विकास के कार्य आत्मा और गहरी सोच से होते हैं - खाद्य मंत्री
विकास के कार्य आत्मा और गहरी सोच से होते हैं - खाद्य मंत्री
मध्य-प्रदेश

विकास के कार्य आत्मा और गहरी सोच से होते हैं - खाद्य मंत्री

news

अनूपपुर, 20 दिसम्बर (हि.स.)। विकास के कार्य आत्मा और गहरी सोच से होते हैं। वह उस दिशा में लगातार प्रयास कर रहे हैं। यह बात रविवार को कोतमा में 50 बिस्तर का अस्पताल के निर्माण कार्यों का भूमिपूजन करते हुए खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति तथा उपभोक्ता संरक्षण मंत्री बिसाहूलाल सिंह ने कही। उन्होंने कोतमा समेत अनूपपुर जिले के चहुंमुखी विकास का भरोसा दिलाते हुए कहा है कि जब हम कोतमा के विकास के प्रयास करेंगे तो यह कस्बा विकास से पीछे नहीं छूटेगा, बल्कि इसका निरंतर विकास होता रहेगा। आश्वस्त किया कि मेरे पास जब भी कोई जनप्रतिनिधि कोतमा क्षेत्र के विकास के प्रस्ताव लेकर आयेगा, तो मैं उन विकास कार्यों को अमलीजामा पहनाने का पूरा प्रयास करूंगा। अनूपपुर जिले में 40जार ऐसे लोग थे जिनके पास राशन पर्ची नहीं थी। उनको राशन उपलब्ध कराने के लिए पात्रतानुसार उनकी राशन पर्चियां बनवाई गईं, ताकि उनको 1 रुपये किलो की दर से अनाज मिल सके। इस मौके पर 115 लाख रुपये लागत के शिवसागर तालाब के सौंदर्यीकरण समेत पथरौड़ी से गढ़ी पहुंच मार्ग का उन्नयन कार्य, अनूपपुर कोतमा बायपास बसखली चौराहा तक सीमेंट कंक्रीट मार्ग और सोल्डर डिवाईडर, डामरीकरण तथा वार्ड नं. 1, 2, 8, 10, 11 तथा 13 में सड़क डामरीकरण के कार्य शामिल हैं। खाद्य मंत्री ने मध्यप्रदेश सरकार के जनोन्मुखी प्रयासों को रेखांकित करते हुए कहा कि राज्य सरकार गरीब, अनुसूचित जाति, जनजाति एवं किसानों के कल्याण को लेकर लगातार काम कर रही है और इन वर्गों को तमाम सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। केन्द्र सरकार के कृषि कानूनों का जिक्र करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री जी ने किसानों की भलाई के लिए कृषि सुधार के कानून बनाये है। कानून के अनुसार किसान जहां चाहेंगे अपनी उपज अधिक कीमत मिलने पर बेच सकेंगे। यह अधिक कीमत चाहे मण्डी में मिले अथवा मण्डी के बाहर मिले, किसान जहां चाहे वहां बेच सकेंगेे। उन्होने कहा कि किसानों को अपनी उपज का मूल निर्धारण करने का पूरा अधिकार है। खाद्य मंत्री ने कहा कि मैं कोतमा, पुष्पराजगढ़ एवं अनूपपुर क्षेत्र का समग्र विकास करना चाहता हूं। इसके विकास के लिए नागरिक मुझे अपने सुझाव दें। कोतमा क्षेत्र का विकास कैसे किया जाये, यह हमें सोचना चाहिए और इसके लिए जनप्रतिनिधियों और नागरिकों को अपने मूलभूत सुझावों से मुझे अवगत कराना चाहिए। उन्होंने स्मरण कराया कि जब मैं लोक निर्माण मंत्री था तो मैने एक हफ्ते में कोतमा में डामर रोड बनवा दिए थे। मैं चाहता हूं कि कोतमा बड़ा कस्बा और व्यापारिक स्थल के रूप में विकसित हो। इसके लिए जनप्रतिनिधि मेरे पास जब भी विकास संबंधी प्रस्ताव लायेंगे मैं उनको अमलीजामा पहनाने के पूरे प्रयास करूंगा। कार्यक्रम में कलेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर, विधायक सुनील सराफ, नगरपालिका अध्यक्ष मोहिनी वर्मा, बृजेश गौतम तथा जनप्रतिनिधिगण उपस्थित रहें। हिन्दुस्थान समाचार/ राजेश शुक्ला-hindusthansamachar.in