रस्मी तौर पर होगा रावण का दहन, न मेला लगेगा, न गरबे होंगे और ना ही निकलेंगे चल समारोह
रस्मी तौर पर होगा रावण का दहन, न मेला लगेगा, न गरबे होंगे और ना ही निकलेंगे चल समारोह
मध्य-प्रदेश

रस्मी तौर पर होगा रावण का दहन, न मेला लगेगा, न गरबे होंगे और ना ही निकलेंगे चल समारोह

news

रतलाम, 14 अक्टूबर (हि.स.)। आने वाले त्यौहारों पर भी कोरोना गाईड लाईन का प्रभाव नजर आएगा। बुधवार को हुई शांति समिति की बैठक में कलेक्टर गोपालचंद डाड एवं पुलिस अधीक्षक गौरव तिवारी ने स्पष्ट रुप से कहा कि रतलाम शांति का टापू है। हमें पारम्परिक त्यौहार सौहार्दपूर्ण माहौल में मनाना है, लेकिन कोरोना वायरस के प्रभाव का भी ध्यान रखना है और शासन द्वारा दी गई गाईडलाईन का भी हमें पालन करना है, ताकि कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप को रोका जा सके। सम्पूर्ण जिले में एक ही समय रावण दहन होगा, लेकिन चल समारोह नहीं निकलेंगे। बैठक में नवरात्रि, दशहरा, ईद मिलादुन्नबी, दीपावली, गुरु नानक जयंती, क्रिसमस आदि त्योहारों के आयोजन के संबंध में विचार-विमर्श किया गया। कलेक्टर ने स्पष्ट किया कि इस बार नवरात्रि पर गरबों का आयोजन प्रतिबंधित किया गया है। नवरात्रि में लगने वाला मेला भी स्थगित रहेगा। नवदुर्गा प्रतिमा के लिए पाण्डाल का आकार 30 बाय 45 फीट निर्धारित किया गया है। झांकी स्थल पर श्रद्धालुओं, दर्शकों की भीड़ एकत्रित नहीं हो तथा फिजिकल डिस्टेंस का पालन हो इसकी व्यवस्था आयोजकों को सुनिश्चित करना होगी। मूर्ति विसर्जन संबंधित आयोजन समिति द्वारा की जाएगी। मूर्ति विसर्जन के लिए स्थान निर्धारित कलेक्टर ने बताया कि मूर्ति विसर्जन के लिए झाली तालाब, हनुमान ताल तथा त्रिवेणी कुंड स्थल निर्धारित किए गए। यहां से नगर निगम द्वारा वाहन से प्रतिमाओं को सेजावता बाईपास स्थित तालाब पर ले जाकर ससम्मान विसर्जित किया जाएगा। वाहनों के साथ आयोजकों के वालंटियर रहेंगे। मूर्ति को विसर्जन स्थल पर ले जाने के लिए अधिकतम 10 व्यक्तियों के समूह को अनुमति होगी, इसके लिए आयोजकों को पृथक से जिला प्रशासन से अनुमति प्राप्त करना होगी। मिट्टी की हो देवी प्रतिमाएं यह भी स्पष्ट किया गया कि चल समारोह निकालने की अनुमति नहीं होगी। रावण दहन के लिए श्रीराम का आगमन केवल प्रतिकात्मक होगा, इसके लिए भी बैठक में चर्चा कर आयोजन को सिमित रुप में गाईड लाईन के अनुसार निर्धारित किया गया। साथ ही यह भी कहा गया कि देवी की प्रतिमाएं प्लास्टिक ऑफ पेरिस की नहीं होना चाहिए इसके स्थान पर मिट्टी से निर्मित मूर्तियों का इस्तेमाल किया जाए। व्यस्त बाजारों पर पुलिस की होगी निगाह आने वाले त्यौहारों को दृष्टिगत रखते हुए माणकचौक क्षेत्र को नो विकल्प झोन की व्यवस्था करने के निर्देश माणकचौक थाना प्रभारी को दिए। अन्य प्रमुख बाजारों में पुलिस बल तैनात कर एकांगी मार्ग निर्धारित करने तथा वाहनों का प्रवेश प्रात: 9 से रात्रि 9 बजे तक प्रतिबंधित करने का निर्णय लिया गया। बाजारों में दुकानों के बाहर अव्यवस्थित रुप से रखे सामान को व्यवस्थित करने के निर्देश भी दिए गए, ताकि यातायात बाधित न हो। त्यौहार के दिनों में धार्मिक स्थलों की साफ-सफाई, पानी की व्यवस्था , सड़कों पर पर्याप्त रोशनी की व्यवस्था, शराब पीकर वाहन चलाने वालों पर कड़ी कार्रवाई, दो पहिया वाहन पर पति-पत्नी एवं बच्चों को छोड़कर तीन सवारी बैठाने पर कार्रवाई करने के भी निर्देश दिए गए। आरती का समय निर्धारित होगा नवरात्रि में अष्टमी,नवमी पर कालिका माता मंदिर, सातरूण्डा माता मंदिर, गढख़ंखई माताजी मंदिर पर श्रद्धालुओं की भीड़ को देखते हुए महिला एवं पुरूष पुलिस बल की व्यापक व्यवस्था करने का भी निर्णय लिया गया, साथ ही माताजी की आरती का एक समय निर्धारित करने के संबंध में भी विचार कर अंतिम रुप दिया गया। 48 घंटे में मिल जाएगी अनुमतियां कलेक्टर ने कहा कि कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए शासन द्वारा जारी की गई गाइड लाइन का अनिवार्य रूप से पालन त्योहारों के दौरान किया जाएगा। विभिन्न अनुमतियां 48 घंटे में मिल जाएंगी। अनुमतियों के लिए शहरी क्षेत्र में एसडीएम तथा ग्रामीण क्षेत्र में तहसीलदार के यहां आवेदन दिया जा सकेगा। अवमानना करने वालों के विरूद्ध कार्रवाई होगी पुलिस अधीक्षक ने कहा कि आयोजन समिति को अपने आयोजन के संबंध में संपूर्ण जानकारी देना होगी। डीजे के संबंध में सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी गाइड लाइन एवं निर्देशों का पालन सुनिश्चित किया जाएगा। डीजे संचालकों से पूर्व से ही बॉन्ड भरवाए जाएंगे। कलेक्टर ने कहा कि कानून व्यवस्था बनाए रखी जाएगी, इसकी अवमानना करने वाले के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार/ शरद जोशी-hindusthansamachar.in