लोकसेवक कर रहे पार्टी का प्रचार, भाजपा ने की चुनाव आयोग से शिकायत
लोकसेवक कर रहे पार्टी का प्रचार, भाजपा ने की चुनाव आयोग से शिकायत
मध्य-प्रदेश

लोकसेवक कर रहे पार्टी का प्रचार, भाजपा ने की चुनाव आयोग से शिकायत

news

भोपाल, 15 अक्टूबर (हि.स.)। भारतीय जनता पार्टी ने चुनाव आयोग से आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायतें की हैं। भाजपा के प्रदेश महामंत्री एवं चुनाव प्रबंधन समिति के उपसंयोजक भगवानदास सबनानी, प्रदेश प्रवक्ता राहुल कोठारी, विधि प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक संतोष शर्मा सहित प्रतिनिधिमंडल ने लिखित शिकायत आयोग को सौंपी। चुनाव आयोग से की गई शिकायत में कहा गया है कि कांग्रेस नेता जे.पी. धनोपिया वर्तमान में म.प्र. पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष हैं। पिछडा वर्ग आयोग के अधिनियम अनुसार आयोग के अध्यक्ष का पद लोकसेवक की क्षेणी में आता है। उक्त अधिनियम की धारा 10 के अनुसार आयोग को सिविल कोर्ट की शक्तियां प्राप्त होती हैं। भारतीय दण्ड विधान की धारा 21 के अंतर्गत ये स्पष्ट है कि कोई भी लोकसेवक किसी भी राजनीतिक दल इत्यादि का सदस्य नहीं हो सकता और न ही उसे कोई राजनीतिक दल के प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष प्रचार-प्रसार इत्यादि करने का कोई अधिकार रहता है। यदि वह ऐसा करता है तो वह विधि अनुसार दंडनीय कृत्य होगा। इसके बावजूद म.प्र. पिछड़ा वर्ग आयोग के अध्यक्ष जे.पी. धनोपिया द्वारा लोकसेवक होते हुए भी कांग्रेस नेता के रूप में कांग्रेस पार्टी की ओर से लगातार चुनाव प्रचार किया जा रहा है। साथ ही वे कांग्रेस पार्टी के प्रभारी चुनाव आयोग कार्यप्रतिनिधि स्वरूप स्व हस्ताक्षरित शिकायतें एवं आवेदन भी चुनाव आयोग में प्रस्तुत कर रहे हैं, जिससे अधिनियमों का उल्लंघन प्रथम दृष्टया प्रमाणित है। भाजपा ने आयोग में की शिकायत में जे.पी. धनोपिया को आयोग की नामांकित सूची से तत्काल विलोपित करने तथा लोकसेवा अधिनियम के उल्लंघन के आधार पर उनको तत्काल उनके पद से बर्खास्त करने व एफआईआर दर्ज कराने की मांग की है। राष्ट्र ध्वज का किया दुरूपयोग भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने एक अन्य शिकायत में कहा है कि कांग्रेस पार्टी द्वारा उपचुनाव 2020 में कांग्रेस के चुनाव प्रचार हेतु एक प्रोमो-वीडियो जारी किया है, जिसे कांग्रेस द्वारा पार्टी के फेसबुक पेज, आफिशियल पोर्टल व अन्य संपूर्ण सोशल प्लेटफार्म पर भी प्रचारित-प्रसारित किया जा रहा है। इसकी शुरूआत में ही भारतीय राष्ट्रीय ध्वज का प्रयोग किया गया है, जबकि नियमानुसार चुनाव प्रचार के लिए राष्ट्रीय ध्वज का प्रयोग बाधित है एवं इस प्रकार राष्ट्रीय ध्वज का प्रयोग करके प्रचारित एवं प्रसारित प्रोमो आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन होकर दण्डनीय अपराध है। हिन्दुस्थान समाचार/केशव दुबे-hindusthansamachar.in