मुख्यमंत्री चौहान ने 18 जिलों की 107 नल-जल योजनाओं का किया वर्चुअल शिलान्यास
मुख्यमंत्री चौहान ने 18 जिलों की 107 नल-जल योजनाओं का किया वर्चुअल शिलान्यास
मध्य-प्रदेश

मुख्यमंत्री चौहान ने 18 जिलों की 107 नल-जल योजनाओं का किया वर्चुअल शिलान्यास

news

जनप्रतिनिधियों और जल स्वच्छता समितियों के सदस्यों से हुई चर्चा भोपाल, 14 अक्टूबर (हि.स.) । मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि ग्रामों के निवासियों के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जल जीवन मिशन के तहत हर घर में स्वच्छ जल पहुंचाने की पहल की है। उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल जी ने जहां प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के माध्यम से हर गांव को पक्की सड़क से जोड़ने का अनूठा कार्य किया, वहीं वर्तमान प्रधानमंत्री मोदी गांव-गांव तक हैंडपंप के स्थान पर टोंटी से जल प्रदाय का महत्वपूर्ण कार्य निर्धारित अवधि में करवाने के लिए संकल्पबद्ध हैं। इसके लिए प्रधानमंत्री मोदी बधाई और धन्यवाद के पात्र हैं। उक्त बातें मुख्यमंत्री चौहान ने बुधवार को पेयजल योजनाओं का वर्चुअल शिलान्यास/भूमिपूजन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। मुख्यमंत्री चौहान ने राजधानी भोपाल स्थित मिंटो हाल स्टूडियो से प्रदेश के उन 18 जिलों की 107 ग्रामीण पेयजल योजनाओं का वर्चुअल भूमिपूजन किया, जहां उपचुनाव नहीं हो रहे हैं। मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में अक्सर माताएं और बहनें ही घर के लिए पेयजल के प्रबंध का कार्य करती हैं इसलिए उन्हें इन पेयजल योजनाओं के क्रियान्वित होने से विशेष राहत मिलेगी। आगामी छह महीनों में योजनाओं का क्रियान्वयन पूरा होगा। चौहान ने पेयजल योजनाओं के सफल और संचालन और संधारण के लिए ग्रामवासियों से अंशदान देने का भी आव्हान किया। संसाधनों पर पहला अधिकार ग्रामीणों का मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि एक समय ग्रामों में लोग बैलगाड़ी और अन्य साधनों से दो-तीन किलोमीटर दूरी से पीने का पानी लेकर आते थे। नदियों के किनारे बसे ग्रामों के निवासी भी मटकों और अन्य जलपात्रों में पानी जमा करके रखते थे। मिट्टी नीचे बैठ जाने के बाद पानी को छान कर उपयोग में लाया जाता था। इस सबके बाद भी कईं जलजनित रोग फैलते थे। पश्चिम मध्यप्रदेश के आदिवासी बहुल जिलों में फ्लोराइडयुक्त पानी की समस्या का सामना करना होता है। अब नल-जल योजनाओं के क्रियान्वयन से ग्रामीण आबादी को स्वस्थ बनाए रखने में भी सहयोग मिलेगा। ग्रामीण लोगों का संसाधनों पर पहला हक होता है। मुख्यमंत्री चौहान ने इन जिलों में विद्यालयों और आंगनबाड़ी केन्द्रों तक भी योजना के तहत स्वच्छ पेयजल प्रदाय की व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। कार्यक्रम में जानकारी दी गई कि आने वाले तीन वर्ष में प्रधानमंत्री के संकल्प के अनुसार ग्रामों में हर घर में स्वच्छ पेयजल प्रदाय का लक्ष्य पूरा होगा। इस दिशा में मध्यप्रदेश सरकार समयबद्ध कार्यक्रम के अनुसार क्रियान्वयन कर रही है। मुख्यमंत्री चौहान ने युवाओं से अपना उद्यम प्रारंभ करने का भी आव्हान किया। 18 जिलों में 107 योजनाएं मुख्यमंत्री चौहान ने जिन 18 जिलों में 107 पेयजल योजनाओं का भूमि पूजन किया, उनमें बैतूल जिले की 12, सीहोर जिले की 13, विदिशा जिले की 2, झाबुआ जिले की एक, खरगोन जिले की 8, बड़वानी जिले की 5, उज्जैन जिले की 6, शाजापुर जिले की 2, श्योपुर जिले की 2, दमोह जिले की 4, पन्ना जिले की एक, टीकमगढ़ जिले की 3, नरसिंहपुर जिले की 6, मंडला जिले की 2, सतना जिले की 4, छिंदवाड़ा जिले की 12, बालाघाट जिले की 17 तथा सिवनी जिले की 7 पेयजल योजनाएँ शामिल हैं। ये योजनाएं कुल 117 करोड़ रुपये की लागत की हैं। ये सभी पेयजल योजनाएँ चुनाव अप्रभावित जिलों की हैं। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने सांसद जीएस डामोर, कैलाश सोनी, खनिज निगम अध्यक्ष प्रदीप जायसवाल के साथ ही वीडियो कांफ्रेंसिंग से सीहोर, बालाघाट, नरसिंहपुर, झाबुआ, उज्जैन आदि जिलों के ग्रामीणों, जल एवं स्वच्छता समिति के सदस्यों, जनप्रतिनिधियों एवं ग्रामवासियों से भी चर्चा की। इस दौरान मुख्यमंत्री चौहान ने ग्राम जल एवं स्वच्छता समितियों में महिलाओं की भागीदारी की जानकारी सुनिश्चित करने को कहा। समिति सदस्यों में 40 से 50 प्रतिशत महिलाएं शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने राशि वितरण, किसानों को सम्माननिधि की राशि के संबंध में भी जानकारी प्राप्त की। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मलय श्रीवास्तव ने योजना के पहलुओं के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। हिन्दुस्थान समाचार / उमेद-hindusthansamachar.in