लोकतंत्र को सशक्त बनाने के लिए जरूरी है दायित्वबोध : एपी सिंह
लोकतंत्र को सशक्त बनाने के लिए जरूरी है दायित्वबोध : एपी सिंह
मध्य-प्रदेश

लोकतंत्र को सशक्त बनाने के लिए जरूरी है दायित्वबोध : एपी सिंह

news

प्रमुख सचिव ने प्रशिक्षु आईएएस अधिकारियों को दी विधानसभा संचालन प्रक्रियाओं की जानकारी भोपाल, 05 नवम्बर (हि.स.)। भारतीय प्रशासनिक सेवा (मध्यप्रदेश संवर्ग) 2019 बैच के परीवीक्षाधीन (प्रशिक्षु) अधिकारियों ने गुरुवार को विधानसभा भवन पहुंचकर विधायिका एवं विधासभा सचिवालय की कार्यप्रणाली का अध्ययन किया। इस अवसर पर विधानसभा के प्रमुख सचिव अवधेश प्रताप (एपी) सिंह ने प्रशिक्षु आईएएस अधिकारियों को मार्गदर्शन भी प्रदान किया। प्रमुख सचिव एपी सिंह ने प्रशिक्षु अधिकारियों को विधानसभा की कार्यप्रणाली की जानकारी देते हुए कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था में विधानपालिका और कार्यपालिका दोनों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। निर्वाचित जनप्रतिनिधि हो या कार्यपालिका के अधिकारी, सभी को अपने दायित्वों का बोध होना अत्यंत आवश्यक है। सशक्त लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए आवश्यक है कि हम सभी अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन पूरी ईमानदारी से करें। उन्होंने परीवीक्षाधीन अधिकारियों को बताया कि विधानपालिका में संवैधानिक प्रावधानों के अनुरूप शासन को चलाने के लिए नियम एवं कानून बनाए जाते हैं तथा राज्य के विकास एवं जनकल्याण की योजना के लिए आर्थिक प्रावधान के लिए बजट की व्यवस्था भी की जाती है। विधायिका द्वारा निर्मित योजनाओं, नियमों एवं व्यवस्थाओं के माध्यम से प्रदेश का समुचित विकास हो और जनकल्याणकारी योजनाओं का सफलतापूर्वक क्रियान्वयन हो सके इसकी जिम्मेदारी कार्यपालिका की होती है। एपी सिंह ने परीवीक्षाधीन अधिकारियों को विधानसभा कार्यवाही के अंतर्गत प्रश्नकाल, ध्यानाकर्षण, शून्यकाल, स्थगन प्रस्ताव जैसी महत्पूर्ण प्रक्रियों के बारे में सूक्ष्मता से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि प्रश्नकाल विधानसभा की सबसे महत्पूर्ण प्रक्रिया में से एक है। इसके अंतर्गत निर्वाचित विधायक अपने क्षेत्र की समस्याओं से संबंधित प्रश्न सरकार के मंत्रियों से पूछते हैं, एवं सदन में मंत्री उनका जवाब देते हैं। उन्होंने तारांकित एवं अतारांकित प्रश्नों के बारे में भी परीवीक्षाधीन अधिकारियों को बताया। इस अवसर पर प्रशासन अकादमी की संचालक सोनाली पोक्षे वायंगणकर, वित्त संचालक नितिन नांदगांवकर एवं परीवीक्षाधीन अधिकारियों में अक्षत जैन, आकाश सिंह, दलीप कुमार, गुन्चा सनोबर, हिमांशु प्रजापति, काजल जावला, नवजीवन विजय पंवार, निधि सिंह, श्रेयांश कुमट एवं सृष्टि जयंत देशमुख मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार / मुकेश-hindusthansamachar.in