गए थे परंतु मंदिर प्रशासन द्वारा कोरोना वायरस के डर के चलते मंदिरों के प्रवेश द्वार आम लोगों के लिए नहीं खोले गए। जहां शहर के बड़ी माता मंदिर पर नवरात्रि के दिनों में भारी संख्या में महिलाएं सुबह से जल चढ़ाने के लिए जाती हैं जहां माता मंदिर के मुख्य दरवाजे पर ताला लगा देखकर उन्हें भी आश्चर्य हुआ कि प्रशासन के आदेश के बावजूद भी मंदिर के दरवाजे नहीं खोले गए ऐसी स्थिति में महिलाओं ने मंदिर के दरवाजे पर जल चढ़ाकर माता रानी को नमन किया। नवरात्रि के दिनों में पीतांबरा पीठ, रतनगढ़ वाली माता, खैरी वाली माता, विजय काली बड़ी माता मंदिर सहित अन्य सभी मंदिरों पर 9 दिन तक मां के भक्तों का मेला सा लगा रहता है। जिला प्रशासन द्वारा मां पीतांबरा पीठ एवं रतनगढ़ माता मंदिर पर सुरक्षा के विशेष प्रबंध किए किये गये। शेष अन्य मंदिरों पर सुरक्षा प्रबंध ना के बराबर होते हैं जिसके चलते यहां अधिक भीड़ हो जाती है। जिला प्रशासन द्वारा कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन कराने के लिए मंदिर प्रबंधन से कहा गया था परंतु मंदिरों पर लोग बिना मास्क लगाए नजर आए और ना ही कोई सोशल डिस्टेंसिंग का पालन रतनगढ़ मंदिर कमेटी द्वारा नवरात्रि में मंदिर के द्वार खोले जाने का निर्णय लिया गया, जिसके पश्चात पुलिस अधीक्षक द्वारा मंदिर पर भारी संख्या में सुरक्षा बल की तैनाती की गई जिससे कि यहां आम लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया जा सके। मंदिर एवं आम भक्तों की सुरक्षा भी बनी रहे। कलेक्टर बी विजय दत्ता एवं पुलिस अधीक्षक गुरूकरण सिंह ने आज से शुरू हुए शारदीय नवरात्रि पर्व को ध्यान में रखते हुए मां पीताम्बरा पीठ मंदिर एवं काली माता मंदिर टाउनहाल पर की जाने वाली व्यवस्थाओं का जायजा लिया और कहा कि मां पीताम्बरा के दर्शन हेतु आने वाले श्रृद्वालु केाविड 19 की गाइड लाइन का पूर्ण रूप से पालन करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग भी रखें। उन्हेंने कहा कि मंदिर के प्रवेश द्वार पर श्रृद्वालुओं की थर्मल स्क्रीनिंग कर एवं आधार कार्ड का भी परीक्षण करें। हिन्दुस्तान समाचार / संतोष तिवारी-hindusthansamachar.in