शहर में जलप्रदाय की जर्जर व्यवस्था को लेकर नागरिकों में रोष, दिया ज्ञापन
शहर में जलप्रदाय की जर्जर व्यवस्था को लेकर नागरिकों में रोष, दिया ज्ञापन
मध्य-प्रदेश

शहर में जलप्रदाय की जर्जर व्यवस्था को लेकर नागरिकों में रोष, दिया ज्ञापन

news

रतलाम, 16 अक्टूबर (हि.स.)। नगर की जर्जर जलप्रदाय व्यवस्था के साथ ही पटरी पार क्षेत्र में 3 से 4 दिन में जलप्रदाय करने, 5-5 घंटे देरी से जलप्रदाय करने की घोषणा से आमजन में काफी रोष व्याप्त है। निगम अधिकारियों की कार्य करने की शैली से आमजन विगत एक वर्ष से परेशान हैं। जलप्रदाय में व्याप्त विसंगतियों को दूर कर क्षेत्र में पूर्ण प्रेशर से जलप्रदाय करने की मांग को लेकर नगर निगम जलप्रदाय कमेटी के पूर्व प्रभारी तथा पूर्व पार्षद पवन सोमानी ने पूर्व पार्षद श्रैणिक जैन के साथ शुक्रवार को प्रशासक तथा कलेक्टर को ज्ञापन दिया। सोमानी ने ज्ञापन में बताया कि जलप्रदाय में जिम्मेदार अधिकारियों की घोर लापरवाही के कारण पटरी पार क्षेत्र के 1 लाख से अधिक की जनसंख्या को जल संकट का सामना करना पड़ रहा है। माईक की उद्घोषणा के बाद भी समय पर जल उपलब्ध नहीं होना तथा निर्धारित समय से कई घंटों बाद जलप्रदाय होता है। जल वितरण की कमियों को तत्काल दूर कर समय पर साफ पानी पूर्ण प्रेशर से उपलब्ध हो इसके निर्देश दिए जाने की मांग ज्ञापन में की गई। साथ ही यह भी बताया गया कि नगर निगम में कार्यरत मैदानी कार्य करने वाले कर्मचारी बहुत ही मेहनती है,जल वितरण की समस्त जानकारी उन्हें रहती है, उनके बताए अनुसार ही अधिकारी संज्ञान में लेकर कार्य करें तो बहुत हद तक जल वितरण की समस्या का निदान हो सकता है और आर्थिक नुकसान से भी निगम को बचाया जा सकता है। सोमानी ने धोलावाड़ योजना के द्वितीय चरण यूआईडीएसएसएमटी योजना का भी जिक्र किया जो वर्ष 2014 में पूर्ण हो गई थी, जिससे 50 लाख गेलन पानी अतिरिक्त मिलना प्रारंभ हो गया था, उसके बाद भी जलप्रदाय विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों की उदासीनता के कारण पानी की समस्या निरंतर बनी हुई है, जगह-जगह पाईप लाईन लिकेज है,कर्मचारी पेट्रोलिंग नहीं करते, ट्रांसफार्मर जलना, वाल्ब का टूटना ऐसी छोटी-छोटी समस्या पर तत्काल संज्ञान नहीं लिए जाने के कारण समस्या विकराल हो जाती है । निगम का लाखों रुपये का व्यय इस पर हो रहा है, फिर भी जलप्रदाय व्यवस्था ज्यो की ज्यो बनी हुई है। उन्होंने बताया कि सिवरेज कंपनी की खुदाई के कारण जगह-जगह से पाइप लाईन का फूटना फिर सही ढंग से रिपेयरिंग नहीं होने से कस्तुुरबा नगर क्षेत्र से मटमेले पानी की समस्या केसाथ क्षेत्र की जनता को गंदा पानी मिल रहा है, जिससे संक्रमण रोग फैलने का खतरा बना हुआ है। उन्होंने शहर में डाली गई पाईप लाईन को भी तकनीकि कारण से अनुचित बताया और यह भी कहा कि शहर के बाहरी क्षेत्रों में भी दूर-दूर तक पाईप लाईन बिछा दी गई, जहां आवसीय बस्ती नहीं है। पाईप लाईन बिछाने में तकनीकि कमी होने से जगह-जगह पाईप लाईनें फूट रही है। शहर में लगभग 100 से अधिक स्थानों पर पाईप लाईन लिकेज है या गड्डे खुले पड़े है, जिससे दुर्घटना का खतरा बना रहता है। हिन्दुस्थान समाचार/ शरद जोशी-hindusthansamachar.in